बिंदास रहो, लंबा जियो

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 07, 2012
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

bindas raho lamba jiyo

लंबे जीवन को लेकर तमाम तरह की बातें की जाती हैं। कोई व्‍यायाम करने को कहता है तो कोई किसी अन्‍य राह पर चलने को कहता है। लेकिन, शोधकर्ताओं ने मानव स्‍वभाव और लंबी उम्र के बीच का सूत्र तलाशने में कामयाबी हासिल की है। इसके लिए शोधकर्ताओं ने गोरिल्‍ला पर शोध किया। इस शोध के आधार पर अध्‍ययनकर्ताओं का कहना है कि अंतर्मुखी लोगों की तुलना में बहिर्मुखी स्‍वभाव के लोग ज्‍यादा लंबा जीवन जीते हैं। यानी वे लोग जो अपने आप में ही खोए रहते हैं उनकी तुलना में सबसे मिलने-जुलने और खुश रहने वाले व्‍यक्ति अधिक समय तक जीवित रहते हैं।

 

[इसे भी पढ़ें: लंबी उम्र के तीन उपाय]

 

यूनिवर्सिटी ऑफ एडिनबर्ग स्‍कूल ऑफ फिलॉस्‍फी, सायकोलॉजी एंड लैंग्‍वेंज साइसेंज के शोधकर्ताओं ने नार्थ अमेरिका जू और सेंक्‍चुरी में मौजूद 298 गोरिल्‍लाओं के स्‍वभाव का अध्‍ययन किया। करीब 18 साल तक चले इस अध्‍ययन के बाद ही शोधकर्ता इस नतीजे पर पहुंचे। शोधकर्ताओं का कहना था कि इस शोध के जरिए यह समझने में मदद मिलती है कि हमारे स्‍वभाव का हमारी सेहत और कल्‍याण पर क्‍या असर पड़ता है।

[इसे भी पढ़ें: बढ़ती उम्र में आहार योजना]

 

नर वानरों में श्रेष्‍ठ गोरिल्‍ला के स्‍वभाव के जरिए किया गया यह अध्‍ययन मुनष्‍यों के लिए भी बेहद अहम माना जा रहा है। शोध के दौरान गोरिल्‍लाओं के अलग-अलग स्‍वभाव को श्रेणीबद्ध किया गया।

 

Read More Health News In Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES1 Vote 12329 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर