पुरुषों और महिलाओं के दिल की धड़कन में होता है अंतर

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 29, 2014
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

हृदय की स्थिति की जांच के लिहाज से डॉक्टर सालों से एक नियम अपनाते चले आ रहे हैं। इस नियम के तहत हर मिनट किसी इंसान के दिल के अधिकतम बार धड़कने की गणना की जाती है।

Heartbeats

 

 

यह बात एक अनुसंधान में सामने आई है कि हृदय की स्थिति की जांच के इस नियम में कमी है, क्योंकि इसमें पुरुषों और महिलाओं के दिल की धड़कन के अंतर का हिसाब नहीं रखा जाता है।

 

 

 

 

 

एक्सरसाइज करते वक्त दिल की धड़कन की परिपाटी को भी कई लोग धड़कन की दर का पता लगाने के लिए उपयोग करते हैं। किसी रोगी को व्यायाम के दौरान कितनी मेहनत करनी चाहिए, यह निर्धारित करने के लिए आमतौर पर डॉक्टर पर '220 मिनस एज' फार्मूले का प्रयोग करते हैं।

 

 

 

 

इस जांच को व्यायाम तनाव जांच के रूप में भी जाना जाता है। एक शोध में तकरीबन 25000 से अधिक तनाव जांच के बाद अनुसंधानकर्ताओं ने पुरुषों और महिलाओं में की धड़कनों में यह महत्वपूर्ण अंतर पाया और एक नया फार्मूला भी विकसित किया।

 

Source: Newsonwellness

 

Read More Health News in Hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES3 Votes 1408 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर