दिल्‍ली में नई दहशत बनकर सामने आया, बर्ड फ्लू

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 24, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • एवियन इन्फ्लूएंजा बर्ड फ्लू के नाम से प्रसिद्ध है।
  • इंसानों और पक्षियों को अधिक प्रभावित करता है।
  • संक्रमित मुर्गियों संपर्क में रहने से वायरस फैलता है!
  • मास्‍क पहनकर बाहर निकलने की कोशिश करें।

अभी दिल्‍ली डेंगू और चिकनगुनिया के खतरे से उभर भी नहीं पाई थी कि बर्ड फ्लू नई दहशत बनकर सामने आ गया। यहां तक कि चिड़ियाघर और डियर पार्क में पक्षियों की मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। इसलिए चिडियाघर और डियर पार्क बंद कर दिए गए हैं। हालांकि भारत ने 5 सितंबर 2016 से स्वयं को एवियन इन्फ्लूएंजा (एच5एन1) से मुक्त घोषित कर दिया था और इसकी सूचना विश्व पशु स्वास्थ्य संगठन (ओआईई) को भी दी थी! लेकिन अब दोबारा भारत की राजधानी दिल्ली में एच5एन1 वायरस तेजी से फैल रहा है।

bird flu in hindi

इसे भी पढ़ें : बर्ड फ्लू का संकट, 20 पक्षियों की मौत

क्‍या है बर्ड फ्लू

एवियन इन्फ्लूएंजा (H5N1) बर्ड फ्लू के नाम से प्रसिद्ध है। ये खतरनाक वायरल संक्रमण इंसानों और पक्षियों को अधिक प्रभावित करता है। बर्ड फ्लू इंफेक्शन चिकन, टर्की, गीस और बतख की प्रजाति जैसे पक्षियों को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है। सबसे ज्यादा पॉपुलर बर्ड फ्लू वायरस एच5एन1 है जिससे की इंसान और पक्षियों की मौत हो सकती है।


बर्ड फ्लू के लक्षण

  • बुखार
  • हमेशा कफ रहना
  • नाक बहना
  • सिर में दर्द रहना
  • दस्त होना
  • जी मिचलाना
  • गले में सूजन
  • मांसपेशियों में दर्द
  • आंख में कंजंक्टिवाइटिस
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द रहना
  • सांस संबंधी दिक्कतें जैसे- सांस लेने में समस्या, सांस ना आना, निमोनिया होने लगता है।

 

इंसानों को कैसे प्रभावित करता है बर्ड फ्लू

बर्ड फ्लू इंसानों के लिए भी घातक है लेकिन ये बीमारी संक्रमित मुर्गियों या अन्य पक्षियों के बेहद निकट रहने से ही फैलती है। यानि इंसानों में मुर्गी की अलग-अलग प्रजातियों से प्रत्‍यक्ष या अप्रत्यक्ष संपर्क में रहने से यह वायरस फैलता है फिर चाहे मुर्गी जिंदा हो या मरी हुई। इंसानों में ये वायरस उनकी आंखों, मुंह और नाक के जरिए फैलता है। इसके अलावा संक्रमित बर्डस की सफाई या उन्हें नोंचने से भी फैलता है। और अगर बर्ड फ्लू का सही से इलाज ना करवाया जाएं तो इस वायरस का प्रभाव कई अंगों को फेल कर सकता है।



इसे भी पढ़ें : वैज्ञानिकों ने खोजा बर्ड फ्लू का नया टेस्‍ट


बर्ड फ्लू का इलाज

  • बर्ड फ्लू का इलाज एंटीवायरल दवाओं से किया जाता है।
  • इस वायरस को कम करने के लिए पूरी तरह आराम करना बहुत जरूरी होता है।
  • स्‍वस्‍थ आहार लें, जिसमें अधिक से अधिक तरल पदार्थ हो।
  • बर्ड फ्लू अन्य लोगों में ना फैले इसके लिए मरीज को एकांत में रखना चाहिए।
  • कम से कम लोग मरीज से मिलें।

 

सावधानियां

  • मरे हुए पक्षियों से दूर रहें।
  • बर्ड फ्लू वाले एरिया में नॉनवेज से दूर रहें।
  • नॉनवेज खरीदने वाली जगह पर सफाई का पूरा ध्‍यान रखें।
  • मास्‍क पहनकर बाहर निकलने की कोशिश करें।
  • अगर आपके आस-पास किसी पक्षी की मौत हो जाती है तो इसकी सूचना संबंधित विभाग को दें।

ये बीमारी इतनी खतरनाक है कि कब महामारी का रूप ले ले कोई कह नहीं सकता। इसलिए इस समस्‍या से बचने के लिए सरकार ने लोगों से चिकन ना खाने और पक्षियों से दूर रहने की अपील की है।

इस लेख से संबंधित किसी प्रकार के सवाल या सुझाव के लिए आप यहां पोस्‍ट/कमेंट कर सकते हैं।

Image Source : Getty

Read More Communicable-Diseases in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES1343 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर