दिल के लिए अच्‍छा नहीं गुस्‍सा

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 10, 2012
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

dil ke liye acha nahi gussa

हाल ही में हुआ अध्‍ययन बताता है कि सामान्‍य लोगों के मुकाबले तुनकमिजाज लोगों को हृदयाघात की आशंका दोगुनी होती है। स्‍पेन के मैड्रिड स्थित सैन कार्लोस यूनिवर्सिटी के अध्‍ययन में यह बात सामने आयी है। इसके मुताबिक गुस्‍सैल और असंयमित व्‍यवहार करने वालों को स्‍ट्रोक होने की आशंका उतनी ही होती है, जितनी सिगरेट पीने वालों को।

 

इसे भी पढ़े: गुस्से को कैसे कहे बॉय

 

शोधकर्ता हृदयाघात के मरीजों और स्‍वस्‍थ लोगों के स्‍वास्‍थ्‍य का तुलनात्‍मक अध्‍ययन के बाद इस नतीजे पर पहुंचे। ये सभी लोग एक ही क्षेत्र के रहने वाले थे। इनकी औसत आयु 54 साल थी। शोधकर्ताओं ने प्रतिभागियों की बेचैनी और डिप्रेशन की जांचकर उनमें तनाव का स्‍तर पता लगाया।

 

जानकारों ने पाया कि जिन प्रतिभागियों में तनाव का स्‍तर अधिक था, उन्‍हें स्‍ट्रोक होने की आशंका अधिक थी। इस टीम के प्रमुख डॉक्‍टर जोश एंटोनियो बताते हैं कि तुनकमिजाज और तनाव ग्रसत रहने वालो लोगों पर हृदयाघात का खतरा काफी ज्‍यादा होता है। इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि व्‍यक्ति की जीवनशैली क्‍या है और वह पुरुष है या फिर महिला।

 

इसे भी पढ़े: तनाव भगाने के दस आसान टिप्स

 

एंटोनयों ने यह भी कहा कि ऐसे लोगों को स्‍ट्रोक होने की आशंका चार गुना तक बढ़ जाती है जिन्‍होंने हाल-फिलहाल में किसी दुर्घटना का सामना किया हो। जैसे किसी करीबी की मौत या फिर कोई भयंकर रोग। इससे बचने के लिए स्‍वस्‍थ जीवनशैली अपनाने के साथ-साथ दिमाग को स्थिर रखने और स्‍वभाव में संयम बरतने की सलाह दी।

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES4 Votes 14046 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर