क्या सेक्स करने से हो सकता है कैंसर? जानें सच

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 28, 2016
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • यौन संबंध के जरिये भी कुछ तरह के कैंसर हो सकते हैं।
  • ओरल कैंसर, सर्वाइकल कैंसर, सर्विक्स कैंसर की संभावना अधिक।
  • ये कैंसर एचपीवी वायरस के फैलने के कारण होते हैं।

कैंसर एक खतरनाक और गंभीर बीमारी है, जिसका समय पर उपचार न हो तो यह जानलेवा भी हो सकता है। कैंसर के लिए जिम्मेदार कई कारक हैं, इनमें से एक सेक्स भी हैं। जी हां, इससे पहले आपने सुना होगा कि यौन संबंध से यौन संक्रमित बीमारियां होती हैं, लेकिन यह भी सच है कि यौन संबंध से कैंसर भी हो सकता है। इस लेख में विस्तार से जानते हैं कि कैसे सेक्स के कारण कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी होने की संभावना रहती है। 

 

ओरल कैंसर

सेक्स के दौरान सबसे अधिक प्रचलन में है ओरल सेक्स। लेकिन ओरल सेक्स से ओरल कैंसर होने की बातें सामने आयी हैं। हॉलीवुड के प्रसिद्ध अभिनेता माइकल डगलस ने भी इस बात का खुलासा किया था कि उनको ओरल सेक्स के बाद गले का कैंसर हुआ। शोध की मानें तो ओरल सेक्स के दौरान एचपीवी वायरस से संक्रमित होने की आशंका महिलाओं की तुलना में पुरुषों को अधिक रहती है। अगर ओरल सेक्स एक से अधिक पार्टनर के साथ किया जाए तो एचपीवी संक्रमण की वजह से कैंसर की आशंका बढ़ जाती है।

सर्वाइकल कैंसर

कम उम्र में यौन संबंध बनाने से सर्वाइकल कैंसर का खतरा रहता है, इस बात का खुलासा भी शोध के बाद हुआ। डेली मेल में छपी रिपोर्ट की मानें तो 20 साल से पहले अगर यौन संबंध बना है तो सर्वाइकल कैंसर होने की संभावना बढ़ जाती है। इस दौरान एचपीवी वायरस से संक्रमित होने का खतरा ज्यादा रहता है और यह असानी से बढ़ता जाता है।

 


सर्विक्सा कैंसर

भारत में इस कैंसर के प्रकार अधिक देखने को मिलते हैं, जो कि यौन अंगों की सही तरीके से सफाई न करने और असुरक्षित तरीके से यौन संबंध बनाने से होता है। सर्विक्स कैंसर यानी बच्चेदानी के मुंह का कैंसर जागरुकता के अभाव में तेजी से बढ़ भी रहा है। भारत में कैंसर के इस प्रकार के कारण सात मिनट में इसके कारण एक महिला की मौत हो रही है।

इसे भी पढ़ें- ये सफेद प्याज एक ही रात में दूर कर देगी पुरुषों की कमजोरी!

एनल कैंसर

कैंसर का यह प्रकार असुरक्षित तरीके से यौन संबंध बनाने से फैलता है। यह कैंसर एचपीवी (ह्यूमन पैपीलोमा वायरस – यह वायरस संक्रमण से फैलता जाता है) से संबंधित है। एनल कैंसर होने पर गुप्तांगों में दर्द होता है, पेशाब और मल त्यागने में दर्द होता है, रक्तस्राव भी अधिक होता है।

 

जिम्मेदार कारक और बचाव

यौन संबंध बनाने के दौरान कैंसर संक्रमण की वजह से होता है, जिसके लिए सबसे अधिक जिम्मेदार कारक वायरस है एचपीवी। इसके अलावा हेपेटाइटिस बी वायरस से भी लीवर कैंसर होता है। एचएचवी-8 इस वायरस को कपोसी सारकोमा हर्पीज वायरस भी कहते हैं, यह वायरस भी संक्रमण का कारण बनता है। इस तरह के कैंसर से बचने के लिए जरूरी है समय पर टीके लगायें। टीके लगवाने से एक-दूसरे के संपर्क में आने से फैलने वाले ये कैंसर नहीं होते हैं।


सुरक्षित तरीके से यौन संबंध बनाने से उन पलों को आप एंजॉय कर सकते हैं और किसी तरह का कोई खतरा भी नहीं रहता है।

 

Read more articles on Sex and Relationship in Hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES3560 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर