डेंगू रक्तस्रावी ज्वर के कारण

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 13, 2010
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

mosquito imageहर बीमारी के फैलने का कारण होता है फिर वह कारण एक जगह से दूसरी जगह संक्रमण होना हो या फिर एक व्याक्ति से दूसरे व्यएक्ति में। डेंगू वायरण का कारण भी कुछ ऐसा ही है। कहने को डेंगू महामारी एडीस इजिप्टस मच्छर के काटने से फैलती है लेकिन इस रोग का मुख्या कारण विषाणु मच्छरों द्वारा मानव शरीर में पहुचना हैं। डेंगू का कहर अलग-अलग स्थितियों में दिखाई पड़ता है। डेंगू रक्तपस्रावी ज्वगर के फैलने के भी कई कारण है। आइए जानें इन कारणों के बारे में।


•    आमतौर पर डेंगू बुखार उस मच्छर के काटने से होता है जिसने पहले से ही किसी डेंगू के मरीज़ को काटा है।
•    डेंगू महामारी फैलाने वाला एडीस इजिप्टत मादा मच्छर बरसात के मौसम में ज्यादा फैलते हैं और यह उन जगहों पर तेज़ी से फैलते हैं जहां पानी जमा हो । 
•    यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे में नहीं फैलता लेकिन उस मच्छर के काटने से होता है जिसने किसी संक्रमित व्यक्ति को काटा है। 
•    डेंगू उन लोगों को जल्दी प्रभावित करता है जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है।
•    आमतौर पर एक व्यकक्ति को एक बार डेंगू होने पर दोबारा नहीं होता लेकिन इसके होने की संभावना लगातार बनी रहती है और यदि ऐसा होता है तो हमेशा ही यह जरूरी नहीं कि एक जैसा ही डेंगू हो। दूसरी बार पहले के मुकाबले अधिक घातक या फिर जीवन के लिए खतरनाक डेंगू रक्तस्रावी ज्वर भी हो सकता है।
•    दिन में काटने वाला एडिस मच्छजर काले व सफेद धारी वाले होते है। इन मच्छरों के काटने से डेंगू की बीमारी फैलती है और ये मच्छर मुख्य रूप से ठहरे हुए पानी में पनपते हैं। जैसे कुलर, गमले में जमा पानी, छत पर जमा पानी आदि स्थानों पर।
•    डेंगू रक्त स्रावी ज्वजर में तेज बुखार के साथ-साथ शरीर के उभरे चकत्तों से खून बहना शुरू हो जाता हैं।
•    डेंगू रक्त।स्रावी ज्वजर/ हैमरेज ज्वर बहुत तेजी से मांसपेशीय पर प्रभाव डालते हैं जिससे रोगी किसी घातक बीमारी का शिकार हो सकता है या फिर उसकी मृत्युत भी हो सकती है।
•    रक्त।स्रावी ज्वार डेंगू बुखार की दूसरी स्टेतज होती है। यदि रक्त्स्रावी ज्वरर की स्थिति मंं रोगी की ढंग से देखभाल न की जाए तो वह मर भी सकता है।
डेंगू की सही समय पर पहचान कर समय रहते उसका इलाज करा लेना चाहिए। अन्यूथा रोगी को इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है।

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES12 Votes 12095 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर