दोस्‍त के ज्‍यादा नंबर आएं तो जलन से कैसे बचें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 29, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • अपने दोस्‍त से उसकी तैयारियों का अंदाज पूछें।
  • आपके दोस्‍त ने कुछ तो अलग जरूर किया होगा।
  • जो हुआ उसे अब बदला तो नहीं जा सकता।
  • और कुछ भी हो, आपकी पार्टी तो पक्‍की है।

'अगर दोस्‍त फेल हो जाए, तो दुख होता है, लेकिन दोस्‍त अगर फर्स्‍ट आ जाए, तो और दुख होता है।' कितना सटीक है फिल्‍म 'थ्री-इडियट्स' का यह संवाद। परीक्षा के नतीजे आने के बाद अपने नंबरों के बाद आप सबसे पहले अपने करीबी दोस्‍त के नंबर देखते हैं। और अगर कहीं उसके नंबर आपसे ज्‍यादा हुए, तो भई खुशी तो क्‍या होती होगी, लेकिन सीने में जलन जरूर आ जाती है। आखिर उसके इतने नंबर कैसे आ गए। हालांकि, इस भावना से बचना आसान नहीं, यह मानवीय स्‍वभाव का हिस्‍सा है। लेकिन, फिर भी इसके असर को तो कम किया ही जा सकता है।

exam results in hindi

उससे पूछें खास तैयारी

आप दोनों एक ही जगह एक्‍स्‍ट्रा क्‍लास लेते थे, लेकिन फिर भी उसके नंबर ज्‍यादा आए। यानी उसकी और आपकी तैयारी में कुछ तो फर्क रहा होगा। संभव है कि उसका तैयारी करने का अंदाज आपसे बेहतर हो। वह आपसे बेहतर तरीके से चीजों को समझ पाता हो। या उसने किसी खास अंदाज में नोट्स बनाये हों। याद रखिये कामयाबी के लिए सिर्फ मेहनत करना काफी नहीं होता। सही अंदाज और सही तरीके से मेहनत करना ज्‍यादा मायने रखता है। आप उससे पूछ सकते हैं कि उसने कैसे तैयारी की। तैयारी का यह स्‍मार्ट तरीका आपको जीवन भर काम आएगा।

 

उसकी मेहनत को स्‍वीकारें

आखिर वह आपका दोस्‍त है... आपका। तो उसमें कुछ तो बात होगी। उसकी मेहनत को सराहिये। उससे जलने के बजाय उसे अपना प्रेरणास्रोत बनाया जा सकता है। आखिर दोस्‍त से अच्‍छा प्रेरणास्रोत भला दूसरा कौन हो सकता है। आप उससे खुलकर बात कर सकते हैं। अपनी कमजोरियों और चूक के बारे में संवाद कर सकते हैं। ऐसा करते हुए अपनी ईर्ष्‍या की भावना को भूल जाएं।

जो हुआ उसे स्‍वीकार करें

जो हो गया उसे बदला तो नहीं जा सकता। परिणाम आपके सामने है। अब कुछ किया तो जा नहीं सकता। सोचिये और देखिये कि आपका दोस्‍त कितना खुश है। उसकी खुशी का हिस्‍सा बनिये। उसकी खुशी में शामिल हो जाइए। खुशियां बांटने से बढ़ती हैं। तो आप भी उसकी खुशियों में इजाफा करें। और देखिये आप भी कितने खुश हो जाते हैं।


jealousy in hindi
नजरिया बदलें

चीजों को देखने का अपना तरीका बदलें। इससे आपको काफी मदद मिलेंगी। दरअसल, आपकी नजर ही हालात बनाती हैं। चीजों को देखने का अपना नजरिया बदलें। अच्‍छा सोचें और आगे बढ़ें। अगर आप ईर्ष्‍या में जकड़े रहेंगे तो भविष्‍य की योजनायें कैसे बनायेंगे।

 

पार्टी तो बनती है

अब आपके दोस्‍त के नंबर ज्‍यादा आए हैं, तो जलने की कोई बात नहीं। आपकी तो शाम की पार्टी पक्‍की हो गई। आप बड़े अधिकार के साथ उसे कह सकते हैं कि यारा पार्टी तो दे दे। और हां, क्‍योंकि वह आपका दोस्‍त है, तो आपका पूरा हक बनता है कि पार्टी का मैन्‍यू आप डिसाइड करें।

 

ईर्ष्‍या आप ही का नुकसान करती है। बेहतर है कि आप इस भावना से बचें। अपनी पुरानी गलतियों से सीखें। और खुद को बेहतर के लिए तैयार करें। आपके दोस्‍त से खूबियां लें और उन्‍हें अपने हिसाब से अपने जीवन का हिस्‍सा बनायें।

 

Image Courtesy- Getty Images

Write a Review
Is it Helpful Article?YES29 Votes 907 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर