बवासीर में आराम और इसके उपचार के लिए घरेलू उपचार

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 20, 2012
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • बदलती जीवनशैली और खान-पान हैं पाइल्स के प्रमुख कारण।
  • दो, खूनी बवासीर और वादी बवासीर प्रकार की होती है 'बवासीर'।
  • बवासीर में जीरे को पीसकर मस्‍सों पर लगाने से फायदा मिलता है।
  • बवासीर में गुड़ के साथ हरड़ खाने से भी होता है काफी लाभ।

बवासीर जिसे अंग्रेजी भाषा में पाइल्स के नाम से भी जाना जाता है, एक दुखदायक बीमारी है। संबेदनशील स्थान पर होने के कारण यह शरीरिक पीड़ा के साथ-साथ मानसिक पीड़ा भी देती है। लेकिन बवासीर को घरेलू नुस्खों की मदद से ठीक किया जा सकता है। इस लेख में जानें बवासीर के लिए घरेलू उपचार।

Home Remedies for Hemorrhoids

 

बदलती जीवनशैली और खान-पान के कारण पाइल्‍स के रोगियों की संख्‍या तेजी से बढ़ रही है। पूरे दिन कुर्सी पर बैठना और बिना किसी शेड्यूल के कुछ भी खा लेना इसका प्रमुख कारण है। बवासीर दो प्रकार की होती है – खूनी बवासीर और वादी बवासीर। खूनी बवासीर में मस्‍से सुर्ख होते हैं जिसके कारण खून निकलता है जबकि वादी बवासीर में मस्‍से काले होते हैं। बवासीर बेहद तकलीफदेह होती है। आइए हम आपको कुछ घरेलू नुस्‍खों के बारे में बताते हैं जिसका प्रयोग करके बवासीर और इससे होने वाले दर्द में राहत मिल सकती है।

 

पाइल्‍स के लिए घरेलू नुस्‍खे –


  • खूनी बवासीर में नींबू बीच में से काटकर उसमें लगभग 4-5 ग्राम कत्‍था पीसकर डाल दीजिए। इन दोनों टुकड़ों को रात में छत पर खुला रख दीजिए। सुबह उठकर दोनों टुकड़ों को चूस लीजिए। इस प्रयोग को पांच दिन तक कीजिए। पाइल्‍स में फायदा होता है। 
  • नीम के छिलके सहित निंबौरी के पाउडर को प्रतिदिन 10 ग्राम रोज सुबह रात में रखे पानी के साथ सेवन कीजिए, इससे फायदा होगा। लेकिन यह ध्‍यान रखिए इस नुस्‍खे को अपनाते वक्‍त आपके खाने में देशी घी होना चाहिए।
  • खूनी बवासीर में खून को रोकने के लिए 10 से 12 ग्राम धुले हुए काले तिल को ताजा मक्खन के साथ लीजिए। इसे लेने से भी बवासीर में खून आना बंद हो जाता है।
  • जीरे को पीसकर मस्‍सों पर लगाने से फायदा मिलता है, इसके साथ ही जीरे को भूनकर मिश्री के साथ मिलाकर चूसने से फायदा मिलता है।
  • पके हुए केले को दो टुकड़ों में काटकर उसपर कत्‍था पीसकर छिड़क दीजिए। इन टुकड़ों को रात में खुले आसमान में रख दीजिए। सुबह उठकर केले के टुकड़ों को खाइए। इस क्रिया को एक हफ्ते तक कीजिए, बवासीर ठीक हो जाएगा।
  • आंवला पेट के लिए बहुत फायदेमंद होता है। बवासीर की समस्‍या होने पर आंवले के चूर्ण को सुबह-शाम शहद के साथ पीने से फायदा होता है।
  • लगभग 50 ग्राम बड़ी इलायची को तवे पर रखकर भूनते हुए जला लीजिए। ठंडी होने के बाद इस इलायची को पीस लीजिए। रोज सुबह इस चूर्ण को पानी के साथ खाली पेट लेने से बवासीर ठीक हो जाता है।
  • दूध का ताजा मक्‍खन और काला तिल लगभग एक ग्राम, दोनों को मिलकार खाने से फायदा होता है।
  • जंगली गोभी भी बवासीर के लिए बहुत फायदेमंद है। जंगली गोभी को घी में पकाकर उसमें सेंधा नमक डालकर आठ दिन रोटी के साथ खाइए। इससे बवासीर ठीक होता है।
  • गुड़ के साथ हरड खाने से बवासीर ठीक होता है।
  • हर रोज दही और छाछ खाने से बवासीर होने की संभावना कम होती है और बवासीर में फायदा भी होता है।

 

बवासीर बहुत ही पीड़ादायक रोग है। इसका दर्द असहनीय होता है। इन घरेलू नुस्‍खों का प्रयोग करके काफी हद तक इससे राहत मिल जाती है। अगर इन घरेलू नुस्‍खों का प्रयोग करने के बाद भी बवासीर ठीक न हो तो चिकित्‍सक से संपर्क अवश्‍य कीजिए।

 

Read More Articles on Home Remedies For Diseases in Hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES586 Votes 54967 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर