बिवाई के लक्षण और उपचार

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 29, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • बिवार्इ खतरनाक नहीं, लेकिन बहुत तकलीफदेह होता है।
  • बिवाई के लिए किसी भी उपचार की जरूरत नहीं होती है।
  • प्रभावित हिस्‍सों को छूने या खरोंचने से बचें।
  • सूजन को कम करने के लिए दवाओं या क्रीम का इस्‍तेमाल करें।

बिवाई ठंडे तापमान के कारण त्‍वचा पर होने वाली सूजन है। यह सूजन आमतौर पर पैर के अंगूठे, उंगलियों, एड़ी, कान या नाक के आसपास होती है। सूजन आमतौर पर छोटी और खुजली वाली होने के साथ-साथ बहुत दर्दनाक होती है। बिवाई को 'पर्नियों' के रूप में भी जाना जाता है, और यह समस्‍या रक्त वाहिकाओं की सूजन के कारण होती है। ऐसा अक्‍सर शरीर को बहुत अधिक गर्म से ठंडे वातावरण में ले जाने पर होता है। बेहद ठंडे तापमान के दौरान रक्‍त वाहिकाओं में रक्‍त का प्रवाह सीमित हो जाता है। और शरीर के बहुत अधिक गर्म वातावरण में जाने पर वाहिकाओं में अप्रत्याशित विस्तार बिवाई का कारण बनता है।

इससे जुड़ा एक बहुत ही आम उदाहरण है, ठंडे हाथों को एकदम से गर्म करने पर हाथों में सूजन और झुनझुनी पैदा होने लगती है। और ऐसा करना बिवाई के होने का कारण बनता है।

chilblains in hindi

बिवाई के कारण

बिवाई अत्‍यधिक ठंड के दौरान रक्‍त वाहिकाओं के रक्‍त प्रवाह को सीमित करने के कारण होता है, लेकिन गर्मी के संपर्क में आने पर यह अप्रत्‍याशित विस्‍तार का कारण भी बनता है। इस दौरान आसपास के ऊतकों में तरल पदार्थ स्रावित होने लगता है। बिवाई खतरनाक नहीं होता और न ही इससे कोई स्‍थायी नुकसान होता है। लेकिन इसे लाइलाज छोड़ने पर यह खुजली और दर्दनाक सूजन के रूप में बहुत ही तकलीफदेह हो सकता है। कम सामान्‍य स्थितियों में त्‍वचा पर दरार उत्‍पन्‍न कर संक्रमण का कारण भी बनता है। इसके इलाज में साधारण एंटी-सेप्टिक और एंटीबायोटिक दवाएं शामिल होती हैं।

signs-of-Chilblains in hindi

बिवाई के संकेत और लक्षण

  • ठंडे वातावरण से गर्म वातारण में अचानक आने के बाद बिवाई को विकसित होने में समय लगता है।
  • कई घंटे ऐसे वातावरण में रहने के बाद प्रभावित हिस्‍से में जलन और खुजली जैसा महसूस होने लगता है।
  • और तापमान के बढ़ने से यह अधिक तीव्र भी हो सकता है।
  • इसके साथ ही प्रभावित हिस्‍से में सूजन और त्‍वचा लाल और गहरे नीले में बदलने लगती है।
  • समस्‍या के बहुत अधिक बढ़ने पर प्रभावित त्‍वचा पर घाव और छाले भी हो सकते है। 

इलाज

आमतौर पर बिवाई की समस्‍या से बचने के लिए इलाज की आवश्‍यकता नहीं होती, कुछ सप्‍ताह के बाद यह समस्‍या अपने आप ठीक हो जाती है। लेकिन अगर समस्‍या बहुत तकलीफदेह या दर्दनाक हो तो अपने डॉक्‍टर से संपर्क करें। डॉक्‍टर रक्‍त वाहिकाऔं को आराम पहुंचने के लिए दवाओं और खुजली और दर्द को दूर करने के लिए क्रीम या लोशन की सलाह देता है। साथ ही प्रभावित त्‍वचा को छीलने से बचें क्‍योंकि ऐसा करना त्‍वचा को संक्रमित कर सकता है।

treatment of chilblains in hindi

बिवाई को होने से रोकना बेहतर

बिवाई होने से रोकना बेहतर रहता है। इसलिए आप बेहद ठंडे या गर्म वातावरण के जोखिम को कम करके बिवाई के विकास के खतरे को कम कर सकते हैं। साथ ही गर्म कपड़े पहनें और चुस्त जूते पहनने से बचें। अगर आपके हाथ या पैर बहुत अधिक ठंडे हो गये हैं तो उन्‍हें धीरे-धीरे गर्म करें। बहुत जल्दी इन्‍हें गर्म करना बिवाई का कारण बन सकता है।


Read More Articles on Skin Problem in Hindi

 

Image Courtesy : Getty Images

Write a Review
Is it Helpful Article?YES5 Votes 4149 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर