गर्भावस्‍था के शुरूआती दिनों में करा सकती हैं स्‍तनपान

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 12, 2013
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • गर्भावस्था के दौरान स्तनपान कराना ज्‍यादा नुकसानदेह नहीं हो सकता है।
  • आप गर्भवती हैं और स्‍तनपान करा रही हैं तो खानपान पर विशेष ध्‍यान दें।
  • कभी-कभी स्तनपान के दौरान गर्भाशय में हो सकती है दर्द की शिकायत।
  • यदि कमजोरी या थकान और सुस्‍ती का अनुभव हो तो न करायें स्‍तनपान।

garbhavastha ke dauran stanpan

प्रसव के बाद शिशु को स्तनपान कराना बहुत जरूरी है। शिशु के लिए स्तनपान ही पर्याप्त पूरक आहार है। मां के पहले दूध में मौजूद कोलेस्‍ट्रम बच्‍चे की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करता है। यह बच्‍चे को भविश्‍य में कई प्रकार की घातक बीमारियों से भी बचाता है।

प्रसव के बाद छ: महीने तक स्‍तनपान कराना बहुत जरूरी है। लेकिन यदि आपका एक और नवजात बच्‍चा है तो स्‍तनपान कराने से पहले चिकित्‍सक से सलाह लेना बहुत जरूरी है। क्‍योंकि इस दौरान महिला के शरीर के हार्मोन बदलते हैं, जिससे आपके बच्‍चे को नुकसान हो सकता है। आइए हम आपको बताते हैं कि गर्भावस्‍था के दौरान स्‍तनपान कराना चाहिए या नहीं।

 

गर्भावस्‍था और स्‍तनपान 

  • यह तो हम सभी जानते हैं कि स्तनपान के फायदे बहुत है और नवजात शिशु के लिए यह किसी अमृत से कम नहीं लेकिन गर्भावस्था के दौरान डॉक्टर की सलाह पर ही स्तनपान कराना बेहतर है।
  • हालांकि यह भी कहा जाता है कि जब तक महिलाएं स्तनपान कराती हैं तो वह जल्द गर्भधारण नहीं करती है। लेकिन कई बार ऐसे समय में भी महिलाएं गर्भवती हो जाती हैं तो इसमें घबराने की बात नहीं।
  • गर्भावस्था के दौरान स्तनपान कराना कोई खतरनाक स्थिति नहीं है लेकिन उसके लिए जरूरी है कि आपके अपने खानपान पर और पौष्टिकता पर खास ख्याल रखना होगा अन्यथा स्तनपान गर्भकाल में खतरनाक हो सकता है।
  • हालांकि गर्भावस्था के दौरान स्तनपान कराने से अजन्मे बच्चे को कोई खतरा नहीं होता लेकिन स्तनपान के दौरान या उसके बाद गर्भाशय में दर्द की शिकायत हो या रक्त स्राव होने लगे तो स्तनपान नहीं कराना चाहिए, उसके तुरंत बाद डॉक्टर से परामर्श लेना अच्छा रहता है।
  • नवजात शिशु को आप स्तनपान नहीं करवाने का निश्चय तभी लें जब आपको गर्भावस्था में कोई परेशानी हो रही हो या फिर किसी किस्म की कमजोरी महसूस हो रही हो। लेकिन आप बच्चे का स्तनपान छुड़ाना चाहती है तो डॉक्टर से सलाह लेकर उसका विकल्प तैयार कर लें।
  • गर्भावस्था के दौरान यदि आपका बच्चा स्तनपान न करें या फिर ठीक से दूध न लें तो इसका एक कारण गर्भावस्था हो सकती है या कोई और बीमारी भी। ऐसे में डॉक्टर को यथास्थिति से जरूर रूबरू करवाएं।
  • अधिक मोटापा होने, मिचली होने, हार्मोंस बदलने से यदि आप स्तनपान के दौरान असहज महसूस करती हैं तो कुछ देर के लिए स्तनपान न करवाएं तो अच्छा होगा।
  • यदि आपका बच्चा छह महीने से ऊपर का है और आपकी गर्भावस्था का पहला ट्राइमेस्टर गुजर चुका है तो आप धीरे-धीरे अपने बच्चे को स्तपनपान के अलावा अन्य चीजें भी आहार स्वरूप देना शुरू कर सकती हैं, इससे आपके बच्चे में कमजोरी भी नहीं आएगी और आप गर्भावस्था के अंतिम समय में अपने बच्चे को आसानी से स्तनपान कराने से रोक भी पाएंगी।

 

Read More Articles On- Pregnancy in hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES15 Votes 48968 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर