मीठी बीमारी से करें खुद का बेहतर बचाव

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jul 27, 2011
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • शरीर में ठीक प्रकार से इन्सुबलिन ना बनने के कारण टाइप2डायबिटीज़ होता है।
  • मोटापा या शरीरिक श्रम की कमी भी डायबिटीजका एक बड़ा कारण होता है। 
  • बचाव के लिये कार्यालय या घर में लिफ्ट की बजाय सीढि़यों का प्रयोग करें।
  • संभव प्रयास कर डायबिटीज़ को आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है।

आधुनिक जीवनशैली के कारण, डायबिटीज़(मधुमेह)जिसे कि मीठी बीमारी कहते हैं, इसके रोगियों की संख्या दिनोंदिन बढ़ती जा रही है। शायद आपको पता हो कि, शरीर को सबसे अधिक ऊर्जा शुगर या स्‍टार्च से मिलती है। शरीर में इन्सुलिन की कमी होने पर शुगर ऊर्जा में परिवर्तित होने के बजाय रक्त में जमा होकर डायबिटीज़ का कारण बनता है।


डायबिटीज़ मुख्य रूप से दो प्रकार की होती है

 

टाइप1 डायबिटीज़

इस स्थिति में शरीर इन्सु़लिन का निर्माण बंद कर देता है। ऐसा वायरस के संक्रमण से या प्रतिरक्षा प्रणाली में किसी खराबी के कारण हो सकता है।

 


टाइप2 डायबिटीज़

ज्यारदातर लोगों में यह डायबिटीज़ पाया जाता है। शरीर में ठीक प्रकार से इन्सुबलिन ना बनने के कारण टाइप2डायबिटीज़ होता है। इसका मुख्य् कारण है, मोटापा या शरीरिक श्रम की कमी। यह अनुवांशिक कारण से भी हो सकता है। गंगाराम अस्पताल के एंडोक्रायनालाजी और मेटाबालिज्म विभाग के अध्यक्ष डाक्टर सुरेंद्र कुमार के अनुसार जिन लोगों के परिवारों में पहले से ही किसी को डायबिटीज़ है, उन्हें समय रहते सावधानी बरतनी चाहिए क्योंकि एक बार डायबिटीज़ होने के बाद अतिरिक्त सुरक्षा की आवश्यकता होती है। डायबिटीज़ में नियमित व्यायाम का सबसे बड़ा फायदा यह है, कि इस दौरान इस्तेमाल होने वाली ऊर्जा से शुगर का स्तर कम हो जाता है। 

व्यायाम के कुछ सामान्य विकल्प 



•    तेज़ गति से टहलें: टहलना सबसे सरल व्यासयाम है और इसके लिए आपको कहीं दूर जाने की भी आवश्याकता नहीं।


•    साइकिल चलायें: बचपन में साइलिंग तो हम सभी ने की है।


•    सीढि़यों का प्रयोग: कार्यालय या घर में लिफ्ट की बजाय सीढि़यों का प्रयोग करें ।


•    योग या एरोबिक्स: इसके अपने फायदे हैं, लेकिन किसी योगा विशेषज्ञ से संपर्क ज़रूर करें।

 

कुछ संभव प्रयास कर डायबिटीज़ को आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है। बस आपको अपनी दिचर्या को सही और खान-पान को नियमित बनाना होता है और सही समय् पर अपने शुगर की जांच करते रहना होता है।

 

 

Image Source - Getty Images.

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES10 Votes 12552 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर