वार्म जनित रोगों की आयुर्वेदिक चिकित्सा

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 01, 2011
4.8 / 5(4 Ratings)

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Related Articles
  • उल्टियों की आयुर्वेदिक चिकित्सा उल्टियों की आयुर्वेदिक चिकित्सा

    जब पेट के पदार्थों का पूरे जोश के साथ मुंह और नाक के ज़रिये निष्काशन होता है, तो उस प्रक्रिया को उल्टियों के नाम से जाना जाता है।

    read more
  • फोड़ों की आयुर्वेदिक चिकित्सा फोड़ों की आयुर्वेदिक चिकित्सा

    फोड़ा शरीर के किसी भी निर्धारित स्थान पर, जीवाणु या किसी ज़ख्म की वजह से संक्रमण की प्रक्रिया के कारण त्वचा के टिश्यु द्वारा रचे गए और सूजन से घिरे हुए छिद्र में पस का जमाव होता है।

    read more
4.8 / 5(4 Ratings)
Write a Review
प्रतिक्रिया दें
Disclaimer +
इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।