डेंगू जानलेवा भी हो सकता है

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jul 01, 2011
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

बरसात में होने वाली बीमारियों में से डेंगू भी एक है और डेंगू का वायरस मच्छरों के काटने से फैलता है। ऐसे मौसम में जलजमाव के कारण मच्छरों की संख्या में वृद्धि हो जाती है। डेंगू बुखार एक संक्रामक रोग है और कुछ स्थितियों में यह बीमारी जानलेवा भी हो सकती है।

डेंगु जानलेवा भी हो सकता है

 

 

बरसात के मौसम की नमी डेंगू के फैलने के लिए माकूल मौसम होता है। डेंगू एक खतरनाक बुखार है, जिसकी अनदेखी करने पर मरीज की जान पर भी बन सकती है।

[इसे भी पढ़े: डेंगू का होम्योपैथी इलाज]

 

डेंगू बुखार के लक्षण:


•    ठंड के साथ अचानक तेज़ बुखार होना।
•    सरदर्द, गले में दर्द, मांसपेशियों तथा जोड़ों में दर्द होना।
•    अत्यधिक कमजो़री महसूस होना और भूख कम लगना।
•    शरीर पर ददोरे पड़ना।  


अगर आपको या आपके पड़ोसी को डेंगू बुखार हो जाता है, तो तुरंत इससे बचने के उपाय अपनायें। सबसे पहले रक्तजांच करायें और अपने घर के आसपास मच्छरों से सुरक्षा के इंतज़ाम करें।

 

[इसे भी पढ़ें: डेंगू बुखार व त्वचा रैश]


डेंगू का उपचार :


•    सामान्य बुखार की स्थिति में पैरासिटामाल दिया जा सकता है।
•    शरीर में पानी की मात्रा को संतुलित रखने का हर संभव प्रयास करें और इसके लिए आप फलों का जूस भी ले सकते हैं।
•    संतरे के जूस के सेवन से पाचनतंत्र ठीक रहता है और प्रतिरोधक क्षमता भी मजबूत होती है।
•    तुलसी और अदरक से बनी हरी चाय के सेवन से मरीज़ को अच्छा महसूस होगा और इसके स्वा स्य्के  लाभ भी हैं।


3 दिन से अधिक समय तक बुखार रहने पर चि‍‍कित्सक से संपर्क ज़रूर करें। डेंगू से बचने के लिए ज़रूरी है मच्छरों से बचना जिनसे ‘डेंगू वायरस’ फैलता है। अपने घर, बच्चों के स्कूल और आफिस की साफ– सफाई पर भी नज़र रखें । याद रखें इलाज से बेहतर है रोग की रोकथाम।

 

Read More Articles On Dengue In Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES12 Votes 13304 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर