आक्रामकता की परिभाषा

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 09, 2011
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

समाजशास्त्र और मनोविज्ञान में, आक्रामकता दर्द या हानि पैदा करने वाले कार्य के रूप में परिभाषित किया गया है और एक ही वर्ग या प्रजाति ('शिकारी आक्रामकता' अन्य प्रजातियों के सदस्यों से संबंधित है) में लड़ाकूपन की प्रवृति को संदर्भित करता है, शेर और हिरण या उल्लू और छोटे स्तनधारियों जैसे उदाहरण आम हैं। मनुष्यों में, हालांकि, रक्त के प्रभाव और इसी मस्तिष्क ग्लूकोज का स्तर आक्रामकता के साथ बेहतर सहसंबंधी लगते है।


ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर बुशमन, आक्रामकता और आक्रामक व्यवहार की समस्याओं पर एक बड़ा शोध किया है, और कहा कि लोग, जो मेटाबॉलाइजिंग ग्लूकोज से पीड़ित है, मुख्य रूप से मधुमेह, और अधिक आक्रामक व्यवहार दिखाना और माफ करने की कम इच्छा जैसी, परेशानियां होती है।

मधुमेह ने दुनिया के कई हिस्सों में भयानक दर की वृद्धि को दिखाया है, भारत एक ऐसा देश होगा जिसकी जनसंख्या का एक बड़ा हिस्सा मधुमेह से पीड़ित है। मस्तिष्क में ग्लूकोज की कमी को हत्या, बलात्कार, और दुनिया भर में गरीबी के लेखांकन के बाद हमलों के हिंसक जैसी अपराध दर, के लिए सहसंबद्ध किया गया है। शोधकर्ताओं ने यह भी अध्ययन किया है कि एक विशेष रक्त एंजाइम की कमी की समस्या जो कि प्रचलित है, यह उन लोगो में पर्याप्त मात्रा में असाधारण रूप से व्याप्त है(हैरत की बात है) जो दुनिया में 122 से अधिक देशों में निवास करते है। यह एंजाइम, ग्लूकोज 6 फॉस्फेट - डिहाइड्रोजनेज, ग्लूकोज चयापचय से संबंधित है। यह सबसे आम एंजाइम की कमी है और 400 लाख से अधिक लोग इसे से पीड़ित हैं। वे देश इस कमी का एक उच्च स्तर है वहां युद्ध और आतंकवाद को छोड़कर अधिक अपराध दर पायी गई है। 

प्रोफेसर बुशमन अंत मे बताते है कि मधुमेह हिंसक व्यवहार के लिए एक बहाना के रूप प्रयोग में नहीं लाया जा सकता है, लेकिन क्यों इस प्रकार के व्यवहार होता है, समझा जा सकता है। दुनिया भर में मधुमेह के जोखिम की वृद्धि के साथ, समस्या यह है कि यह हम सभी से संबंधित है। मधुमेह को समझने के लिए समय देने की जरूरत है और यह कैसे मस्तिष्क के सामान्य कार्यप्रणाली को प्रभावित करता है।

अगली बार जब आप को गुस्सा आएं, तो एक गहरी साँस ले और एक चम्मच चीनी की ले- यह अच्छी तरह से हो सकता है कि मेरी पॉपिंस के अनुसार गुस्सा शांत हो जाए!

 

 

Write a Review
Is it Helpful Article?YES1 Vote 12273 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर