दांतों की सड़न होती है कैविटी

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 12, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • कैविटी का अर्थ होता है दांतों में छेद होना।
  • रहन-सहन, खानपान से होते हैं दांत खराब।
  • कोरोनल कैविटी और रूट कैविटी है आम।
  • कैविटीज़ की पुष्टि करता है दन्त चिकित्‍सक।

कैविटी का अर्थ होता है, दांतों में छेद होना जिसे विज्ञान की भाषा में दन्त क्षय या कैविटी कहा जाता है। मुँह में मौजूद अम्ल के कारण दांतों के इनेमल खोखले होने लगते हैं यानि कि अम्ल दांतों के इनेमल को प्रभावित करने लगता है जिसके कारण डेंटल केरीज़ या कैविटीज़ का निर्माण होता है। मुँह में मौजूद रहने वाले बैक्‍टीरिया (लार, खाद्य कणों एवं अन्य पदार्थों के साथ) दांतों कि सतह पर जमा होने लगते हैं जिसे पट्टिका (प्लाक) कहा जाता है। प्‍लेक में मौजूद बैक्‍टीरिया आपके खाने में मौजूद शुगर एवं कार्बोहाइडेट को अम्ल में परिवर्तित कर देता है इसी अम्ल के कारण दांत खोखले होने लगते हैं, फलत: कैविटी का निर्माण होता है।

 

दांत का जो भी भाग प्लाक और अम्ल के संपर्क में रहेगा, वह कैविटी का शिकार हो सकता है। वह चाहे इनेमल का कठोर शीर्ष  हो या इनेमल के बिना दांतों का जड़, जो मसूड़ों से कसकर बंधा होता है। दन्त क्षय (कैरीज़) दांत के शीर्ष भाग से फैलते हुए, दांत के मुख्य भाग से होते हुए, दांत के जड़ तक भी पहुँच सकता है, जहाँ आपके दांतों की अत्यंत हीं नाजुक, कोमल एवं महत्वपूर्ण तंत्रिकाएं होती हैं । अगर ऐसा हो गया तो आपके समूचे दांत का नाश हो सकता है। कैविटी में कई बार काफी पीड़ा भी होती है लेकिन ये पीड़ा किस वजह से होती है, इसके कारण का अभी तक पता नहीं चला है । संभवतः बैक्‍टीरिया की वजह से दांत की जड़ों में या मसूड़ों में जो सूजन आ जाता है, या दांतों का जड़ खुलने के कारण वह अम्ल इत्यादि के संपर्क में आने लगता है, पीड़ा उसी वजह से होती है।

 

दांतों को प्रभावित करने वाले कारण

  •  आपका रहन सहन।
  •  आपका खान-पान।
  •  अपनी दांतों की सफाई का आप कितना ध्यान रखते हैं।
  •  आपके टूथपेस्‍ट या पानी में फ्लोराइड की मात्रा कितनी होती है।
  •  अनुवांशिक गुणों की वजह से भी आपके दांत इस दोष के शिकार हो सकते हैं। अनुवांशिकता दन्त क्षय में अहम भूमिका निभाता है।

 

कैविटी के प्रकार

  • कोरोनल कैविटी: इस तरह की कैविटी दांतों के शीर्ष पर या दांतों के बीच में पाए जातें हैं। बच्चों या वयस्कों में आमतौर पर पाई जाती है।
  • रूट कैवटी: ज्यों-ज्यों उम्र बढती है त्यों-त्यों दांतों के जड़ से मसूड़े हटने लगते हैं जिसके कारण दांतों की जड़ में मौजॅद बैक्‍टीरिया, खाद्य कणों के संपर्क में आने लगता है और चूँकि दांतों के जड़ में इनेमल नहीं होता अतः ये जल्दी सड़ने लगते हैं।
  • आवर्तक  क्षय : दांतों के जिन भागों में फिलिंग की जाती है या क्राउनिंग किया गया होता है उनके आस-पास प्‍लेक जमने लगता है जिसकी वजह से दांतों में बार-बार खराबी उत्पन्न होती रहती है।

 

Teeth problem in hindi


बच्चों में कैविटीज़ का होना आम बात है लेकिन वयस्क में भी इसका खतरा बना रहता है। ऐसे वयस्क जिनका मुँह सूखता रहता है या शुष्क रहता है उनमें यह रोग लगने का खतरा ज्यादा रहता है (यह स्थिति लार की कमी के कारण उत्पन्न होती है)। कैविटी दांतों की एक खतरनाक बीमारी है, यदि उचित समय पर इसका इलाज न किया गया तो ये आपके समूचे दांत का नाश कर सकता है। इसके प्रभाव से दांतों के जड़ के पास फोड़ा या घाव भी हो सकता है। अगर फोड़ा हो गया तो फिर रूट कैनाल के जरिए हीं इसका उपचार संभव है, जिसके लिए आपरेशन करना पड़ सकता है या समूचे दांत को हीं उखाड़ना पड़ सकता है।

कैसे हो कैविटी की पुष्टि

कैविटीज़ की पुष्टि दन्त चिकित्‍सक ही कर सकता है। कभी-कभी कैविटी का निर्माण दांतों की  सतह के नीचे होता है जिसे आप देखना चाहें तो आपको दिखलाई नहीं देगा। इन मामलों में प्‍लेक में मौजूद बैक्‍टीरिया दांतों के भीतरी भाग को खोखला करने लगते हैं, जबकि ऊपरी भाग बिलकुल ठीक रहता है।

जब बैक्‍टीरिया काफी हद तक दांतों को खोखला कर डालते हैं तो ऊपरी परत गिर जाती है और कैविटी नजर आने लगती है। कैविटी ज्‍यादातर चबाने वाले मोलर दांतों में होती हैं या दांतों के बीच में या मसूड़ों के आस-पास। आपको अपने दन्त चिकित्सक से अपने दांतों की नियमित रूप से जांच करवानी चाहिए और अगर कैविटी का कोई लक्षण नजर आए तो, इससे पहले कि वो खतरनाक बने, उसका इलाज करवाना चाहिए।

 

Image Source - Getty Images

Read More Articles on Oral Heath in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES37 Votes 17087 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • Ashok Sharma23 Feb 2013

    All the informations given here are really good at free of cost. I would like to thanks to you for giving such precious informations for day to day health problems.

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर