कैंसर को सूंघ सकती है नई तकनीक

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 19, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

 

DCT –  cancer-ko-soongh-sakti-hai-nayi-taknik
Title -  कैंसर को सूंघ सकती है नई तकनीक



वैज्ञानिकों ने ऐसी तकनीक विकसित की है जो आपकी सांसों को सूंघकर कैंसर के बारे में पता लगा सकती है। साथ ही मशीन यह जानकारी भी देगी कि आगे और जांच कराने की जरूरत है या नहीं। इस तकनीक की सबसे कमाल की बात यह है कि इसके जरिए न सिर्फ कैंसर के इलाज में लगने वाला वक्त कम हो जाएगा, बल्कि दावों पर यकीन करें तो यह इलाज पर होने वाले खर्च को भी आठ गुना तक कम कर देगा। 

शिकागो में आयोजित ‘अमेरिकन सोसायटी ऑफ क्लिनिकल आंकोलॉजी’ में प्रदर्शित इस तकनीक का नाम ‘कैंसर डिटेक्टिंग ब्रेथ एनालाइजर’ है। अभी इसके क्लिनिकल परीक्षण का इंतजार किया जा रहा है। इससे स्तन और फेफडे के कैंसर का पता लगाया जा सकता है। 

इस तकनीक को विकसित करने वाले ‘जार्जिया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी’ के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि इससे कैंसर की जांच के दौरान होने वाले खर्च को तो कम किया ही जा सकेगा साथ ही साथ उसमें लगने वाले समय, सिटी स्कैन और मेमोग्राफी के समय होने वाली परेशानियों से बचा जा सकता है। 

अनुसंधानकर्ता चार्लेने बायर का कहना है कि मैं ऐसी तकनीक का विकास करना चाहता हूं जो कि सस्ती और सामान्य हो। उनका कहना है कि इस तकनीक में मरीज की सांस को एक विशेष कंटेनर में भरकर जांच किया जाता है। बेयर का कहना है कि यह तकनीक कैंसर के जांच के खर्च को आठ गुना कम कर देगा। 

cancer cellवैज्ञानिकों ने ऐसी तकनीक विकसित की है जो आपकी सांसों को सूंघकर कैंसर के बारे में पता लगा सकती है। साथ ही मशीन यह जानकारी भी देगी कि आगे और जांच कराने की जरूरत है या नहीं। इस तकनीक की सबसे कमाल की बात यह है कि इसके जरिए न सिर्फ कैंसर के इलाज में लगने वाला वक्त कम हो जाएगा, बल्कि दावों पर यकीन करें तो यह इलाज पर होने वाले खर्च को भी आठ गुना तक कम कर देगा। 

 

शिकागो में आयोजित ‘अमेरिकन सोसायटी ऑफ क्लिनिकल आंकोलॉजी’ में प्रदर्शित इस तकनीक का नाम ‘कैंसर डिटेक्टिंग ब्रेथ एनालाइजर’ है। अभी इसके क्लिनिकल परीक्षण का इंतजार किया जा रहा है। इससे स्तन और फेफडे के कैंसर का पता लगाया जा सकता है। 

 

इस तकनीक को विकसित करने वाले ‘जार्जिया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी’ के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि इससे कैंसर की जांच के दौरान होने वाले खर्च को तो कम किया ही जा सकेगा साथ ही साथ उसमें लगने वाले समय, सिटी स्कैन और मेमोग्राफी के समय होने वाली परेशानियों से बचा जा सकता है। 

 

अनुसंधानकर्ता चार्लेने बायर का कहना है कि मैं ऐसी तकनीक का विकास करना चाहता हूं जो कि सस्ती और सामान्य हो। उनका कहना है कि इस तकनीक में मरीज की सांस को एक विशेष कंटेनर में भरकर जांच किया जाता है। बेयर का कहना है कि यह तकनीक कैंसर के जांच के खर्च को आठ गुना कम कर देगा। 

Write a Review
Is it Helpful Article?YES11423 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर