ऐस्टिगमैटिज्‍म के लिये 5 असरदार व्‍यायाम

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 07, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • ऐस्टिगमैटिज्‍म जिसे हिन्दी में दृष्टिवैषम्य कहा जाता है।
  • ऐस्टिगमैटिज्‍म में दूर और पास की दृष्टि धुंधली हो जाती है।
  • कुछ एक्सरसाइज ऐस्टिगमैटिज्‍म में लाभदायक होती हैं।
  • सर्वांगासन, शीर्षासन और हलासन भी होते हैं लाभदायक।

ऐस्टिगमैटिज्‍म जिसे हिन्दी में दृष्टिवैषम्य कहा जाता है, आंखों की एक सामान्य समस्या है जिसमें दृष्टि धुंधली हो जाती है। इसमें किसी भी दूरी तक देखने पर धंधला दिखाई पड़ता है। इसे चश्मे, कॉन्टेक्ट लेंस या सर्जरी आदि से ठीक किया जाता है। ऐस्टिगमैटिज्‍म आंख के भीतर (कॉर्निया) या लेंस के सामने की सतह दूसरी सतह से एक ही दिशा में थोड़ा अलग वक्रता पर हो जाने पर होता है। आंखों की कुछ एक्सरसाइज ऐस्टिगमैटिज्‍म में लाभदायक होती हैं। चलिये जानें कौंन सी हैं ये एक्सरसाइज -

Exercises To Cure Astigmatism in Hindi

 

पामिंग एक्सरसाइज

पामिंग एक्सरसाइज करने से दृष्टी बेहतर बनती है। इसे करने करना बेहद आसान होता है, बस कुर्सी पर बैठ जाएं, हथेलियों को रगड़कर गर्म करें, और फइर दोनों आंखों पर रखें। आईबॉल पर ज्यादा दबाव न देते हुए धीरे से गहरी सांस लें और किसी अच्छी घटना के बारे में कल्पना करें। इसके बाद हथेलियों को आंखों से हटाएं और धीरे-धीरे आंखें खोलें। ऐसा दिन में कम से कम 3 से 4 मिनट के लिये करें।


पेंसिल के साथ एक्सरसाइज

अपने हाथ की दूरी पर एक पेंसिल को पकडें। अपनी हाथ को नाक की तरफ धीरे से बढ़ाएं। पेंसिल की नोक पर अपनी निगाह टिकाएं रखें जब तक कि आप उसकी नोक को कम दूरी के कारण देखने में असक्षम न हो जाएं। इस प्रासेस को इस बार करें (पेंसिल के अलावा आप किसी भी चीज को ले सकते हैं जिस पर आपका ध्‍यान केंद्रित हो सकें और उसे आप अपनी हाथों से आसानी से मूव करा लें)।

 

Exercises To Cure Astigmatism in Hindi


देखने वाली एक्सरसाइज

किसी दूर रखी वस्तु पर 10 से 15 सेकण्‍ड के लिए निगाह ठहराएं (जो लगभग 150 फीट ऊंची या 50 मीटर दूरी पर हो)। उसके बाद, अपनी आखों को धीरे से दूसरी जगह ले जाएं और नजदीकी वाली वस्तु को देखें (जो लगभग 30 फीट से कम और 10 मीटर की दूरी पर हो), इस दौरान आपका सिर न घुमाएं। उसके बाद दोबरा पहले वाली वस्तु पर जाएं और 10 से 15 सेकण्‍ड तक देखें और वापस कम दूरी वाली वस्तु पर आ जाएं। इस प्रक्रिया को 5 बार दोहराएं लेकिन याद रहे कि यह करते समय आपका सिर नहीं घुमाना चाहिये।


इसके अलावा आप ऐस्टिगमैटिज्‍म को ठीक करने के लिये पदमासन, सिद्धासन या सुखासन में बैठकर भी ये एक्सरसाइज कर सकते हैं। इन क्रियाओं के अभ्यास के बाद सर्वांगासन, शीर्षासन और हलासन का अभ्यास करना चाहिए। इनसे आंखों में खून का बेहतर संचार होता है, जिससे आंखों के कई रोग दूर होते हैं।



Image Source - Getty Images

Write a Review
Is it Helpful Article?YES1 Vote 975 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर