फिट रहने के लिए अपने शरीर के हिसाब से लें आहार

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jul 23, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • सही पोषण के लिए शरीर के प्रकार को समझना जरूरी होता है।
  • शरीर को मुख्‍य रूप से तीन प्रकारों में बांटा जा सकता है।
  • एंडोमार्फी शरीर पर आमतौर फैट बहुत ज्‍यादा होता है।
  • नि‍यमित रूप से पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन का सेवन करना चाहिए।

पौष्टिक भोजन की गुत्‍थी इतनी आसान भी नहीं जितनी की नजर आती है। इसे सुलझाना कई बार कड़ी चुनौती हो जाता है। कई बार हम यह समझ नहीं पाते कि आखिर कौन सा आहार हमारे लिए कितना उपयोगी है और किस आहार से दूरी ही हमारे लिए अच्‍छी रहेगी।

वास्‍तव में सही पोषण के लिए जरूरी है कि आप अपने शरीर को समझें। अपने शरीर को समझे और जाने बिना आप सही भोजन नहीं ले सकते। अपने शरीर के प्रकार को जानने और उसके हिसाब से सही आहार लेकर स्‍वस्‍थ रहना आपके लिए आसान हो जाएगा।

Ectomorphic in hindi
हमारे शरीर को मुख्‍य रूप से एक्‍टोमार्फ, मिसोमार्फ और एंडोमार्फ में बांटा जा सकता है। दैनिक आहार दिनचर्या में कुछ जरूरी बदलाव कर आप अपने शरीर और मन पर सकारात्‍मक असर डाल सकते हैं। इसके साथ ही इससे आपको वजन कम करने में भी मदद मिलेगी। आइए सबसे पहले शरीर के प्रकार के बारे में जानकारी हासिल करते हैं।

शरीर के प्रकार

एक्‍टोमार्फी

एक्‍टोमार्फी शरीर वाले लोग दुबले पतले होते हैं और ऐसे लोग वजन बढ़ाने के लिए संघर्ष कर रहे होते हैं। इस प्रकार के लोगों की कद-काठी ज्‍यादा भारी भरकम नहीं होती। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि उनकी डायट कम होती है। इनके बॉडी में फैट न के बराबर होता है। ऐसे लोग काम करने में काफी फुर्तीले होते हैं। और कुछ लोग कड़ी मेहनत और समर्पण के साथ अपने सपनों की काया प्राप्त करने में सफल होते हैं।

मिसोमार्फी

मिसोमार्फी प्रकार के शरीर वाले लोग आमतौर पर फिट होते हैं। इस तरह के शरीर वाले लोग प्राकृतिक रूप से मजबूत होते है, और बाद में फिट रहने का काफी प्रयास भी करते हैं। शरीर पर ध्‍यान देना इनका मुख्‍य कार्य होता है। नियमित रूप से एक्‍सरसाइज और स्वस्थ जीवन शैली को अपनाकर ऐसे लोग पुष्टता और वजन को बनाये रखते हैं।

Mesomorphic in hindi

एंडोमार्फी

एंडोमार्फी शरीर पर आमतौर फैट बहुत ज्‍यादा होता है, और यह वजन कम करना का प्रयास करते रहते हैं। ऐसे लोगों की हड्डियां शरीर में नजर नहीं आती। ऐसे लोग बहुत तेजी से मोटे होते हैं और काफी प्रयास के बाद भी दुबले नहीं हो पाते हैं। इनकी मासंपेशियां मजबूत होती हैं लेकिन शरीर में बहुत ज्‍यादा ताकत नहीं होती है। एण्डोमार्फ शरीर वाले लोगों को फैट कम करने के लिए प्रतिरोध प्रशिक्षण और कार्डियो प्रशिक्षण के दौरान संभव रूप में कैलोरी जलने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

पुरुषों और महिलाओं के लिए वजन घटाना

पुरुष और महिलाओं दोनों के लिए वजन घटाना बहुत ही आसान होता है। बस जरूरत है कुछ बातों पर ध्‍यान देने की। जैसे ए‍क दिन में उपभोग से अधिक कैलोरी जलाना और सामान्‍य भाग से अधिक छोटे आकार में भोजन लेना।

कैलोरी तथ्य:

प्रोटीन 4 कैलोरी प्रति ग्राम
कार्बोहाइड्रेट 4 कैलोरी प्रति ग्राम
वसा 9 कैलोरी प्रति ग्राम
एल्‍कोहल 7 कैलोरी प्रति ग्राम

शक्कर, आपके आहार में इसकी कोई जगह नहीं है। क्‍योंकि डेयरी उत्पादों के साथ शुगर आपके आहार में पहले से ही हैं। साथ ही कुछ सरल शुगर जैसे केले, अनानास और कुछ फल आपके आहार का आदर्श हिस्‍सा है। जो मसल्‍स को रिपेयर करता है।


ऐसे ही मीठा आलू, ब्राउन चावल, ड्राई ग्रील्ड चिकन ब्रेस्‍ट, ड्राई ग्रील्ड फिश और अंडे के सफेद हिस्‍से के रूप में जटिल कार्बोहाइड्रेट और उच्च प्रोटीन को अपने आहार में जरूर शामिल करें। इसके अलावा जैतून के तेल, नट, मूंगफली तेल, कनोला तेल और ऐवोकेडो के रूप में असंतृप्त वसा को अपने आहार में जरूर शामिल करें।

Andomarfi in hindi
डाइटिंग के समय आपको बहुत अधिक भूख महसूस नहीं होनी चाहिए। इसलिये हर दो से तीन घंटे के बाद भोजन लेना सबसे महत्‍वपूर्ण होता है। प्रत्येक दिन पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन लेना चाहिए। लगभग 1 से 1.5 ग्राम प्रोटीन प्रति किलो वजन कम करने के उद्देश्य के लिए एक अच्छी संख्या है। इस तरह से जिस व्‍यक्ति का वजन 65 किग्रा होता है, उसे नियमित रूप से कम से कम 65 ग्राम प्रोटीन का उपभोग करने की जरूरत होती है।

किसी भी प्रकार का कम कैलोरी आहार वजन कम करने के लिए मददगार होता हैं। लेकिन अधिक पौष्टिक विकल्प ऊर्जा के स्तर को बनाये रखने के साथ आपकी त्‍वचा और शरीर को भी स्वस्थ बनाता है। साथ ही यह स्थायी आहार जीवन शैली अधिक स्थायी आहार जीवन शैली और पोषणीय वजन प्रदान करने में मदद करेगा।

एक कम कार्बोहाइड्रेट आहार, तब तक काम नहीं करता जब तक कोई अपने दिमाग से इस बात को न मान लें कि यें लो  कार्बोहाइड्रेट आहार है, जीरो कार्बोहाइड्रेट आहार नहीं। जटिल कार्बोहाइड्रेट चयापचय को विनियमित करने और इंसुलिन से बचने के लिए रक्त शर्करा के स्तर को स्थिर करने में मदद करता हैं। जब इंसुलिन का स्तर बहुत उच्च होता हैं, तो आपका शरीर "भंडारण" मोड पर चला जाता है। और ग्‍लाइकोजन के रूप में शरीर के उन सभी हिस्‍सों में जाकर फैट जमा कर देता है, जहां पर आप अतिरिक्त ग्लाइकोजन नहीं चाहते हैं। इसके अलावा कार्बोहाइड्रेट पानी बनाए रखता है। लेकिन लो कार्बोहाइड्रेट आहार अतिरिक्त पानी की कमी के कारण शुरुआत के रूप में कार्य करता है।

Image Courtesy : Getty Images

Read More Articles on Healthy Eating in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES30 Votes 4489 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर