डायबिटीज़ के रोगी लायें जीवनशैली में सुधार

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 08, 2015
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • स्वस्थ जीवनशैली से करें डायबिटीज पर निंयत्रण।
  • ज्यादा धूम्रपान और शराब का सेवन नुकसानदेह।
  • साइकिलिंग और व्यायाम से स्वस्थ रहता है शरीर।
  • तनाव बिल्कुल भी ना लें, चिकित्सक लेतें रहे सलाह।

 

वो लोग जो की डायबटीज से ग्रस्त होते हैं उन्हें अपने अंदर कई बदलाव लाने होते हैं ताकि वे डायबटीज को नियंत्रण में रख सके इसके अलावा वो लोग जिनमे की डायबटीज होने का खतरा होता है जिनमे की अनुवांशिक कारक होते हैं उन्हें भी अपने जीवन में कई बदलाव लाने होते हैं ।यहाँ पर कुछ महत्वपूर्ण जीवनशैली में सुधार हैं जो की मरीज़ को डायबटीज से लड़ने में मदद करते हैं ।


  • धूम्रपान बंद  कर दे : हम सारो को धूम्रपान के सेहत पर बुरे प्रभाव के बारे में पता है ।पर ये प्रभाव उन लोगो के लिए बहुत ही हानिकारक हो जाते अहिं जो की डायबटीज से ग्रस्त होते अहिं ।धूम्रपान से कोलेस्ट्रोल की मात्रा शरीर में बढ़ जाती है जो की रुधिर वाहिनी को बाधित कर देता है ।ये संक्रमण भी करा सकता अहि ।इसके अलावा वो लोग जो की डायबटीज से ग्रस्त होते अहिं और धूम्रपान करते अहिं उनमे कई बार गुर्दे के रोग और तंत्रिका तंत्र  समस्या हो सकती हैं ।ये आपके जोड़ो की चाल को भी प्रभावित कर सकता अहि ।इन समस्या के अलावा ये आपके रक्त में शकरा की मात्रा को बढ़ा देगा और आपमें ह्रदय रोगा कर्णम करा सकता है ।
  • शराब की मात्रा को कम कर दे :  शराब को माध्यम मात्र में पीना आपके रक्त में शर्करा की मारता को ज्यादा प्रभावित नहीं करता हैं ।महिलाए दिन में एक बार पी सकती है जबकि पुरुष दिन में दो बार पी सकते हैं पर अगर आप इस सीमा के बाहर चले जाते हैं तो ये आपकी डायबिटीज की दशा  को प्रभावित कर सकता है ।इसके अलावा अगर आप ध्यान दे की आप शराब को मिलाने के लिए क्या इस्तमाल कर रहे हैं ।फलो के रस, कोला और अन्य मीठे द्रव्यों को शराब के साथ न मिलाए ।शराब का एक अन्य बुरा प्रभाव यह है की इसमें कई सारी अस्वस्थ केलोरी होती है जो की आपके वजन घटाने की प्रक्रिया में आ सकती है ।इसलिए यह आपको सुझाव दिया जाता है की आप अपने शराब के सेवन की मात्रा को कम से कम रखे।

  • बहुत सारी कसरत करे : वो लोग जो की डायबटीज से ग्रस्त होते हैं उन्हें अपने जीवन के रोजाना कार्यक्रम में कसरत सम्मिलित कर लेनी चाहिए क्योंकि ये आपको स्वास्थ्य रखेगी और आपमें वजन कम करने में मदद भी करेगी ।डायबटीज से ग्रस्त लोगो को कसरत करते वक्त अपने दिमाग में कुछ महत्त्पूर्ण बात रखनी चाहिए  जो की नीचे लिखी गयी है :
  • वो लोग जो की 35 साल से ज्यादा उम्र के हैं और डायबटीज से 10 साल या उससे ज्यादा साल से ग्रस्त हैं उन्हें अपने कसरत कार्यक्रम शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह ले लेनी चाहिए। आपको एक्सरसाइज स्ट्रेस टेस्ट किसी चिकित्सीय सलाहकार की निगरानी में करना चाहिए ।
  • डायबटीज से ग्रस्त लोगो को वो कसरत का चुनाव करना चाहिए जो की आपके ह्रदय की गति को लम्बे समय के लिए बढा सके ।कुछ सही विकल्प हैं साइकिल चलाना , तैराकी या जॉगिंग करना। एक व्यक्ति इन कसरत को कर सकता है अगर उनका स्टेमिना और उनकी चाह इनमे नहीं है तो ।
  • डायबटीज से गरस्त लोगो को अपना कसरत करने के समय को कुछ इस तरह से करना चाहिए की उन्हें कोई असुविधा महसूस न हो और अगर वे अपनी कसरत करने की तीव्रता को बढ़ाना चाहे तो ये बहुत ही धीरे धीरे होना चाहिए । पर अगर आप कोई असुविधा जैसे की छाती में दर्द महसूस करे तो आपको तुरंत रुक जाना चाहिए और चिकित्सीय सलाह लेनी चाहिए ।
  • डायबटीज एक ऎसी स्वास्थ्य समस्या है जिसका की पूरी तरह इलाज  नहीं किया जा सकता है और इसलिए मरीज़ को इसके साथ रहना सीखना होगा ।यह आपके लिए बहुत ही ज़रूरी है की आप अपनी जीवनशैली में बदलाव लाये ।ऐसा करने के लिए सबसे ज़रूरी कदम यह है की आपमें बदलाव लाने की इच्छा होनी चाहिए ।आप अपने अंदर एक मज़बूत इच्छा शक्ति लाये ताकि आप डायबटीज से लड़ सके और उसको नियंत्रण में रख सके ।

 

 Image Source- Getty

Read More Articles on Diabetes in Hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES22 Votes 17029 Views 0 Comment