बच्‍चों की नजर तेज करने के आसान उपाय

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 17, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • जन्‍म के बाद बच्‍चों की नजर की करायें जांच।
  • जन्‍म से 4 माह तक कमरे में रोशनी मंद रखें।
  • बच्‍चों को इलेक्‍टॉनिक गजैट से दूर ही रखें।
  • आंखों और हाथ का तालमेल बनाना भी सिखायें।

आंखें अनमोल होती हैं, इनके बिना संसार अधूरा है। इसलिए इनकी देखभाल में कोताही नहीं बरतनी चाहिए। बच्‍चों की आंखों का विशेष ध्‍यान रखना चाहिए। और समय के साथ उनकी जांच भी कराते रहना चाहिए। क्‍योंकि वर्तमान में अधिक टीवी देखने और गैजेट्स का इस्‍तेमाल करने के कारण उनकी आंखें कमजोर हो रही हैं और उनको देखने में समस्‍या हो रही है। कुछ बातों का ध्‍यान रखकर आप अपने बच्‍चे की रोशनी को आसानी से बढ़ा सकते हैं।
Children's Eyesight in Hindi

नियमित जांच करायें

बच्चों में आंखों या नजर से सम्बंधित कोई बड़ी समस्या न होने पर भी उनके आंखों की नियमित जांच करवानी चाहिए। बच्चे की नजर सही रूप से विकसित हो रही है या नहीं, पेरेंट्स को इस पर ध्यान देना चाहिए। बच्चों की दृष्टि में खराबी के कई कारण हो सकते हैं। ऐसे में पेरेंट्स को बच्चों में आंखों से संबंधित समस्‍यायों को जरूर देखना चाहिए। यदि कुछ संदेह लगता है तो डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

जन्‍म से 4 माह तक

बच्‍चे के पैदा होने से 4 माह तक रात्रि में बच्चे के कमरे में रोशनी मंद रखनी चाहिए। चमकीली रोशनी का सीधे बच्चे की आंखों में जाना सही नहीं है। पेरेंट्स को खास तौर से इस पर ध्यान देना चाहिए। आप बच्चे के पलंग की दिशा भी बदल सकते हैं, इससे हर बार उनका विजन बदलेगा। मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक खिलौने आदि से बच्‍चों को दूर ही रखें। इसके अलावा जब आप बच्चे को खिलाते रहें या उससे बातें करते रहें तो कमरे में चलते रहें। इससे वे आपको आपकी आवाज से ढूंढेंगे, जो कि नजर के लिए अच्छा है।
Eyesight in Hindi

5 से 8 माह के बच्चे

बच्‍चा जब बड़ा होने लगता है तब गलत आदतें अपनाने से भी उसकी रोशनी कमजोर हो सकती है। 5 माह से बड़े बच्‍चे पालने के ऊपर खिलौने टांगना अच्छा आईडिया हो सकता है। इससे उनकी नजर इन पर पड़ेगी और उनका ध्यान आकर्षण होगा। इससे हाथों और आंखों का तालमेल भी बनाना वे सीख जायेंगे। इसके साथ ही बच्चे को आंगन में भी छोड़ें जिससे की वह चीजों को देखे और उनको पाने की कोशिश करे। बच्चों को रंगीन ब्‍लॉक्‍स भी दें, इनसे भी नजरों का विकास होता है।

बच्‍चे की नियमित रूप से जांच करायें, उसके स्‍वास्‍थ्‍य के साथ उसकी आंखों के संबंध में भी चिकित्‍सक से सलाह जरूर लें।

 

Image Source - Getty

Read More Articles on Baby Care in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES57 Votes 12415 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर