'गायत्री' मंत्र का हरदिन जाप, दिलाता है आपको ये महालाभ

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 17, 2017
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • मंत्रों में सर्वश्रेष्‍ठ मंत्र है गायत्री मंत्र।
  • हर प्रकार की समस्‍याओं को दूर करता है।
  • सिर्फ सुनने से भी शरीर को लाभ पहुंचता है।

गायत्री मंत्र:- ॐ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो न: प्रचोदयात्।

इस मंत्र का जाप एक ऐसा उपाय है जिससे लगभग हर प्रकार की समस्‍या को दूर किया जा सकता है। सभी शास्‍त्रों में मंत्रों को बहुत ही शक्तिशाली और चमत्‍कारी माना जाता है। लेकिन सभी मंत्रों में 'गायत्री मंत्र' को वेदों का सर्वश्रेष्ठ मंत्र बताया गया है। गायत्री मंत्र चार वेदों से आया है और ये 24 शब्दांशों से बना है। जो सीधे आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। गायत्री मंत्र के जाप से नहीं बल्कि इसे सुनने मात्र से ही आपके स्वास्थ्य को कई प्रकार से लाभ पहुंचते हैं। जर्मन वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर कोई व्यक्ति मंत्र का जाप नहीं भी करे, सिर्फ सुन भी ले तो भी उसके शरीर पर इसका प्रभाव पड़ता है।
gayatri mantra in hindi

भगवान सूर्य की स्तुति में किए जाने वाले इस मंत्र का अर्थ ....

गायत्री मंत्र के पहले नौ शब्द प्रभु के गुणों की व्याख्या करते हैं...आइए जानें कैसे।
ॐ = प्रणव
भूर = मनुष्य को प्राण प्रदाण करने वाला
भुवः = दुख़ों का नाश करने वाला
स्वः = सुख प्रदाण करने वाला
तत = सूर्य की भांति उज्जवल
वरेण्यं = सबसे उत्तम
भर्गो = कर्मों का उद्धार करने वाला
देवस्य = प्रभु
धीमहि = आत्म चिंतन के योग्य
धियो = बुद्धि,
यो = जो,
नः = हमारी,
प्रचोदयात् = हमें शक्ति देने वाला (प्रार्थना)

यानी उस प्राणस्वरूप, दुःखनाशक, सुखस्वरूप, श्रेष्ठ, तेजस्वी, पापनाशक, देवस्वरूप परमात्मा को हम अन्तःकरण में धारण करें। वह परमात्मा हमारी बुद्धि को सन्मार्ग में प्रेरित करे। यदि कोई व्यक्ति इस मंत्र का जप नियमित रूप से करता है तो उसके अदंर उत्साह और सकारात्मकता आती है और त्वचा में चमक बढ़ती है, तामसिकता से घृणा होती है, परमार्थ में रुचि जगती है, पूर्वाभास होने लगता है, नेत्रों में तेज आता है, क्रोध शांत होता है, ज्ञान में वृद्धि होती है। आइए गायत्री मंत्र जप के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ के बारे में जानते हैं।

इसे भी पढ़ें : तन और मन को स्‍वस्‍थ रखे योग

दिमाग को शांत रखे और तनाव दूर करे

अगर आप तनाव से ग्रस्‍त रहते हैं तो गायत्री मंत्र का जाप करें। इसका जप करने से आपका दिमाग शांत रहेगा। साथ ही इसके लगातार जप करने से यह आपको आने वाले तनाव से भी बचाएगा। कहा गया है कि जब भी कोई व्यक्ति गायत्री मंत्र का पाठ करता है तो अनेक प्रकार की संवेदनाएं इस मंत्र से होती हुई व्यक्ति के मस्तिष्क को प्रभावित करती हैं। इसके जप से दिमाग ही नहीं शांत होता है बल्कि पढ़ने वाले बच्चों की एकाग्रता और सीखने की क्षमता भी अच्छी रहती है। साथ ही गायत्री मंत्र के उच्‍चारण से शरीर में पॉजिटिव एनर्जी आती है।

 

इम्यूनिटी बढ़ाये और तंत्रिकाओं के कार्य में सुधार

गायत्री मंत्र का उच्‍चारण 'ऊँ' शब्‍द से शुरू होता है। जिसके उच्चारण से होंठ, जीभ, तालू, गला और सिर के पिछले भाग में आवाज प्रतिध्वनित होती है जिससे मन शांत होता है। इस मंत्र के शब्दांशों के उच्चारण से मन एकाग्र हो जाता है जिससे हमारे शरीर की ऊर्जा बढ़ती है। इसी कंपन से हमारी तंत्रिकाओं को ताकत मिलती है जिससे हमारी तंत्रिकाएं स्वास्थ्‍य रहती हैं।


सांस के रोगों से छुटकारा

गायत्री मंत्र के उच्‍चारण से आपकी सांस क्रिया बेहतर होती है। इसके रोज जप करने से फेफड़ों की कार्यक्षमता बढ़ती है, साथ ही शरीर में ऑक्सीजन का प्रवाह भी बढ़ता है। इसके अलावा गायत्री मंत्र का जप करते वक्‍त लंबी और गहरी सांस लेनी और छोड़नी-पड़ती है जिससे फेफड़ों को मजबूती मिलती है और सांस-रोग जैसे अस्‍थमा को नियंत्रित रखने में मदद मिलती है।


दिल को स्‍वस्‍थ रखें और त्‍वचा को चमकदार बनाये

गायत्री मंत्र का जप आपके फेफड़ों के साथ-साथ दिल को भी स्वस्थ रखता है। ब्रिटिश मेडकल जर्नल के अनुसार गायत्री मंत्र के जाप से सांस लेने की गति कम हो जाती है जिससे दिल के धड़कन की गति नियंत्रित रहती है और दिल को स्वस्थ रहने में मदद मिलती है। इसके अलावा गायत्री मंत्र का जाप करने से त्‍वचा में चमक आती है। गायत्री मंत्र के जप से हमारे चेहरे की त्वचा में ब्लड सर्कुलेशन अच्छा होता है, और त्वचा से विषाक्त पदार्थ निकल जाते हैं जिससे त्वचा में चमक आती है और त्वचा कई गुना निखर जाती है।

गायत्री उपासना कभी भी, किसी भी स्थिति में की जा सकती है। हर स्थिति में यह लाभदायी है।


ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Image Source : Getty

Read More Articles on Mind Body in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES106 Votes 7201 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर