विषाक्तता के बारे में जानें और समझें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 24, 2009
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • विषाक्तता का उपचार ही है उसकी रोकथाम।
  • इसमें इंसान अचानक हो जाता है बीमार।
  • ऐसे में श्वास औऱ नाड़ी गतिविधि की जांच करें।
  • जल्द से जल्द चिकित्सा सहायता लें।

विषाक्तता की रोकथाम इसके उपचार का सबसे अच्छा तरीका है। अपके बच्चे को विषाक्तता निगलने, इंजेक्शन लगाने, सांस लेने, या एक जहरीले पदार्थ के संपर्क में रहने हो सकती है। विषाक्तता के उपचार में, गति महत्वपूर्ण है, लेकिन सही कार्रवाई करना भी महत्वपूर्ण है।

यदि आपका बच्चा अचानक किसी अस्पष्ट कारण के बीमार हो जाता है तो शक विषाक्तता पर जाएगा। विषाक्तता के मामले में यह निर्धारित करना महत्वपूर्ण है;

  • आपका बच्चा किसके संपर्क में था।
  • शरीर का कौन सा हिस्सा प्रभावित हुआ।

Toxins

कभी कभी, विषाक्तता के लक्षण विकसित होने में समय लग सकता है। हालांकि, अगर आपको बच्चे के विषाक्त होने का शक है तो डॉक्टर से परामर्श करने के लिए लक्षणों का इंतजार न करें। यदि आपका बच्चा बेहोश है, या सांस लेने में कठिनाई, या आक्षेप हो रहे हैं तो देरी किए बिना प्राथमिक उपचार करें। विषाक्तता में प्राथमिक उपचार वास्तविक उपचार से पहले आपके बच्चे की जान बचा सकता है।

विषाक्तता होने पर, प्राथमिक उपचार शुरू करने से पहले आप किसी को सूचित कर दें और सलाह के लिए अपने स्थानीय दवा सूचना केंद्र की मदद लें।


विषाक्तता के लिए प्राथमिक उपचार

  • अपने बच्चे की परिसंचलन के लक्षणों जैसे श्वास, गतिविधि, नाड़ी गतिविधि की जांच करें। अगर परिसंचलन के लक्षण मौजूद नहीं हैं तो कार्डियोपल्मोनरी रिसुसीटेशन (सीपीआर) तुरंत शुरू करें।
  • जहर की पहचान करने का प्रयास करें।
  • उल्टी प्रेरित न करें।
  • यदि आपका बच्चा उल्टी करे तो वायु-मार्ग बचाने की कोशिश करें। अपने बच्चे का मुंह और गला कपड़े को अपनी उँगलियों के चारों ओर लपेट कर साफ करें।
  • जल्द से जल्द चिकित्सा सहायता लें। चिकित्सा सहायता इंतज़ार करते हुए बच्चे को उसके बाईं ओर की स्थिति में रखें।
  • यदि विष से त्वचा या कपड़े गंदे हो गए हों तो कपड़ों को हटा दें और त्वचा को पानी से धोएं।

 

अंतः श्वसन विषाक्तता के लिए प्राथमिक उपचार

  • अगर वहां जाना आप के लिए सुरक्षित है तो अपने बच्चे को गैस, धुएं के खतरे से बचाएं। यदि संभव हो तो धुआं निकालने के लिए खिड़कियां और दरवाजे खोल दें।
  • अपने बच्चे की परिसंचलन के लक्षणों जैसे श्वास, गतिविधि, नाड़ी, गतिविधि की जांच करें। अगर परिसंचलन के लक्षण मौजूद नहीं हैं तो तुरंत कार्डियोपल्मोनरी रिसुसीटेशन शुरू (सीपीआर) करें।
  • बर्न्स, आंख की चोटों, या आक्षेप के लिए आवश्यक प्राथमिक उपचार दें।
  • यदि आपका बच्चा उल्टी करे तो वायु-मार्ग बचाने की कोशिश करें। अपने बच्चे का मुंह और गला कपड़े को अपनी उँगलियों के चारों ओर लपेट कर साफ करें।

 

सावधानी

 

अगर आपका बच्चा बिल्कुल ठीक दिखता है तो एक डॉक्टर से परामर्श करें। लेकिन, आप सुनिश्चित करें;

  • बच्चे को बेहोशी की हालत में मौखिक रूप से कुछ न दें।
  • उल्टी कराने का प्रयास न करें। यदि आप अपने डॉक्टर ने उल्टी करवाने की सलाह दी है केवल तभी ऐसा करें।
  • जहर को बेअसर करने के लिए नींबू का रस या सिरका जैसे अन्य पदार्थ न दें जब तक आपका चिकित्सक इसकी सलाह न दें।
  • ‘सभी इलाज’ करने वाला कोई प्रतिकारक न दें।
  • यदि आपको विषाक्तता का संदेह है तो लक्षणों के दिखाई देने की प्रतीक्षा न करें।

 

Write a Review
Is it Helpful Article?YES10761 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर