अवसाद से दूर रखने में मददगार होता है व्‍यायाम

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 29, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

व्‍यायाम रखता है अवसाद को दूरहल्‍का व्‍यायाम, जैसे पैदल चलना और बागवानी, आदि दीर्घकाल में अवसाद से बचाने में मददगार हो सकता है। शोधकर्ताओं, जिनमें भारतीय मूल का एक शोधकर्ता भी शामिल है, ने कहा कि रोजाना 20 से 30 मिनट तक व्‍यायाम व्‍यक्ति के मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए काफी फायदेमंद होता है।



कनाडा स्थित टोरंटो यूनिवर्सिटी ने पहली देशांतरीय समीक्षा में इस बात पर ध्‍यान केंद्रित किया कि आखिर कैसे व्‍यायाम एक स्‍वस्‍थ मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य बनाए रखने में मदद करता है और बाद के जीवन में अवसाद को कैसे रोकता है।

शोधार्थी जॉर्ज मेमन की समीक्षा का पर्यवेक्षण प्रोफेसर गाय फॉक्‍नर ने किया। डॉक्‍टर फॉक्‍नर इस शोध के सह-लेख भी हैं।

 

इसमें 26 वर्षों से भी अधिक से किए गए विभिन्‍न शोधों के निष्‍कर्ष के निष्‍कर्ष की समीक्षा कर यह पता लगाने का प्रयास किया गया कि क्‍या शारीरिक गतिविधियां (रोजाना 20 से 30 मिनट पैदल चलना अथवा बागवानी करना) हर आयु वर्ग के लोगों को अवसाद से बचा सकती हैं।

 

मेमन ने माना कि अवसाद के लिए व्‍यक्ति की अनुवांशिक बनावट सहित कई अन्‍य कारणों की भूमिका होती है। लेकिन अनुसंधान के मूल्‍यांकन के बाद यह बात स्‍पष्‍ट हो जाती है कि व्‍यायाम करने से हर किसी को अवसाद से निपटने में सहायता मिलती है, भले ही उनका निजी जीवन कैसा ही रहा हो।

 

मेमन ने कहा कि आपको इस बात का भी खयाल रखना चाहिए कि अगर आप फिलहाल शारीरिक रूप से सक्रिय हैं, तो भविष्‍य में भी आपको इसे कायम रखना चाहिए। और अगर आप अभी शारीरिक रूप से सक्रिय नहीं हैं, तो आपको अपनी यह आदत बदलने की जरूरत है। उन्‍होंने आगे कहा कि इस शोध से यह बात साबित हो चुकी है कि शारीरिक रूप से एक्टिव रहने के फायदे केवल शरीर तक ही सीमित नहीं हैं।

यह स्‍टडी अमेरिकन जर्नल ऑफ प्रिवेंटिव मेडिसन में प्रकाशित हुई है।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES1 Vote 1007 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर