धूम्रपान से रोकने में मददगार मोबाइल

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 16, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

dhumrpaan se rokne me madadgaar mobileहर साल लाखों लोग सिगरेट के दुष्‍प्रभावों के चलते अपनी जान गंवाते हैं। विभिन्‍न देशों की सरकारें कई प्रचार माध्‍यमों से लोगों को इसके खतरे के प्रति आगाह करती हैं, लेकिन बावजूद इसके उम्‍मीद के मुताबिक नतीजे नहीं मिलते। लोगों को इसके बुरे प्रभावों के प्रति जागरुक बनाने की जरूरत लगातार बढ़ रही हैं। लेकिन, धूम्रपान के खतरों के प्रति जागरुकता बढ़ाने में मोबाइल फोन महत्त्‍वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। न्‍यूजीलैंड के शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि जागरुकता की इस जंग में मोबाइल मजबूत हथियार साबित हो सकता है। शोधकर्ताओं ने कहा है कि मोबाइल फोन धूम्रपान छुड़ाने में ज्‍यादा कारगर है। उनका कहना है कि संचार के पारंपरिक माध्‍यमों के मुकाबले मोबाइल फोन पर भेजे गए संदेश या एसएमएस व्‍यक्ति का ज्‍यादा ध्‍यान आकर्षित करते हैं। इससे उनको धूम्रपान के गंभीर खतरों के प्रति प्रभावी ढंग से आगाह किया जा सकता है।

 


[इसे भी पढ़े : तीसरी पीढ़ी को भी बीमार करता है आपका धूम्रपान]

 

न्‍यूजीलैंड स्थित युनिवर्सिटी ऑफ ऑकलैंड के वैज्ञानिकों के मुताबिक, धूम्रपान के खतरों के प्रति लोगों को आगाह करने और इसकी लत छुड़ाने के लिए सरकारें अरबों रुपए इलेक्‍ट्रॉनिक और पिंट विज्ञापनों पर खर्च करती है। लेकिन पारंपरिक माध्‍यमों द्वारा भेजी गयी चेतावनियों का असर म‍हज पांच फीसदी लोगों पर होता है। जबकि मोबाइल पर बार-बार संदेश देकर आगाह करने के बाद करीब नौ फीसदी लोगों ने सिगरेट से तौबा की।

 

[इसे भी पढ़े : सिगरेट के धुएं से रहें दूर]

 

द कोचहेरन लाइब्रेरी में प्रकाशित शोधपत्र में प्रमुख शोधकर्ता रॉबिन व्‍हीटटेलर ने लिखा है, बार-बार, कई सप्‍ताह तक मोबाइल फोन से संदेश भेजने से सिगरेट को छोड़ने के लिए समय सीमा तय करने में मदद मिलती है। हालांकि वर्षों पहले रॉबिन ने अपने अध्‍ययन में पाया था कि धूम्रपान छोड़ने के शुरुआती हफ्तों में तो यह कारगर होता है, लकिन बाद में इसके क्‍या नतीजे होते हैं इस बार में कुछ साफ नहीं कहा जा सकता। इसी खामी के मद्देनजर रॉबिन ने नए सिरे से कुछ पांच अध्‍ययनों की समीक्षा की। इन अध्‍ययनों में कुल 9100 धूम्रपानकर्ताओं पर छह महीने तक नजर रखी गयी। इनमें से 4730 को धम्रपान के नुकसान को रेखांकित करने वाले संदेश फोन पर भेजे गए। इससे प्रभावित होकर 444 लोगों ने धूम्रपान करना छोड़ा दिया।

 

 

Read More Article on Health News in hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES11717 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर