थकान, अनिद्रा और निगलने में परेशानी हैं थायराइड नोड्यूल के लक्षण

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 08, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • थायराइड नोड्यूल इसके किसी भी हिस्‍से में या पूरे ग्रंथि में हो सकता है।
  • इसके कारण गले में सूजन, निगलने और बोलने में होती है समस्‍या।
  • नोड्यूल से थायरॉक्सिन हार्मोन का स्राव ज्‍यादा होने से घटता है वजन।
  • असामान्‍य दिल की धड़कन के साथ बोलने, सोने में होती है परेशानी।

थायराइड नोड्यूल थायराइड ग्रंथि में असामान्‍य वृद्धि को दर्शाता है। थायराइड नोड्यूल इस ग्रंथि के किसी भी हिस्‍से में निकल सकता है। हालांकि कुछ नोड्यूल को आसानी से पहचान में आ जाते हैं। लेकिन कुछ थायराइड नोड्यूल ऐसे भी होते हैं जो थॉयराइड ऊतकों में मौजूद होते हैं लेकिन उनकी पहचान आसानी से नहीं की जा सकती है।  

Causes And Symptoms of Thyroid Nodulesथायरॉयड ग्रंथि गले में पायी जाती है, यह ग्रंथि सांस नली और ट्रेकिया के चारों तरफ तितली के आकार में लिपटी होती है। थायराइड नोड्यूल के कारण थायराइड कैंसर के होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है। यदि समय पर इसका निदान न किया जाये तो इसका आकार बढ़ जाता है और यह बाहर से दिखाई देता है। इसके कारण निगलने में दिक्‍कत हो सकती है। आइए हम आपको थायराइड नोड्यूल के नक्षण और कारण के बारे में बताते हैं।

थायराइड नोड्यूल के लक्षण

ज्‍यादातर मामलों में थायराइड नोड्यूल आसानी से पहचान में नहीं आता और न ही इसके लक्षण दिखाई देते हैं, जब तक इसमें सूजन न आ जाये, सूजन के कारण यह फूलता है, इसके कुछ लक्षण हैं -

  • इनको सूजन के आधार पर आसानी से देखा जा सकता है।
  • शुरूआत में निगलने में दिक्‍कत होती है जिससे इनको महसूस भी किया जा सकता है।
  • कुछ मामलों में थायराइड नोड्यूल अतिरिक्‍त मात्रा में थायराक्सिन हार्मोन का उत्‍सर्जन करते हैं।
  • थायराइड नोड्यूल की वजह से अचानक वजन घट सकता है।
  • दिल की धड़कन भी अनियमित हो जाती है, जो कभी कम या ज्‍यादा हो जाती है।
  • इसके कारण बोलने में भी दिक्‍कत हो सकती है, क्‍योंकि यह वॉयस बॉक्‍स (लेरिंक्‍स) को संकुचित कर देता है।
  • रात को सोने में दिक्‍कत होती है, ऐसा थायराइड नोड्यूल के बढ़ने से होता है।
  • मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं, जिसके कारण मरीज को थकान और कमजोरी का एहसास होता है।

 

थायराइड नोड्यूल के कारण

 

आयोडीन की कमी

खाने में आयोडीन की कमी के कारण थायराइड नोड्यूल के बढ़ने की संभावना ज्‍यादा होती है। यदि आपके आहार में आयोडीन की मात्रा कम है तो थायराइड ग्रंथि में थायराइड नोडल का विकास हो जाता है। हालांकि इसका मतलब यह नहीं कि आप आयोडीन की कमी केवल नमक से करें, इसके लिए आप आयोडीनयुक्‍त आहार भी खा सकते हैं। सबसे ज्‍यादा आयोडीन समुद्री मछली में पाया जाता है।

 

थायराइड ऊतक से

यदि थायराइड ऊतक असामान्‍य रूप से बढ़ जाता है, तब भी थायराइड नोड्यूल की समस्‍या हो सकती है, इस स्थिति को थायराइड एडेनोमा नाम से भी जाना जाता है - हांलाकि आमतौर पर यह नॉनकैंसरस होता है और इसके कारण ज्‍यादा गंभीर समस्‍या नहीं होती है। कुछ एडेनोमा ऐसे भी हैं जो अपने-आप थायराइड हार्मोन का उत्‍सर्जन पिट्यूटरी ग्रंथि के बाहर करते हैं, इसके कारण हाइपरथायराइडिज्‍म की समस्‍या हो सकती है।

 

थायराइड सिस्‍ट

तरल पदार्थों से भरी गुहायें (इसे सिस्‍ट भी कहते हैं) थायराइड में समसे सामान्‍य रूप में पायी जाती हैं, इसके कारण ही थायराइड एडीनोमा की स्थिति आती है। कभी-कभी ठोस पदार्थ थायराइड सिस्‍ट में तरल पदार्थों के सा‍थ मिल जाते हैं। हालांकि आमतौर पर अल्‍सर यानी सिस्‍ट सौम्‍य होते हैं, लेकिन कभी-कभी उनके साथ घातक ठोस पदार्थ भी होते हैं।


थायराइड की सूजन

थायराइड ग्रंथि में जब लंबी अवधि तक सूजन रहती है तब भी थायराइड नोड्यूल होने की संभावना बढ़ जाती है। इस स्थिति को थायराइडिटिस भी कहते हैं। सामान्‍यतया हसीमोटोज एक प्रकार का विकार है, जो थायराइड ग्रंथि में सूजन बढ़ने के कारण होता है और थायराइड ग्रंथि की कार्यक्षमता को कम कर देता है, इसे हाइपोथायराइडिज्‍म कहते हैं।

 

थायराइड कैंसर

थायराइड कैंसर में नोड्यूल के छोटे रहने की ज्‍यादा संभावना रहती है। यदि परिवार में किसी को यह बीमारी हुई तो घर के अन्‍य सदस्‍यों में भी इस बीमारी के होने की संभावना रहती है। यदि आपकी उम्र 30 से 60 के बीच की है तो आपको इसका जोखिम ज्‍यादा होता है।

 

 

Read More Articles On Thyroid in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES165 Votes 11850 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर