तेज आंच पर खाना पकाना, मतलब दिल की बीमारियों को निमंत्रण!

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 24, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • तेज आंच पर खाना पकाना है हानिकारक
  • इससे बढ़ता है दिल की बीमारियों का खतरा
  • धीमी आंच पर खाना बनाना है बेहतर

शोधकर्ताओं के अनुसार तेज आंच पर पकाए गए खाने में जहरीले रसायन रह जाते हैं, जोकि हृदय रोग के जोखिम को और भी बढ़ा देते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार धीमी आंच पर खाना पकाकर खाने से कई रोगों के खुद को बचाया जा सकता है। तो चलिए विस्तार से जाने कि क्या वाकई तेज आंच पर पके आने से आपका दिल बीमार हो सकता है और शोधकर्ताओं का इस संबंध में क्या कहना है।

कुछ शोधकर्ताओं का ऐसा मानना है कि यदि भोजन को बहुत तेज आंच पर पकाया जाए तो उसमें कुछ हानिकारक तत्व रह जाते हैं जोकि दिल की बीमारी का कारण बन सकते हैं। हालांकि उनका यह भी कहना है कि तेज आंच पर पके भोजन और हृदय रोगों के बीच संबंध के बारे में जानने के लिए अभी और भी शोध किए जाने की जरूरत है। और ये पता लगाने की जरूरत है कि वे समुदाय जिनमें भोजन को तेज आंच पर पकाने की परंपरा है, में हृदय रोगों के होने की दर उच्च क्यों है?


इसे भी पढ़ें: काला नमक खाएं, पास नहीं फटकेंगी ये बीमारियां!

cooking food

क्या कहते हैं शोध

भोजन को 150 डिग्री सेंटिग्रेट से अधिक तापमान पर पकाने से उनकी रासायनिक संरचना में परिवर्तन आ जाता है जोकि विषाक्त पदार्थों के गठन का कारण बनता है, जिसे नव-गठित संदूषित पदार्थ के रूप में जाना जाता है। इन संदूषित पदार्थों में ट्रांस फैटी एसिड भी शामिल होते हैं, जोकि बेहद हानिकार होते हैं और देश व दुनिया के कई हिस्सों में इनकी बिक्री पर पाबंदी भी है।

खासतौर पर बहुत तेज आंच पर तला गया भोजन इसलिए हानिकारक होता है, क्योंकि इसका तेल ट्रांस फैटी एसिड में परिवर्तित हो जाता है और सेहत को बेहद नुकसान पहुंचाता है। एडिनबर्ग विश्वविद्यालय के नेतृत्व में एक अंतरराष्ट्रीय टीम ने पूर्व में हुए अध्ययनों की समीक्षा की। इन अध्ययनों में नव-गठित संदूषित पदार्थों के मनुष्यों और जानवरों के ऊतकों पर होने वाले प्रभाव के बारे में जांच की गई थी। इन अध्ययनों में भी इन पदार्थों और हृदय रोगों के बीच संबंध की बात साबित हुई थी।

शोधकर्ताओं ने पाया की खाना पकाने का तरीका काफी हद तक यह तय करता है कि किसी व्यक्ति की हृदय आघात से मौत होने की क्या आशंका है। मसलन पाकिस्तान में पैदा हुए किसी व्यक्ति की हृदय आघात से मौत होने की आशंका ब्रिटेन में पैदा हुए किसी इंसान से अधिक हो सकती है। ऐसा उनके खान-पान और खाना पकाने के तरीके से काफी कुछ प्रभावित होता है। तो इस बात में कोई शक नहीं कि तेज आंच पर अधिक समय तक पका या तला भोजन हृदय रोग होने की आशंका को बढ़ा सकता है।


Image source: ecofriend&valueadd.sg

Read more articles on Diet and Nutrition in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES1 Vote 1695 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर