घरेलू उपचार की मदद से दूर करें आई स्टाई

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jul 02, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • आई स्टाई आंखों में होने वाला एक प्रकार का इंफेक्शन है।
  • स्टाई के इलाज के लिए धनिये के बीज बहुत प्रभावी होते हैं।
  • आईब्राइट जड़ी-बूटी व कमाल की प्राकृतिक एंटीसेप्टिक है।
  • ग्रीन टी बैग स्टाई के इलाज में भी बेहद कारगर होती है।

अक्सर हम प्रकृति के दिए गए उपहारों की अनदेखी करते हैं, लेकिन जब यही उपहार हमसे छिन जाते हैं, तो इनकी अमूल्यता का हमें बोध होता है और हम पश्चाताप करने लगते हैं। लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी होती है। जी हां आंखें भी प्रकृति द्वारा हमें दिया गया एक ऐसा ही अनमोल उपहार है जिससे हम दुनिया की सुंदरता का अवलोकन कर आनंदित होते हैं। इसलिए इनकी सुरक्षा एवं स्वास्थ्य के लिए सजग रहना हमारे लिये प्राथमिकता पर होना चाहिए। लेकिन कई बार आंखों की समस्याएं हमें आ घेरती हैं। ऐसी ही एक समस्या है आई स्टाई (Eye Sty)। दरअसल आई स्टाई आंखों में होने वाला एक प्रकार का इंफेक्शन है जिसमें पलक पर या आंख के निचले भाग में एक लाल रंग की चोट जैसी दिखती है। हालांकि ये स्टाई हानिरहित होते हैं, इनमें वे खुजली या दर्द भी हो सकता है। इसलिये हम आपको बता रहे हैं आई स्टाई से छुटकारा पाने के कुछ आसान घरेलू उपचार।  


धनिये के बीज

स्टाई के इलाज के लिए धनिये के बीज बहुत प्रभावी होते हैं। उपचार के लिए सबसे पहले पानी में धनियों के कुछ बीज डालें और उबाल लें। अब बीडों को पानी से छानकर बाहर कर दें और इस पानी से आंखों को धोएं। इस उपचार को दिन में कई बार दोहराएं, जल्द ही स्टाई की समस्या दूर हो जाएगी।  

 

Remedies for an Eye Sty in Hindi

 

रेंड़ी का तेल

रेंड़ी के तेल में कुछ ऐसे कमाल के हाइड्रेटिंग गुण होते हैं जो स्टाई की समस्या को जल्द दूर कर सकते हैं। उपचार के लिए प्रभावित क्षेत्र पर अरंडी के तेल की कुछ बूंदें डालें और धीरे-धीरे मसाज करें। कुछ मिनटों के लिए इसे छोड़ दें और फिर कुनकुने पानी से धो दें। बेहतर परिणाम के लिए इस क्रिया को दिन में कई बार दोहराएं।


गुलाब जल

आंखों में संक्रमण के लिए गुलाबजल अच्‍छा उपचार होता है। संक्रमण या स्टाई से बचने के लिए 2 से 3 बूंदें गुलाबजल आंखों में डालने से तीन दिन के अंदर ही संक्रमण को प्रभावी ढंग से ठीक किया जा सकता है। ये आंखों को साफ रखने के साथ - साथ अन्हें तरो-तजा बनाता है उनकी थकान भी दूर करता है।

 

आईब्राइट

आईब्राइट एक जड़ी-बूटी होने के साथ-साथ प्राकृतिक एंटीसेप्टिक भी है। जो संक्रमित ऊतकों का इलाज करता है। इसका सेवन लालमिर्च के साथ करने से यह संक्रमण पर तुरंत काम करता है।

 

Remedies for an Eye Sty in Hindi

 

लहसुन का रस

लहसुन के रस में जीवाणुरोधी गुण होते हैं, जो आई स्टाई को दूर करने में मददगार होते हैं। उपचार के लिए ताजा लहसुन का रस स्टाई पर लगाएं, लेकिन ध्यान रहे कि कैसे भी यह रस आंख के भीतर न जा पाए। सूख जाने पर इसे हल्के कुनकुने पानी से धो दें। इससे न केवल दर्द कम होगा बल्कि सूजन भी जाती रहेगी।   


खीरा

खीरे में मौजूद एंटी-इर्रिटेशन गुण आंखों में सूजन, जलन और खुजली को कम करने में मदद करते हैं। आंखों में एलर्जी होने पर एक खीरे को धोकर उसके पतले स्‍लाइस काट लें। इन स्‍लाइस को 15-20 मिनट के लिए फ्रीज में रख दें, फिर इनको अपनी आंखों पर रखें। इस प्रक्रिया को एक दिन में 4-5 बार दोहराएं।

 

ग्रीन टी बैग

ग्रीन टी के कई स्‍वास्‍थ्‍य लाभ होते हैं और यह स्टाई के इलाज में भी बेहद कारगर होती है। यह आंखों में एलर्जी के लिए भी फायदेमंद होता है। आई स्टाई को ठीक करने के लिए एक कुनकुने टी बैग को स्टाई की जगह रख दें और ठंडा होने तक वहीं रखा रहने दें। इससे दर्द तो जल्द दूर होगा ही साथ ही सूजन भी कम हो जाएगी। इसके अलावा एक कप पानी में दो ग्रीन टी को डाल कर उबालें, फिर इसे पूरी तरह से ठंडा होने के लिए रख दें। इससे मिश्रण से आंखों को दिन में दो बार तब तक धोएं जब तक समस्‍या का समाधान न हो जाएं।

 

एलोवेरा

एलोवेरा आंखों की समस्‍याओं के लिए एक सरल और प्रभावशाली घरेलू उपचार है। यह स्टाई को भी ठीक करता है उपचार के लिए एलोवेरा जूस को शहद और एल्डरबेर्री चाय के साथ मिलाकर इस द्रव्य मिश्रम से आंखों को दिन में दो बार धोने से न सिर्फ आंखों से आई स्टाई की समस्या दूर होती है बल्कि आंखें साफ और सुंदर भी होती हैं।




आंखों को स्वस्थ एवं सशक्त बनाए रखने में त्रिफला जल भी काफी गुणकारी है। आप आम दिनों में भी इसकी मदद से आंखओं साफ और रोग मुक्त रख सकते हैं। इसके प्रयोग के लिए किसी साफ-सुथरे मिट्टी या फिर स्टील के पात्र में दो चम्मच त्रिफला चूर्ण रात्रि एक गिलास पानी में भिगो कर, प्रात: स्वच्छ हाथों से खूब मलकर साफ कपड़े में छान लें। अब इस जल से आंखों को धीरे-धीरे छींटे मारकर धोना चाहिए जिससे प्राकृतिक पोषण मिलता है।

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES30 Votes 7661 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • chanchal30 Mar 2015

    Thanx for lots of tips of home remedies on eye care.

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर