अवसाद मिटा देता है अहसासों में भी फर्क करना

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 28, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

avsaad mita deta hai ahsaaso me bhi fark karna

हमारी शारीरिक और मानसिक सेहत को सबसे ज्यादा प्रभावित डिप्रेशन या अवसाद करता है। इसकी गिरफ्त में आकर लोगों अपनी बोझिल करने वाले अहसासों में भी फर्क नहीं कर पाते।

इसे भी पढ़े- (अवसाद क्‍या है)

आमतौर पर नकारात्मक भावनाओं में फर्क नहीं कर पाने के कारण लोग यह भी नहीं समझ पाते कि वे वाकई अवसादग्रस्त हैं या नहीं। शोधकर्ताओं ने बताया कि अगर आपमें निराशाजनक भावनाओं में फर्क करने की क्षमता होगी तो आपकी यह क्षमता निराशा पर काबू पाने में मददगार हो सकती है। प्रमुख शोधकर्ता एम्रे डेमिराल्पर ने बताया कि जब तक किसी इंसान को गुस्सा, उदासी या निराशा में अंतर नहीं पता चलता, तब तक वो जिंदगी को खुशहाल बना सकता। इस बात को साबित करने के लिए शोधकर्ताओं ने 18 से 40 साल के सैकड़ों प्रतिभागियों पर इसका अध्यकयन किया।

इसे भी पढ़े- (अवसाद के लक्षण)

सितंबर 2012 में किए गए मिशिगन यूनिवर्सिटी के एक अध्ययन में वैज्ञानिकों ने यह दावा किया गया कि अवसाद के शिकार लोग दुख, गुस्सा, डर और निराशा की भावनाओं के बीच अंतर नहीं कर पाते। शोधकर्ताओं ने पाया कि डिप्रेशन से निपटने में कामयाब नहीं हो पाने की यह भी एक बड़ी वजह है।

इस अध्ययन में यह पाया गया कि इनमें से आधे लोग बिल्कुल स्वस्थ थे। सात से आठ दिनों तक चले इस अध्ययन में शोधकर्ताओं ने लोंगों को अलग-अलग भावनाओं में जैसे- अच्छी व बुरी भावनाओं अंतर करने को कहा। इस शोध में शामिल लोगों में स्वस्‍‍थ लोगों के मुकाबले अवसादग्रस्त लोग नकारात्मक भावनाओं में फर्क करने में ज्यादा कमजोर साबित हुए।

इसे भी पढ़े- (अवसाद के प्रकार)

हालांकि डिप्रेशन के मरीज खुशी, उत्सास और उमंग जैसे सकारात्मक अहसास में अच्छी तरह अंतर करने में सक्षम पाए गए। इन भावनाओं में अंतर करने में उन्होंने स्वस्थ‍ मरीजों को भी पीछे छोड़ दिया।

इसे भी पढ़े- (अवसाद का निदान)

अवसादग्रस्त लोगों के विशेष गुण-

•अवसादग्रस्त मरीज दुख, क्रोध और निराशा जैसी नकारात्माक भावनाओं में अंतर नहीं कर पाते।

•इसके विपरीत अवसादग्रस्त मरीजों में, स्वस्थ मरीजों के मुकाबले खुशी, उत्साह व उमंग जैसे सकारात्मक अहसासों की सही पहचान होती है। 

 

Read More Article On- (अवसाद)

Write a Review
Is it Helpful Article?YES11 Votes 12806 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर