अपनी भावनाओं पर कैसे पायें नियंत्रण

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 13, 2011
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • हमारे व्यक्तित्व का अभिन्न अंग है, भावनाएं।
  • भावनाओं में आसानी से बह जाते हैं लोग।
  • ऑफिस और निजी जिंदगी में संतुलन बनाये।
  • भावनात्मक रूप से मजबूत होना चाहिए।

दरअसल भावनाएं हमारे व्यक्तित्व का अभिन्न अंग है। हमारे दिमाग के दो मुख्य हिस्से है एक जो तार्किक है, हर चीज को तर्क के हिसाब से ही देखता है और दूसरा भावनात्मक, जिसका तर्क से दूर-दूर तक का कोई रिश्ता ही नहीं है।

चाहे आफिस जाने वाले लोगों की बात करें या कालेज जाने वाले किशोरों की, जब आप किसी के साथ लंबे समय तक रहते हैं या काम करते है तो उसके साथ आपका भावनात्मक जुड़ाव हो जाता है। खासकर लड़कियों की भावनात्मक स्थिति ऐसी होती है कि वे भावनाओं में आसानी से बह जाती हैं। भावनात्मक जुड़ाव ज्यादातर स्थितियों में अनजाने ही होते है। लेकिन अपने पर नियंत्रण रखते हुए भावनात्मक दूरी बनाई जा सकती है। आइए जानें कैसे आप भावनात्मक लगाव पर नियंत्रण कैसे पा सकते हैं।

emotional attachment in hindi

काम और निजी जीवन में संतुलन  

चाहे आप कालेज जाने वाले किशोर हों या आफिस जाने वाले युवक या युवती हों, आपको अपने काम के स्थान और अपनी निजी जिंदगी के बीच संतुलन बनाकर रखना चाहिए।

  

भावनात्मक रूप से मजबूत

आपको मानसिक और भावनात्मक रूप से मजबूत होना चाहिए जिससे आप किसी भी प्रकार के भावनात्मक लगाव पर नियंत्रण पा सकें। ऑफिस में अनजान व्यक्तियों से भावनात्मक जुड़ाव कम ही होना चाहिए। ऐसा करके आप अपने काम को बखूबी निभा सकेंगे साथ ही आफिस की गासिप से भी बच सकते हैं।

 

भावनाओं में बहकर निर्णय न लें

महिला हो या पुरूष उन्हें भावनाओं में बहकर निर्णय न लेकर व्यवहारिक होते हुए किसी भी नतीजे पर पहुंचना चाहिए। किसी से मित्रता करने में कोई बुराई नहीं है लेकिन इसका ये मतलब नहीं कि मित्रता के चक्कर में अपने दोस्त की गलत बातों में भी हां में हां मिलाई जाए।

strong woman in hindi


अतिरिक्त सतर्क रहें

महिलाओं को खासतौर पर अतिरिक्त सतर्क रहने की जरूरत होती है। जब भी कोई महिला अपने काम में सफल होती है तो हर किसी को अच्छा लगता है और लोग प्रभावित होकर उसकी तरफ दोस्ती का हाथ तक बढ़ा देते है लेकिन इसमें समझदारी दिखाना ही अच्छा रहता है। किसी से भी मित्रता बढ़ाने के पहले उसकी पिछली पृष्ठभूमि पता कर लेनी चाहिए। ताकि बाद में होने वाले तनाव और अन्य समस्याओं से बचा जा सकें।


जिंदगी में सुकून, शांति से रहने और सफल होने के लिए जरुरी है की हम उपयुक्त निर्णय ले सके और इसके लिए जरुरी है की हम भावनात्मक रूप से मजबूत हों।


Image Source : Getty

Read More Articles on Relationship in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES5 Votes 44106 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर