समय पूर्व जन्‍मे बच्‍चों की जान बचा रहा है बेबी वार्मर

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 06, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • भारत में हर घंटे लगभग 450 समय पूर्व जन्‍मे बच्चों की मृत्यु।
  • पर्याप्‍त उष्‍णता के लिए बेबी-वार्मर 2009 में बेंगलुरु में विकसित हुआ।
  • परंपरागत यंत्रों से करीब 70 प्रतिशत सस्ता और बिजली की भी कम खपत।
  • हर साल लगभग दो करोड़ से ज्‍यादा बच्‍चे लेते हैं समय से पूर्व जन्‍म।

baby warmer helps save the life of preemieहर साल लगभग दो करोड़ से ज्‍यादा बच्‍चे समय से पूर्व जन्‍म लेते हैं या फिर जन्‍म के समय उनका वजन सामान्‍य से कम होता है। समय से पूर्व जन्मे बच्चों की मृत्यु दर भारत में विश्व में सबसे अधिक है। एक अनुमान के मुताबिक भारत में हर घंटे लगभग 450 ऐसे बच्चों की मृत्यु हो जाती है।

 

मरने वाले इन बच्चों में से अधिकतर को केवल उनके नाजुक शरीर को पर्याप्त उष्णता देकर बचाया जा सकता है। पर्याप्‍त उष्‍णता देने के लिए बेबी-वार्मर को 2009 में बेंगलुरु में विकसित किया गया। भारत में इसकी कीमत 3,000 डॉलर (1,80,000 रुपए) है। इस तरह के परंपरागत यंत्रों से यह करीब 70 प्रतिशत सस्ता है। इसमें बिजली की भी कम खपत होती है।

 

बीबीसीडॉटकॉम की खबर के मुताबिक बेंगलुरु के वाणीविलास अस्पताल स्थित नियो-नैटल आईसीयू में इस समय ढेरों ऐसे बच्चे हैं जिन्हें ग्रामीण इलाके में जन्म लेने के बाद इस अस्पताल में लाया गया। जीई हेल्थकेयर के रवि कौशिक कहते हैं, कि "बेबी-वार्मर विकसित करने के लिए भारत से बेहतर और कौन सी जगह होती, यहां हर सेकेंड एक बच्चे का जन्म होता है।"

 

मुकेश मानते हैं कि भारत इस तरह के यंत्रों के विकास के लिए आदर्श जगह है. भारत में 70 प्रतिशत आबादी गांवों में रहती है जबकि 30 प्रतिशत आबादी शहरी है।

 

वर्ष 2007 में स्टैनफोर्ड इंस्टीट्यूट ऑफ डिज़ाइन के चार छात्रों जेन शेन, लाइनस लियांग, नागानंद मुर्ति और राहुल पानिक्कर  को उनकी कक्षा में असाइनमेंट के रूप में सस्ते इनक्यूबेटर (बच्चों के शरीर का तापमान बनाए रखने वाला यंत्र) बनाने की चुनौती मिली। छात्रों के इस समूह ने हाईस्कूल की भौतिकी का प्रयोग करते हुए एक यंत्र बनाया जो कि देखने में स्लीपिंग बैग जैसा था। इस नए यंत्र से नवजात और समय पूर्व जन्म लेने वाले करीब 22,000 बच्चों की जान बचाई जा सकेगी।

 

 

 

Read More Health News In Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES702 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर