जानें कितने प्रकार का होता है प्रोस्‍टेट कैंसर

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 03, 2012
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • सामान्य ऊतकों को नुकसान पहुंचाती है।
  • प्रोस्टेट के विभिन्न भागों में मौजूद होते है।
  • सबसे आम प्रकार कैंसर ग्रंथिकर्कटता है।
  • प्रोस्टटिक सार्कोमा बहुत कम पाया जाता है।

प्रोस्टेट सेल नए प्रकार की कोशिकाओं सेल में अनियंत्रित तरीके से बदलने से प्रोस्‍टेट कैंसर होता है। कैंसर कोशिकाएं अपने आस-पास सामान्य ऊतकों को नुकसान तो पहुंचाती ही है साथ ही उन्‍हें अपने भीतर समा भी लेती हैं। जो सेल के प्रकार के आधार पर प्रोस्‍टेट होता है वह कैंसर होता हैं।

प्रोस्टेट कैंसर, इसके कई प्रकार हो सकते है, और अक्सर प्रोस्टेट के विभिन्न भागों में मौजूद होते है। प्रोस्टेट कैंसर के लिए अग्रदूत प्रोस्‍टटिक अंतःउपकला रसौली के रूप में जाना जाता है, और प्रोस्टेट के भीतर अलग-अलग स्थानों में पाया जाता है। आइए जानें प्रोस्‍टेट कैंसर के प्रकारों के बारे में।

prostate cance in hindi

प्रोस्टेटिक ग्रंथिकर्कटता

प्रोस्टेट कैंसर का सबसे आम प्रकार ग्रंथिकर्कटता है। यह कैंसर आम तौर पर धीमी गति से बढ़ता है, लेकिन इसमें क्षमता होती है प्रोस्‍टेट से अन्‍य क्षेत्रों में फैलने की जैसे लिम्फ नोड्स, हड्डियों और अन्य अंग। प्रोस्टेट कैंसर की उत्पत्ति का सबसे आम क्षेत्र परिधीय क्षेत्र है जहां पर प्रोस्टेट ग्रंथियों के ऊतकों के दो तिहाई ऊतक स्थित होते है।


छोटे सेल कार्सिनोमा

इस प्रकार का प्रोस्‍टेट बहुत कम पाया जाता है, यह आक्रामक प्रोस्टेट कैंसर के शुरू में प्रोस्टेट के भीतर विशेष कोशिकाओं में रूपों में पाया जाता है। कैंसर का यह प्रकार आम तौर पर प्रोस्टेट विशिष्ट प्रतिजन (पीएसए) के स्तर में वृद्धि नहीं करता है और प्रारंभिक अवस्था में पता लगाना भी बहुत कठिन होता है। एडवांस स्‍टेज पर छोटे सेल कार्सिनोमा का इलाज कर पाना भी मुश्किल हो सकता है।

प्रोस्टटिक सार्कोमा

प्रोस्‍टेट कैंसर का यह प्रकार बहुत कम पाया जाता है। प्रोस्टटिक सार्कोमा अक्‍सर 35 से 60 की उम्र के बीच के पुरुषों में अपेक्षाकृत अधिक होता है। ट्यूमर प्रोस्टेट कैंसर उन कोशिकाओं के प्रारंभिक प्रकार से विकसित होने में सक्षम होता है जो संयोजी ऊतक, लसीका वाहिकाओं, और रक्त वाहिकाओं प्रोस्टेट की चिकनी मांसपेशियों से बने हो। पच्चीस प्रतिशत मामले निदान के समय में मेटास्टाटिक रोग के साथ उपस्थित होते है। प्रोस्टटिक सार्कोमा स्थानबद्ध रहता है व्यावहारिक अवधि के लिए इससे पहले कि वह स्थानीय स्तर पर मूत्राशय, मलाशय में फैले। अधिक समय के दौरान ट्यूमर फेफड़े, मस्तिष्क, हड्डियों या जिगर दूर स्थानों में फैल जाता है। मेटास्टेसिस के फैलने की सबसे आम जगह फेफड़े हैं।

prostate cancer in hindi

बेनीगं (सौम्य) प्रोस्टटिक ह्य्पेर्प्लासिया (बी पी एच)

यह एक सौम्य प्रोस्टेट के ट्यूमर का प्रकार है। प्रोस्टेट एक बड़े आकार में बढ़ता है और मूत्रमार्ग को सिकोड़ देता है। यह मूत्र के सामान्य प्रवाह को रोकता है। बी पी एच एक बहुत ही आम समस्या है कुछ पुरुषों में इसके लक्षण काफी गंभीर दिखाई देते है और उन को उपचार या सर्जरी की जरूरत हो सकती है।


स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा

स्‍क्‍वैमस सेल कार्सिनोमा कैंसर का एक बहुत ही आक्रामक रूप होता है। प्रोस्टेट कैंसर का यह प्रकार गैर ग्रंथि होता है छोटे सेल कार्सिनोमा की तरह। और प्रोस्टेट विशिष्ट एंटीजन (पीएसए) में वृद्धि करने के लिए नेतृत्व नहीं करता है।


संक्रमणकालीन सेल कार्सिनोमा

कैंसर का यह प्रकार शायद ही कभी प्रोस्टेट में विकसित करता है, पर प्राथमिक ट्यूमर से निकला गया यह मूत्राशय या मूत्रमार्ग में उपस्थित होता है।

Image Source : Getty
Read More Article on Prostate Cancer in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES4 Votes 14176 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर