जवानी में भी हो सकता है अर्थराइटिस

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 21, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • युवाओं में भी होने लगा है अर्थराइटिस।
  • खराब जीवनशैली है अर्थराइटिस की बड़ी वजह।
  • अधिक वजन के कारण भी होता है अर्थराइटिस।
  • अधिक व्‍यायाम से भी हो सकता है अर्थराइटिस।

पहले जो बीमारियां केवल बुजुर्गों को होती थीं, वे अब जवानों को भी होने लगी हैं। जानकार कहते हैं कि बदलती जीवनशैली के चलते अब बीमारियां 15 साल पहले होने लगी हैं। बड़े शहरों में यह समस्‍या और अधिक फैल गई है। कुछ साल पहले तक अर्थराइटिस को केवल बुजुर्गों की बीमारी माना जाता था, लेकिन अब यह समस्‍या युवाओं में भी होने लगी है।

 

arthritis
पहले 50 साल की उम्र के बाद ही घुटनों की समस्‍या होती थी, लेकिन अब 40 बरस में ही घुटने जवाब देने लगते हैं। कई बार तो 20 वर्ष के युवाओं को भी घुटने दर्द और अर्थराइटिस के अन्‍य लक्षण नजर आने लगते हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार युवा पीढ़ी (30-40 आयु वर्ग) का एक प्रतिशत (100 में एक युवा) घुटनों की समस्या से जूझने लगा है। विशेषज्ञ अनियमित जीवनशैली को इसका एक बड़ा कारण मानते हैं।

दर्द को नजरअंदाज न करें

यदि थोड़ा आपको चलने के बाद ही आपके घुटने चलने के बाद ही आपके घुटनों में दर्द होने लगता है या कुर्सी में बैठ कर भी असहज महसूस कर रहे हैं, सीढ़ी चढ़ने, पालथी मार कर बैठने में दिक्कत होती है तो यह अर्थराइटिस का लक्षण हो सकता है। आपको फौरन किसी हड्डी रोग विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए। यदि आपके घुटनों में पहले चोट लग चुकी है, तो आपको अधिक सावधान रहने की जरूरत है।

अधिक व्यायाम न करें घातक


कई बार घुटनों में दर्द होने पर लोग अधिक एक्सरसाइज करना शुरू कर देते हैं, वे मानते हैं कि इससे उनकी समस्‍या का हल हो जाएगा। जबकि कई बार यह स्थिति उलटा असर कर सकती है। इससे आपके घुटनों पर अधिक असर पड़ता है। घुटनों में तकलीफ का अर्थ है कि उनमें चिकनाई (ल्यूब्रिकेशन) की कमी होने से हड्डियों के बीच ब्रीदिंग स्पेस घट गया है। ऐसे में अगर आप इनसे ज्यादा मेहनत लेते हैं तो कार्टिलेज (हड्डी के ऊपर चढ़ा हुआ रबरनुमा कवर) घिसने का डर रहता है। ऐसी स्थिति में घुटनों को आराम देने की जरूर होती है।

 

युवा भी नहीं हैं अछूते

घुटने के जोड़ शरीर की काइनेटिक चेन के मुख्य हिस्से की भूमिका निभाते हैं। ये कूल्हे और टखने को आपस में जोड़ने का काम करते हैं। अमूमन घुटनों की समस्या प्रौढ़ावस्था या बुढ़ापे में आती है, लेकिन अब युवा भी इससे अछूते नहीं हैं। सर गंगाराम हॉस्पिटल के डॉक्‍टर ओएन नेगी का कहना है कि इस बीमारी के साथ समस्‍या यह है कि आमतौर पर शुरुआत में इसके कोई लक्षण नजर नहीं आते और न ही किसी प्रकार का तीव्र दर्द या कोई सूजन दिखाई देती है। थोड़ा सा दर्द और असहजता ही होती है। इस खतरे की घंटी को समझना जरूरी है।

 

arthritis

शीशे में देखें घुटने

घुटनों की समस्या पहचानने के लिए शीशे के सामने नंगे पैर खड़े होकर अपने घुटनों की तरफ ध्यान से देखें। पैरों में खिंचाव न लाएं। फिर एक मार्कर पेन से घुटनों के बीचोबीच और टखने के जोड़ के बीच बिंदु लगा कर एक रेखा खीचें। अगर यह लाइन पूरी तरह सीधी है तो समझिए घुटनों की कोई समस्या नहीं है। अगर किसी भी तरह की गड़बड़ है तो शीशे के सामने ही कुछ कदम चलने पर पता चल जाएगा। थोड़ा चलते ही यह रेखा थोड़ी टेढ़ी नजर आएगी।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES5 Votes 2052 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर