एस्पिरीन घटाए स्तन कैंसर के दोबारा होने का खतरा

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 26, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • एस्पिरीन महिलाओं में स्तन कैंसर की समस्या को कम करती है।
  • एस्पीरिन कुछ विशेष प्रकार के ट्यूमर को बढ़ने से रोकती है। 
  • स्तन कैंसर की पुनरावृत्ति के जोखिम को भी कम करती है एस्पिरीन।
  • स्तन कैंसर की पहचान खुद से ही करें।

एस्पिरिन सिर दर्द व आम दर्दों में ली जाने वाली सामान्‍य दवाई है। इस दवा को एसिटाइलसैलिसाइलिक एसिड भी कहते हैं। यह एक सैलिसिलेट औषधि है। लेकिन अब यह महिलाओं में स्तन कैंसर की आशंका को भी कम करने में सहायक हो रही है।

 

एस्पिरिन और स्तन कैंसर पर किए गए कई शोधों में सामने आने वाले नतीजे काफी सुखद हैं। लेकिन रोगियों को यह दवा देने से पहले इस दिशा में अभी और अध्ययन करने की आवश्यकता है। एस्पि‍रिन कुछ विशेष प्रकार के ट्यूमर को बढ़ने से रोकती है और उन्हें प्रभावित करती है।
aspirin in breast cancer in hindi

क्या कहते हैं शोध

एक नए शोध के मुताबिक एंटी इंफलेमेटरी दवाएं जैसे एस्पिरीन और ब्रूफेन कुच मोटी महिलाओं में स्तन कैंसर की पुनरावृत्ति को रोकती है। यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास हेल्थ साइंस सेंटर स्थित कैंसर थेरेपी एंड रिसर्च सेंटर (सीटीआरसी) ने स्तन कैंसर के मरीजों के रक्त का परीक्षण किया। उन्होंने रक्त के नमूनों को वसा की कोशिकाओं के माहौल में रखा और फिर इन नमूनों को स्तर कैंसर की कोशिकाओं में रखा। उन्होंने पाया कि मोटापे से ग्रस्त महिलाओं के रक्त के नमूनों में स्तन कैंसर की कोशिकाएं अपेक्षाकृत बड़ी तेजी से वृद्धि करने लगीं। इस शोध के आधार पर शोधकर्ताओं ने सीटीआरसी के मरीजों पर एक अन्य शोध किया। उन्होंने सीओएक्स2 (एस्प्रिस, इब्रुप्रोफेन) लेने वाले और नहीं लेने वाले मरीजों को अलग कर लिया। शोधकर्ताओं ने पाया कि जो मरीज सीओएक्स2 का सेवन करते थे उनमें स्तन कैंसर के फिर से पनपने की दर कम थी।

 

शिकागो के लोया विश्वविद्यालय के स्तन विशेषज्ञ डॉ. शेरिल गाहरम के अनुसार- यह एक एतिहासिक अध्ययन है। अध्ययन में शामिल जिन महिलाओं ने कम से कम तीन माह तक एक हफ्ते में चार बार एस्पीरिन का इस्तेमाल किया उनमें सामान्य महिलाओं की तुलना में स्तन कैंसर की संभावना तीस फीसदी कम पायी गयी। यहीं नही एस्पीरिन के इस्तेमाल से अन्य तरह के ट्यूमर होने की आशंका भी घट गयी।

test of breast cancer in hindi

क्यों होता है कैंसर

यूं तो स्तन कैंसर के 100 में से 10 मामलों अनुवांशिकता के कारण होते हैं, लेकिन कैंसर होने में जीन के बदलाव का 100 फीसदी हाथ होता है। जींस, आसपास का माहौल और लाइफस्टाइल- ये तीन कारक मिलकर किसी के शरीर में कैंसर होने की आशंका को बढ़ाते हैं।


खुद करें पहचान

20 साल की उम्र से हर महिला को हर महीने पीरियड शुरू होने के 5-7 दिन बाद किसी दिन खुद ब्रेस्ट की जांच करनी चाहिए। ब्रा लाइन से लेकर ऊपर कॉलर बोन यानी गले के निचले सिरे तक और बगलों में भी अपनी तीन उंगलियां मिलाकर थोड़ा दबाकर देखें। उंगलियों का चलना नियमित स्पीड और दिशाओं में हो।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES15 Votes 2766 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर