अवसाद के लिए आयुर्वेदिक उपचार

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 01, 2011
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Ayurvedaअवसाद, दिमाग से संबंधित एक प्रकार की बीमारी है। जब एक व्यक्ति अचानक उदासी, लाचारी, अपराध,और निराशा की  भावनाओं के साथ परिग्रहित हो जाता है,तब उसे उदास महसूस होता हैं, ऐसा कहा जा सकता हैं।  मनोदशा में स्वाभाविक रूप से परिवर्तन होता हैं, और दिमाग की शारीरिक और मानसिक स्थिति को प्रभावित करता है। एक व्यक्ति का वजन बढ सकता हैं, या वजन घट भी सकता हैं, उसे उसके आसपास की किसी भी चिज में कोई दिलचस्पी नहीं लगती है और आम तौर पर चिड़चिड़ा और अकेले रहना पसंद करता है। इससे उसके दोस्तों, परिवार और सह कार्यकर्ताओं के साथ के संबंध प्रभावित होते हैं।

कुछ लोगों को किसी विशेष मौसम (मौसमी अवसाद) में अवसाद महसूस होता हैं, जबकि कुछ लोगों को उनके जिवन में घटी किसी दुर्घटना के बाद अवसाद होता है, हालांकि उसका कारण कुछ भी हो, अवसाद से व्यक्ति के जिवन को पूर्णरुप से तबाह करने से पहिले उसका इलाज करना आवश्यक हैं। अवसाद के लिए किये जाने वाले उपचारों में कुछ आयुर्वेदिक उपचार भी है।
 आयुर्वेद नें हमें इतने सारी अलग अलग जड़ी बूटियां दी हैं, कि हमे अवसाद पर उपचार ढुंढने के लिए काफी दूर जाने की जरुरत नही हैं। ऐसी ही कुछ जडी बूटियों की एक सूची का उल्लेख नीचे की पंक्तियों में किया है, जो आसानी से मिल सकती हैं, और अवसाद के उपचार में अद्भुत काम करती हैं।
पवित्र तुलसी (तुलसी पत्ता) -  तुलसी के पत्ते के साथ कुछ चीनी, दालचीनी और सूखे अदरक जड़ों के साथ गर्म पानी डालकर मिश्रण बनाए और एक दिन में 5 से 6 बार उसे पिए। इससे आपकी मनोदशा पर नियंत्रण रखने में मदद मिलेगी।
इलायची - इलायची की एक सुखद खुशबू होती हैं। इसे आपकी चाय में डालकर ले। यह चाय अपको शांत करेगी।
अदरक - यदि आपको इलायची पसंद नही हैं, तो आप अपनी चाय में कुछ अदरक डाल सकते हैं। अदरक का अवसाद विरोधी गुण आपको खुश करने में मदद करेगा। जल्द राहत मिलने के लिए आपके खाने में सूखी अदरक की जड़ का कुछ पाउडर डालें।
काली मिर्च - काली मिर्च अवसाद के लिए उपचार में उपयोग की जाने वाली एक अन्य महत्वपूर्ण जडी बूटी हैं, यह अवसाद के लिए कारक आपके दोषों को दूर करता हैं।
 
ब्राह्मी - ब्राह्मी एक बहुत लोकप्रिय आयुर्वेदिक पौधा हैं, जिसमे दिमाग को शांत करने वाले गुण होते है, जो एक व्यक्ति को शांत करने में मदद करते हैं। ब्राह्मी तेल को बेचनें वाले कई ब्रांड हैं, जिसको नियमित रुप से लागू करना चाहिए, जिससे दिमाग शांत रहेगा।
हल्दी -  हल्दी मौसमी अवसाद पर प्रभावी ढंग से उपचार करने में मदद करती है। यदि आपको मौसम में परिवर्तन के साथ उदास लगता हैं, तो गर्म दूध में चीनी और कुछ हल्दी डाल कर ले सकते हैं और इस उपचार का सकारात्मक प्रभाव महसूस करने के लिए, इस मिश्रण को कम से कम  एक सप्ताह तक ले।
जटामासी – जटामासी एक दिमाग को शांत करने वाली और एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी हैं। यह जड़ी बूटी अवसादग्रस्तता की भावनाओं को मन से दूर करने में मदद करती हैं।
 
नींबू – हालांकि यह पूरी तरह आयुर्वेदिक नहीं है, लेकिन नींबू में अवसाद विरोधी गुण हैं। नींबू निचोड कर कुछ चीनी के साथ खाए। यह आपके मन को शांत करेगा।

उपर्युक्त जड़ी बूटियों के लिए इसके अलावा, योग अवसाद के लिए एक महान आयुर्वेदिक उपचार है। जो लोग प्राणायाम और योगासन  नियमित रूप से करते हैं, वह अवसाद और निराशा की भावना के लिए कम संवेदनशील होते हैं, ऐसा पाया गया हैं। आप एक सुबह की सैर भी कर के देख सकते हैं।

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES88 Votes 21112 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर