धूम्रपान छोड़ना चाहते हैं तो करें मछली का सेवन

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 13, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

eating fish helps in quit smoking in hindi हम जानते हैंं कि धूम्रपान हमारी सेहत के लिए अच्‍छा नहीं, बावजूद इसके इसकी लत इतनी आसानी से नहीं छूटती। तमाम प्रयास नाकाम हो जाते हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि इस आदत से छुटकारा पाने के लिए भला क्‍या किया जा सकता है। अगर आप भी धूम्रपान छोड़ना चाहते हैं, तो मछली आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकती है। एक ताजा शोध में यह बात सामने आयी है।

 

मछली खाने से दिमाग तेज होता है, यह बात तो आपने कई बार सुनी होगी। लेकिन क्‍या आपको पता है कि मछली खाने से सिगरेट की लत भी छूटती है। इस्राइल के यूनिवर्सिटी ऑफ हैफा के हालिया शोध में यह बात साबित की गयी है।

मछली या उसका तेल खाने वाले  लोगों में सिगरेट पीने की इच्‍छा कम हो जाती है। दरअसल मछली में पाये जाने वाले ओमेगा-3 की वजह से ऐसा संभव होता है। वैज्ञानिकों ने बताया कि दिमाग की कुछ खास तंत्रिका कोशिकायें खुशी और संतुष्टि वाले अहसास का संदेश भेजती हैं।

 

जिनके मस्तिष्‍क में ओमेगा-3 का स्‍तर न्‍यूनतम होता है, उनमें इन तंत्रिकाओं का आकार बदल जाता है और संदेश सही जगह नहीं पहुंच पाता। इसका असर इच्‍छाओं को नियंत्रित रखने की ताकत पर भी होता है। ओमेगा-3 का स्‍तर कम होने की वजह से ऐसे लोग सिगरेट पीने की इच्‍छा को नजरअंदाज नहीं कर पाते।

 

Image Courtesy- Getty Images

 

Source- Mirror.co.uk

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES3 Votes 807 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर