कैंसर की रोकथाम के लिए प्रयोग हो सकेगी हाइपरटेंशन की मेडिसिन

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 03, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • अब ब्‍लड प्रेशर की दवा से कैंसर की रोकथाम में मदद मिलेगी।
  • लोसार्टन नामक दवा ट्यूमर की रक्त वाहिकाओं को खोलती है।
  • अब चिकित्‍सक पैंक्रियाटिक कैंसर के रोगियों को देंगे लोसार्टन।
  • इस दवा से ट्यूमर और उसके आसपास रक्त प्रवाह में दिखा सुधार।

Blood Pressure Medications Will Help Treat Cancerअब ब्‍लड प्रेशर की दवा से कैंसर की रोकथाम में मदद मिलेगी। आमतौर पर ब्लड प्रेशर के लिए इस्तेमाल होने वाली एक दवा कैंसर से लड़ने में मददगार साबित हो सकती है।

 

विशेषज्ञों के अनुसार, लोसार्टन नामक यह मेडिसिन ट्यूमर की रक्त वाहिकाओं को खोलती है जिससे कैंसर रोगियों को लाभ मिल सकता है। शोधकर्ताओं ने पया कि कैंसर की परंपरागत दवाओं के साथ ही लोसार्टन के इस्तेमाल से मरीजों की उम्र बढ़ सकती है।

 

नेचर कम्युनिकेशंस की रिपोर्ट के मुताबिक इसका सफल परीक्षण चूहों पर हो चुका है। अब डॉक्टरों की योजना अग्नाशय के कैंसर के रोगियों को लोसार्टन देने की है।

 

कैंसर का इलाज बहुत मुश्किल है, कैंसरग्रस्‍त लोगों में केवल 5 प्रतिशत ही इस बीमारी के होने के बाद मात्र पांच साल तक जिंदा रह पाते हैं। इसकी खास वजह यह है कि इस बीमारी के दस रोगियों में केवल एक के ट्यूमर का ही ऑपरेशन संभव हो पाता है।

 

अमरीका में मेसाचुसेट्स जनरल हॉस्पिटल के जांचकर्ता ऐसे स्वयंसेवी मरीजों को भर्ती कर रहे हैं जिनके अग्नाशय के कैंसर का ऑपरेशन संभव नहीं है। इन मरीजों पर लोसार्टन और कीमोथेरपी के संयोजन वाली नई दवा का परीक्षण किया जाएगा। हालांकि यह ईलाज पूरी तरह कारगर है या नहीं इस पर संशय है।

 

लोसार्टन से रक्त वाहिकाओं को आराम मिलता है, जिससे वो अधिक खून का संचार कर पाती हैं और इससे दबाव कम हो जाता है। मेसाचुसेट्स के दल ने पाया कि इस दवा से स्तन और अग्नाशय कैंसर से पीड़ित चूहों को फायदा मिला।

 

इसका प्रयोग करने से ट्यूमर में और उसके आसपास रक्त के प्रवाह में सुधार देखा गया। इस स्थिति में लक्ष्य तक अधिक मात्रा में कीमोथेरपी की दवाएं पहुंचाई जा सकती हैं। सिर्फ प्रचलित कीमोथेरपी इलाज के बजाए चूहों को यह इलाज दिया गया और वो लंबे समय तक जिंदा रहे।


कैंसर रिसर्च यूके की एम्मा स्मिथ ने इस बारे में बताया, "चूहों पर किया गया यह रोचक अध्ययन इस बात पर रोशनी डालता है कि हाईपरटेंशन की दवाएं आखिर क्यों कीमोथेरपी के असर को बढ़ा सकती हैं। लेकिन अभी तक हम यह नहीं जानते हैं कि वो ठीक उसी तरह इंसानों पर भी काम करेंगी।"

 

 

Read More Health News In Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES659 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर