दर्द की पुरानी व गंभीर समस्याओं के लिए ऑस्टियोपैथी

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 23, 2014
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • ऑस्टियोपैथी वैकल्पिक चिकित्‍सा पद्धति है।
  • हर तरह की हड्डी की समस्‍या का उपचार।
  • असहनीय दर्द से मिलता है छुटकारा।
  • ऑस्टियोपैथी होलिस्टिक विधि होती है।

ऑस्टियोपैथी यानी अस्थिचिकित्सा एक प्रकार की वैकल्पिक चिकित्‍सा पद्धति है जिससे लगभग हर तरह की हड्डी की समस्‍या का उपचार किया जा सकता है। यह पद्धति भारत में काफी देर से आई है लेकिन इस पद्धति का प्रयोग अमेरिका और यूरोप में बहुत पहले से होता आया है। इस तकनीक के जरिये ऑस्‍ट्रेलिया और न्‍यूजीलैंड जैसे देशों में भी ह‍ड्डियों का उपचार होता है। रीढ़ की हड्डी के नीचे के हिस्‍से में होने वाली बीमारी को ठीक करने में फिजियोथेरेपिस्ट इस तकनीक का प्रयोग करते हैं। यह रीढ़ की हड्डी की चोटों के लिए एक अत्यंत महत्वपूर्ण उपचार है।

ऑस्टियोपैथी दरअसल एक प्रकार की मैनुअल तकनीक है, जिससे शरीर का पूरा सिस्टम प्रभावित होता है। यह होलिस्टिक विधि होती है, जिसमें शारीरिक, मानसिक, भावनात्‍मक और आध्यात्मिक हर पहलू को शामिल किया जाता है। ऑस्टियोपैथी मरीज की मांसपेशियों, जोड़ों, कनेक्टिव टिश्यू और लिगामेंट्स आदि के जरिए शरीर में ऊर्जा के प्रवाह को सामान्य करता है। इससे शरीर के स्केलेटल, नर्वस रेस्पीरेटरी और इम्यून सिस्टम पर असर पड़ता है। इससे कई तरह की बीमारियों का उपचार हो जाता है।

 

Osteopathy in Hindi

 

पुराने दर्द के लिए ऑस्टिओपैथी

 

ऑस्टियोपैथी पर अभी तक बहुत कम शोध ही हुए हैं लेकिन जितने भी हुए हैं उनके परिणाम काफी सकारात्मक रहे। हाल ही में हुए एक अध्ययन में 144 गर्भवती महिलाओं को ऐक्जामिन किया गया। सभी महिलाएं 6 महीने से अधिक के गर्भ से थीं और सभी की लोअर बैक में दर्द था। इन महिलाओं में से जिसे ऑस्टियोपैथिक मैनुपुलेटिव ट्रीटमेंट दिया गया, उनका दर्द कम हुआ।

एक अन्य अध्ययन में माइग्रेन से पीड़ित 42 महिलाओं में से आधी महिलाओं को 10 सप्ताह तक ऑस्टियोपैथिक मैनुपुलेटिव ट्रीटमेंट दिया गया। इस दौरान उन्होंने 5 सेशन में हिस्सा लिया। बाकी की आधी महिलाओं को किसी प्रकार का कोई ट्रीटमेंट नहीं दिया गया। जिन महिलाओं को ये ट्रीटमेंट मिला था उनको माइग्रेन के दर्द में काफी आराम मिला।

एक अध्ययन के दौरान लोअर बैक पेन के मरीजों का ऑस्टियोपैथिक मैनुपुलेटिव ट्रीटमेंट से पहले और बाद में एमआरआई करवाया गया। एमआरआई के मालूम चला कि इस ट्रीटमेंट से मसल्स वापस से ठीक हो गई हैं।

 

Osteopathic Treatment in Hindi

 

कौन सी बीमारियों में कारगर है ऑस्टियोपैथी


ऑस्टियोपैथी के जरिये गठिया के दौरान होने वाले असहनीय दर्द, डिस्क की समस्याओं, कंधों में दर्द और जकड़न, सिर में होने वाला दर्द, कूल्हे, गर्दन और जोड़ों के दर्द, मांसपेशियों में खिंचाव, खेल की गतिविधियों के दौरान लगने वाली चोट, टेनिस एल्बो, तनाव, सांस संबंधी समस्‍यायें, गर्भावस्‍था के दौरान होने वाली समस्‍याओं, पाचन क्रिया से जुड़ी समस्‍याओं के लिए इसका प्रयोग किया जाता है। इस तकनीक से इन समस्‍याओं से निजात भी मिल जाती है।

ऑस्टियोपैथी के विशेषज्ञ को ऑस्टियोपैथ बोलते हैं। ऑस्टियोपैथ अपने हाथों का उपयोग करके मरीज की समस्या का इलाज अलग-अलग तकनीक के प्रयोग से करते हैं। इन तकनीकों में सॉफ्ट टिश्यू तकनीक, रिदमिक पैसिव ज्वाइंट मोबिलाइजेशन जैसी तकनीक शामिल हैं। इसके जरिये ही मरीज की समस्‍याओं का उपचार होता है।

Image Source - Getty Images
Read More Articles on Alternative Therapy in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES3 Votes 1271 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर