क्‍या आपके बच्‍चों को असामाजिक बना रहा है स्‍मार्टफोन

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 07, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • स्‍मार्टफोन के अधिक प्रयोग से बच्‍चे हो रहे असामाजिक।
  • यूसीएलए कॉलेज ने बच्‍चों पर स्‍मार्टफोन के प्रभाव पर शोध किया।
  • स्‍मार्टफोन से चिपके रहने के कारण बच्‍चे परिवार से हो रहे दूर।
  • इससे बच्‍चों का मानसिक विकास भी प्रभावित होता है।

जिंदगी के सफर में स्मार्टफोन ने अपनी एक अहम जगह बना ली है। हर स्तर पर स्मार्टफोन लोगों को प्रभावित कर रहा है, सुख और दुख में उनका करीबी बना हुआ है। व्‍यक्ति इसके इतना करीब हो गया कि परिवार और समाज से दूर होता जा रहा है। य‍ह बड़ों के साथ बच्‍चों को भी प्रभावित कर रहा है। एक शोध का मानना है कि स्मार्टफोन बच्चो की बौद्धिक क्षमता को प्रभावित करता है। इस लेख में विस्‍तार से जानिये स्‍मार्टफोन अपके बच्‍चे को समाज से कैसे दूर कर रहा है।

AntiSocial

शोध की माने तो

यूसीएलए कॉलेज द्वारा किये गये शोध के अनुसार बच्चे स्मार्टफोन पर ज्यादा समय व्‍यतीत करते हैं, इसे कारण बच्‍चों की सामाजिक गतिविधियों में कमी आई है। विशेषज्ञो का मानना है कि बच्चों में सामाजिक गुणों मे वृद्धि करने के लिए परिवार वालो के साथ ज्यादा समय बिताने की आवश्यकता है। लेकिन जब बच्चे ज्यादा समय स्मार्टफोन के साथ बिताने लगते हैं तो वो सामाजिक तौर-तरीको से दूर हो जाते हैं।

 

AntiSocial

क्या है नुकसान

स्मार्टफोन से बच्चों के सामाजिक तौर-तरीके तो प्रभावित होते हैं साथ ही सेहत खराब होती है। जरूरत से ज्यादा फोन का प्रयोग उनकी सामान्य शारीरिक और मानसिक विकास को प्रभावित करता है। परिवारजनों से उनका भावनात्मक लगाव कम हो जाता है। स्मार्टफोन के प्रयोग से अक्सर बच्चों मे हिंसात्मक प्रवृत्ति बढ़ जाती है। फोन का एडिक्शन बच्चो में एडीएचडी की दर को बढा देता है, जो भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक समस्याओं को बढा़ता है।

Parents in Hindi

मां-बाप की जिम्मेदारी

मशहूर बाल विशेषज्ञ शेरी टर्कल का कहना है कि बच्चे को सुख-सुविधा के सारे साधन मुहैया कराने मात्र से अभिभावकों की जिम्मेदारी पूरी नहीं हो जाती है। उसे प्यार, अपनेपन और सुरक्षा का एहसास कराना भी बेहद अहम है। जो मां-बाप इसमें असफल रहते हैं, वे बच्चों से भावनात्मक पक्ष पर नहीं जुड़ पाते हैं। इसके अलावा अकेलेपन और उपेक्षा के एहसास के चलते उनके बच्चे का व्यक्तित्व तथा मानसिक विकास भी प्रभावित होता है।

इसलिए जरूरी है अपने बच्‍चों को सामाजिक बनायें और उनको स्‍मार्टफोन से दूर रखें।

 

ImageCourtesy@Gettyimages

Read More Article on Parenting in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES851 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर