क्या दिन में छः मील लेने से मेटाबोलिज्म बेहतर होता है!

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 23, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • रोजाना 6 बार खाना सेहत के लिए बेहतर है : शोध।
  • दिन में छः मील लेने से मेटाबोलिज्म बेहतर होता है।
  • लेकिन एक सर्विंग का अर्थ भर-भर कर खाना नहीं।
  • यह फार्मूला डायबिटीज आदि रोगियों के लिए नहीं।

बरसों तक दिन में तीन बार खाने का चलन चलता आ रहा है। लेकिन शोधों के बाद इसमें कुछ बदलाव आए और डाइट एक्सपर्ट्स ने दिन में तीन बार मेन मील (ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर) के बीच में 2-3 बार स्नैक्स खाने की सलाह दी। एक स्टडी में यह भी कहा गया कि रोजाना 6 बार खाना सेहत के लिए बेहतर है। लेकिन वहीं कुछ शोध बताते हैं कि दिन में छः मील लेने से मेटाबोलिज्म बेहतर होता है। तो भला दिन में कितने मील लिए जाएं जो सेहत बेहतर बनी रहे। तो चलिये इस बात पर आज इस विषय पर विस्तार से चर्चा करते हैं और जानने की कोशिश करते हैं कि दिन में कितनी बार खाना खाया जाए और इस विषय पर शोध क्या कहते हैं।

 

6 Meals Everyday in Hindi

 

इंपीरियल कॉलेज का शोध

हाल में हुए एक शोध में कहा गया कि दिन में 9 बार खाने से ब्लड प्रेशर और कॉलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है। वहीं, ऐसा करने से वजन भी काबू में बना रहता है। लंदन के इंपीरियल कॉलेज के प्रफेसरों द्वारा की गई इस शोध में ब्रिटेन, अमेरिका, चीन और जापान के 2000 लोगों को शामिल किया गया। सभी को समान मात्रा और कैलरी का भोजन दिया गया। लेकिन आधे लोगों ने दिन में 6 बार से कम बार खाया और बाकी ने 6 बार से ज्यादा। शोध में परिणामों में देखा गया कि जिन लोगों ने कम बार खाना खाया, उनका ब्लड प्रेशर 6 बार से ज्यादा बार खाने वाले लोगों की तुलना में ज्यादा था। इन लोगों का वजन भी बाकी लोगों से थोड़ा ज्यादा पाया गया। शोध में इस बात का ध्यान रखा गया कि खाना बेशक कई बार खाया जाए लेकिन खाने की मात्रा कम ही रहे। हर बार 300 कैलरी का ही खाना दिया गया और हर बार खाने के बीच में कुछ भी खाने को नहीं दिया गया। विशेषज्ञों का मानना है कि अनेक बार लेकिन  ठूस-ठूस कर खाने से अच्छा है कम मात्रा में कई बार खाया जाए।


हालांकि यह भी सत्य है कि दिन भर में 9 बार खाना व्यवहारिक तौर पर साधारण व्यक्ति के लिए मुमकिन नहीं लगता। ऐसे में एक्सपर्ट सलाह देते हैं कि 9 बार न सही, लेकिन पूरे दिन में कम मात्रा में 5 से 6 बार खाना सेहत को बेहतर बनाता है।

 

6 Meals Everyday in Hindi

 

बढ़ता है मेटाबॉलिज्म

कुछ शोध बताते हैं कि कई बार खाना खाने से हमारे शरीर का मेटाबॉलिज्म बढ़ता है। मेटाबॉलिज्म दरअसल वह प्रक्रिया, जिसमें खाना पचने के बाद शरीर के सेल्स और टिश्यूज द्वारा इस्तेमाल किये जाने लायक बनता है। मेटाबॉलिज्म के दौरान खाना एनर्जी, एंजाइम्स और फैट में बदलता है। एनर्जी शरीर को काम करने में शक्ति देती है, एंजाइम्स हॉर्मोंस बनाते हैं और पाचन में मदद करते हैं, जबकि फैट शरीर में जमा हो जाता है। यदि मेटाबॉलिज्म ठीक न हो तो शरीर में फैट बढ़ जाता है। इससे कॉलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर, दोनों बढ़ने को जोखिम बढ़ जाता है।


कितना खाएं

एक सर्विंग का अर्थ एक सेब या एक नाशपाती, सेब या एक अमरूद या फिर 15 से 20 अंगूर या पपीते की 2 से 3 फांक होता है।  ठीक इसी तरह सब्जियों का अनुमान छोटी कटोरी से लगाया जा सकता है। यानी तमाम फल और सब्जियां मिलाकर अगर दिन भर में छःसर्विंग खाई जाएं तो हमारी सेहत सुधारती है। सब्जियों और फलों को खाने के साथ बतौर स्नैक्स मील्स के बीच में खाना भी ठीक है। इससे ज्यादा मात्रा में फल-सब्जियां खा पाएंगे और तले-भुने स्नैक्स से भी आप दूर रह सकेंगे।


हालांकि कुछ शोध यह भी बताते हां कि दिन में छः बार खाने को यह फार्मूला डायबिटीज व अन्य कुछ रोगों से पीड़ित व्यक्तियों पर लागू नहीं होता है। इसलिए इस विषय पर एक बार अपने डायटीशियन से सलाह जरूर ले लेनी चाहिए।



Read More Articles On Diet & Nutrition in Hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES8 Votes 2277 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर