डेंगू बुखार और यात्रा

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 02, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

डेंगू बुखार और यात्रा एक-दूसरे से जुड़ें हैं। वयस्‍कों को डेंगू होने का खतरा ज्‍यादा होता है क्‍योंकि वे एक जगह से दूसरे जगह पर जाते रहते हैं। अलग-अलग जगहों पर जाने के कारण उनका उनका एक्‍सपोजर ज्‍यादा होता है।

डेंगू ग्रस्‍त आदमी डेंगू से बचने का एकमात्र उपाय है मच्छरों से बचना। यह मच्छर जनित वायरल मच्छरों के काटने से फैलता है। हालांकि इसका निवारण और नियंत्रण संभव है लेकिन यात्रा के दौरान डेंगू बुखार से बचने के लिए सावधानी बरतना बेहद जरूरी है। आइए जाने डेंगू बुखार से बचने के लिए यात्रा के दौरान क्‍या सावधानियां बरतें।


डेंगू बुखार और यात्रा

  • सबसे पहले तो आपको यात्रा पर जाने से पहले यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि आप जिस जगह जा रहे हैं कहीं वह डेंगू प्रभावित क्षेत्र तो नहीं यदि ऐसा है तो आपको वहां जाने से बचना चाहिए।
  • यदि डेंगू प्रभावित क्षेत्र में जाना जरूरी है तो मच्छरों से बचाव के लिए पूरी तैयारी के साथ जाना चाहिए।
  • ध्यान रखें कि आप जिस जगह पर ठहर रहे हैं वहां गंदगी या फिर पानी भरा हुआ न हो।
  • आप अपने साथ मॉसकीटो नेट (मच्‍छरदानी) ले जा सकते हैं, इसका प्रयोग कर आप मच्छरों के काटने से बच सकते हैं।
  • यात्रा के दौरान पूरी बांह के कपड़े पहनें, कपड़ों के जरिए अपने शरीर को ढंकिए।
  • डेंगू का इलाज इससे होने वाली परेशानियों को कम कर के ही किया जा सकता है। डेंगू बुखार में आराम करना और पानी की कमी को पूरा करना बहुत ज़रूरी है। हालांकि यह बीमारी जानलेवा हो सकती है और आमतौर पर यह बीमारी अकसर 15 से 20 दिन तक रहती है।
  • ऐसी जगह जहां डेंगू फैल रहा है वहां पानी को जमने नहीं देना चाहिए जैसे प्लास्टिक बैग, कैन ,गमले, सड़को या कूलर में जमा पानी। इसीलिए जहां भी आप यात्रा के लिए जा रहे हैं इन बातों का ध्यान रखें और यदि ऐसा कुछ है तो उसे साफ रखने के लिए कहें।
  • बदलते मौसम में अगर आप किसी नयी जगह पर जा रहे हैं, तो मच्छरों  से बचने के उत्पादों का प्रयोग करें।
  • अपने खाने-पीने का बदलते मौसम में खास ध्यान रखें। अगर यात्रा के लिए आप अपने साथ हल्‍के स्नैक्स ले जाएं तो ये आपके स्वास्‍थ्‍य के लिए भी अच्छा है।
  • डेंगू का निवारण और नियंत्रण थोड़े से प्रयास के बाद किया जा सकता है।
  • डेंगू संक्रमण बुखार के दौरान रोगी को पेट संबंधी शिकायते होने लगती है। इसमें पेट खराब हो जाना, पेट दर्द होना, दस्त लगना, ब्‍लैडर की समस्या, जोड़ो में दर्द, बदन दर्द इत्यादि हो सकते है। इस तरह की शिकायतें होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।




डेंगू बुखार शरीर में फैलने में थोड़ा समय लेता है। इसीलिए इसकी पहचान मुश्किल होती है। लेकिन डेंगू के लक्षणों को ध्यान में रखकर डेंगू की पहचान सही समय पर की जा सकती है और यात्रा के दौरान सावधानी भी जरूरी है।

 

 

Read More Articles on Dengue in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES7 Votes 13177 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर