मधुमेह और मुंह की दुर्गंध में संबंध

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 27, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • मधुमेह के रोगियों में मुंह से दुर्गंध की समस्‍या होती है।
  • शुगर को नियंत्रण न कर पाना इसके लिए है जिम्‍मेदार।
  • लिगामेंट्स कमजोर होने से दांतों में खाली जगह बनती है।
  • दांतों की सफाई पर विशेष ध्‍यान दीजिए, खूब पानी पियें।

मधुमेह की समस्‍या होने पर कई प्रकार की स्‍वास्‍थ्‍य मस्‍यायें होने लगती हैं, मुंह के दुर्गंध की समस्‍या भी इससे जुड़ी है। सामान्‍यतया मुंह से आने वाली दुर्गंध के पीछे लोग अपने खान-पान को मानते हैं। यह सही भी है, लेकिन अगर व्‍यक्ति मधुमेह से ग्रस्‍त है तो इसके लिए यह बीमारी भी जिम्‍मेदार हो सकती है। इसके अलावा मधुमेह के रोगियों में दांत से जुड़ी दुसरी तकलीफें भी बढ़ जाती हैं। इस लेख में विस्‍तार से जानिये मधुमेह और मुंह की दुर्गंध के बीच के संबंध के बारे में।
Bad Breath & Diabetes in Hindi

मधुमेह और मुंह की दुर्गंध

सांसों की दुर्गंध की समस्‍या मधुमेह के रोगियों में अधिक हो सकती है। क्‍योंकि मधुमेह रोगियों को मुंह से संबंधित कई समस्‍यायें हो सकती है। दरअसल हमारे दांत की एलविओलर हड्डी तथा पीरियोडेन्टल लिगामेंट्स मांसपेशियों से एक-दूसरे से जुड़े रहते हैं। ऐसे व्यक्ति जिनका मधुमेह पर नियंत्रण नहीं हो पाता हैं, उनके पीरियोडेन्टल लिगामेंट्स कमजोर होने लगते हैं।

इससे दांतों के बीच एक खाली जगह बन जाती है और खाने के पश्चात खाने के कुछ अंश इन दांतों में रह जाते हैं और इनको नुकसान पहुंचाते हैं। इसके कारण ही दांतों और मसूड़ों में जीवाणु पैदा हो जाते हैं, जिससे गंभीर स्थिति पैदा हो जाती है और मुंह से दुर्गंध आने लगती है। इसक अलावा व्‍यक्ति मधुमेह के साथ पायरिया से भी ग्रस्‍त हो सकता है। ऐसी स्थिति में दांत कमजोर होने शुरू हो जाते हैं और कई बार मसूड़ों में सूजन और तेज दर्द भी शुरू हो जाता है।

दूसरे संक्रमण भी होते हैं

मधुमेह के मरीजों को मुंह से संबंधित दूसरी समस्‍यायें भी होने लगती हैं, इसका प्रमुख कारण है दांतों के साथ मसूड़ों में संक्रमण होना। इसकी वजह से बाद में दांतों को उखाड़ना भी पड़ता है। मधुमेह के रोगियों के दांतों का रंग भी बदल जाता है, जो काला या फिर गहरा भूरा हो जाता है। मसूड़ों में होने वाले छोटे-छोटे छिद्रों से बैक्टीरिया या अन्य संक्रमण भी हो सकता है, जो खून में मिल कर अन्य छोटी-छोटी बीमारियों का कारण बनते हैं।

मधुमेह से ग्रस्‍त मरीजों में मधुमेह से होने वाले अन्य रोग कितनी जल्दी होंगे, यह बात मधुमेह के रोगियों के खून में उपस्थित शुगर की मात्रा पर निर्भर करती है। इस बात का ध्यान रहे कि सिर्फ मुंह की ही देखभाल से मधुमेह की बीमारी पर नियंत्रण नहीं पाया जा सकता। इसके लिए अनुशासित व नियंत्रित दिनचर्या एवं खानपान पर विशेष ध्‍यान रखने की जरूरत है।
Bad Breath in Hindi

मुंह की दुर्गंध से बचाव

मधुमेह के कारण होने वाली मुंह की दुर्गंध को कुछ हद तक दूर किया जा सकता है। इसके लिए दांतों की सफाई पर विशेष ध्‍यान दीजिए, दिन में कम से कम दो बार ब्रश कीजिए। ढेर सारा पानी पीजिए, इससे शरीर के विषाक्‍त पदार्थ निकलेंगे और शरीर के साथ मुंह भी स्‍वस्‍थ रहेगा। माउथवॉश और जेल का प्रयोग न करें, क्‍योंकि इसमें एल्‍कोहल होता है और इसके कारण मुंह की बदबू बदतर हो सकती है।

डायबिटीज के मरीजों को अपने ब्‍लड शुगर की जांच नियमित रूप से करनी चाहिए, नियमित व्‍यायाम के साथ खानपान पर विशेष ध्‍यान देना चाहिए।

 

image source - getty images

Read More Articles on Diabetes in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES49 Votes 6821 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर