क्‍या है एडि़यों का दर्द और क्‍यों सताता है आपको

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 01, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • इनसानी पैर में कुल 26 हड्डियां होती है।
  • एड़ी में दर्द के कई कारण हो सकते हैं।
  • चलते समय वजन का 1.25 भार झेलता है पैर।
  • आमतौर पर एड़ी का दर्द खुद ही ठीक हो जाता है।

एडि़यों में दर्द होना सामान्‍य बात है। इसमें पीड़ित को मुख्‍य रूप से एड़ियों के नीचे या उसके पीछे दर्द होता है।

हालांकि एड़ियों में दर्द काफी गंभीर हो सकता है। कई बार यह दर्द आपका संतुलन भी बिगाड़ सकता है। लेकिन, बहुत कम मामलों में यह स्‍वास्‍थ्‍य के लिए किसी प्रकार की मुश्किल खड़ी कर सकता है। एड़ियों में दर्द आमतौर पर अपने आप ही ठीक हो जाता है। हालांकि, अगर यह दर्द लंबे समय तक कायम रहे तो यह काफी तेज और परेशान करने वाला भी हो सकता है।


इनसानी पैर में कितनी हड्डियां

इनसान के पैर में कुल 26 हड्डियां होती हैं। इसमें से एड़ी की हड्डी (कैलकेनियस) सबसे बड़ी होती है। इनसानी की एड़ी की हड्डी को कुदरती रूप से शरीर का वजन उठाने और संतुलन के उद्देश्‍य से तैयार किया गया है। जब हम पैदल चलते या दौड़ते हैं तो यह उस दबाव को झेलती है जो पैर के जमीन पर पड़ने के बाद उत्‍पन्‍न होता है। और इसके साथ ही यह हमें अगले कदम की ओर धकेलती भी है।

swelling in heel in hindi


कितना वजन झेलता है पैर

जानकारों का कहना है कि पैदल चलने पर हमारे पैरों पर शरीर के वजन का 1.25 गुना अधिक दबाव पड़ता है। वहीं दौड़ते समय 2.75 गुना अधिक दबाव हमारे पैरों को झेलना पड़ता है। नतीजतन, एड़ी के क्षतिग्रस्‍त होने और उसमें चोट लगने की आशंका सबसे अधिक होती है।


दर्द के कारण

अधिकतर मामलों में एड़ी में दर्द यांत्रिक कारणों से होता है। यह अर्थराइटिस, संक्रमण, ऑटो इम्‍यून परेशानी, न्‍यूरोलॉजिकल समस्‍याओं अथवा किसी अन्‍य परेशानी से हो सकती है। हो सकता है कि पूरे शरीर को प्रभावित करने वाली समस्‍या के कारण भी एड़ी में दर्द हो सकता है।

 

प्‍लांटर फेसकिटिस

इस परिस्थिति में प्‍लांटर फेसिका में सूजन आ जाती है। प्‍लांटर फेसिका मजबूत बंधन होता है, जो एड़ी की हड्डी से होकर पैरों के अगले हिस्‍से तक जाता है। जब इस बंधन को बहुत अधिक खींचा जाता है तो इसके कोमल उत्‍तकों में सूजन आ जाती है। यह सूजन आमतौर पर उस हिस्‍से में आती है, जहां यह एड़ी के साथ जुड़ा होता है। कई बार यह समस्‍या पैर के बीच वाले हिस्‍से में भी आ जाती है। पीडि़त को पैर के निचले हिस्‍से में दर्द होता है। खासतौर पर काफी देर आराम करने के बाद यह दर्द ज्‍यादा होता है। कुछ मरीजों में यदि स्‍नायुजाल सख्‍त हो जाए, तो उनकी पिण्‍डली की मांसपेशियां खिंच जाती हैं।

हील बरसिटिस

इस परिस्थिति में एड़ी के पिछले हिस्‍से में सूजन आ जाती है। इस हिस्‍से को बरसा  (bursa) कहा जाता है। यह एक रेशेदार कोश होता है जिसमें तरल पदार्थ भरा होता है। टाइट जूते पहनने से भी एड़ी के हिस्‍से पर अधिक दबाव आ जाता है, जिस कारण सूजन की यह समस्‍या हो सकती है। इसमें दर्द या तो एड़ी के बहुत अंदर महसूस होता है या फिर एड़ी के पिछले हिस्‍से में। कभी-कभार स्‍नायुजाल में सूजन आ जाती है। और दिन बढ़ने के साथ-साथ दर्द भी बढ़ता चला जाता है।

swelling in heel


हील बम्‍पस

किशोरावस्‍था में यह समस्‍या आम है। यह परिस्‍थिति तब होती है जब एड़ी की हड्डी पूरी तरह परिपक्‍व हुए बिना जरूरत से ज्‍यादा घिस जाती है। जिन लोगों के पैर सपाट होते हैं, आमतौर पर उन्‍हें इस तरह की समस्‍या होती है। इसके साथ ही वे महिलायें जो हड्ड‍ियां परिपक्‍व होने से पहले ऊंची एड़ी पहनना शुरू कर देती हैं, उन्‍हें भी इस प्रकार की समस्‍या हो सकती है।


ट्रासल टनल सिंड्रोम

इसमें पैर के पिछले हिस्‍से की नस पर दबाव पड़ता है। या वह नस फंस जाती है। इसे एक प्रकार की संपीड़न न्‍यूरोपैथी कहा जा सकता है, जो या तो टखने या पैर में होती है।

heel swelling in hindi


स्‍ट्रेस फेक्‍चर

यह फेक्‍चर एड़ी पर लगातार आवश्‍यकता से अधिक दबाव पड़ने के कारण होता है। आमतौर पर ऐसा दबाव गहन व्‍यायाम, खेल और भारी शारीरिक श्रम के कारण होता है। धावकों कों ऐसा फ्रेक्‍चर होने का खतरा अधिक होता है। उन्‍हें पैरों की प्रपदिकीय हड्डी में यह फ्रेक्‍चर होता है। यह परेशानी ऑस्‍टीयोपोरोसिस के कारण भी हो सकती है।


बीमारियां

बच्‍चों और किशोर एथलीटों में एड़ी में दर्द की बड़ी वजह एड़ी की हड्डी का आवश्‍यकता से अधिक इस्‍तेमाल होता है। 7 से 15 वर्ष के बच्‍चों में यह समस्‍या अधिक देखी जाती है।

 

Image Courtesy- Getty Images

Write a Review
Is it Helpful Article?YES231 Votes 20294 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • nirmal 28 Sep 2016

    i have read your article, it is very good.

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर