मशरूम, जो है एक एंटी-अल्जाइमर सुपरफूड...

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 19, 2017
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

अध्ययनों की मानें तो मशरूम याद्दाश्त बढ़ाने में कारगर है।
शोधकर्ताओं की मानें तो मशरूम नर्व ग्रोथ फैक्टर को बढ़ाता है।
मशरूम मस्तिष्क के कई नर्व सेल्स को नियंत्रित करता है।

हाल ही में हुए एक अध्ययन के मुताबिक मशरूम अल्जाइमर से बचाव में सहायक है। वैज्ञानिकों ने पाया है कि मशरूम में बायो एक्टिव कम्पाउंड्स होते हैं जो कि न्यूरोडीजनरेशन के विकास को घटाने और कम करने में सहायक है। एक अनुमान के मुताबिक मौजूदा समय में अल्जाइमर की मरीजों की संख्या लाखों में है। साल 2020 तक 42 मिलियन लोग अल्जाइमर के मरीज होने की आशंका है। इससे समझा जा सकता है कि अल्जाइमर तेजी से फैलता है रोग है, जो कि लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। तमाम विकास और मेडिकल जगत के फैलाव के बावजूद ऐसे अल्जाइमर के मरीजों की संख्या बहुत ज्यादा है, जिनका सही तरह से इलाज नहीं हो पा रहा है या फिर सही दिशा में इलाज होना संभव नहीं हो रहा।

old

किन बीमारियों के लिए है रामबाण

हाल ही में हुए शोध सर्वेक्षण से पता चला है कि मेडिसिनल मशरूम में जो कि नर्व ग्रोथ बेहतर करता है और कई किस्म की समस्या से ब्रेन को बचाता है। साथ ही उम्र संबंधी कई बीमारियों से निजात भी दिलाता है। अबके पहले हुए तमाम अध्ययनों से पता चला था कि मशरूम में एंटीऑक्सीडेंट, एंटीट्यूमर, एंटीवायरस, एंटीकैंसर, एंटी-इंफ्लेमेट्री, एंटी-डायबिटिक आदि तत्व मौजूद हैं। जिन मशरूम में एंटी-इंफ्लेमेट्री तत्व होते हैं, वो उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में सहायक है साथ ही उम्र संबंधी बीमारी में भी लाभकारी सिद्ध हुए हैं।

इसे भी पढ़ेंः अल्जाइमर: जानिए क्या है और क्यों होता है

वैज्ञानिकों ने खोजी कितनी किस्में?

वैज्ञानिकों ने करीब 11 किस्म के मशरूम पर रिसर्च किया और उसके मेडिसिनल प्रभाव को चूहों पर रिसर्च किया। उन्होंने पाया कि प्रत्येक मशरूम में नर्व ग्रोथ फैक्टर मौजूद होता है। यह हमारे ब्रेन को गहरे तक प्रभावित करता है, नियंत्रित करता है और संतुलित भी बनाए रखता है। चूंकि मशरूम से नर्व ग्रोथ फैटर प्रोड्यूस होता है तो यह हमारे न्यूरोन्स सुरक्षित रखने में सहायक है साथ ही रासायनिक तत्वों से न्यूरोन की रक्षा करता है। रीशी मशरूम की अगर हम उच्च्तम किस्म की जड़ी बूटियों से तुलना करें तो अतिश्योक्ति नहीं होगी। दरअल रीशी मशरूम में ज्ञान संबंधी काबीलियत को बढ़ाने की ताकत है। साथ ही हमारी उम्र भी लम्बी करता है। अतः इससे हम अंदाजा लगा सकते हैं कि इस किस्म के मशरूम किस तरह एंटी-अल्जाइमर है।

इसे भी पढ़ेंः सप्‍ताह में एक बार सीफूड के सेवन से कम होता है अल्‍जाइमर का खतरा

मशरूम का तेल

यही नहीं वैज्ञानिकों ने यह भी पाया है कि मशरूम के कारा हमरी मेंटल हेल्थ बेहतर होती है। छोटी मोटी गलतियां करने से हम बचते हैं। इतना ही नहीं मशरूम से जो आवश्यक तेल निकलता है वह हमारे मेंटल टास्क को परफोर्म करने में मदद करता है। इससे हमारी तुरंत जवाब देने की क्षमता विकसित होती है। डा. समपाथ पार्थासैरेथी कहते हैं कि यदि हमें बेहतर जिंदगी जीनी है और अल्जाइमर जैसी बीमारियों से पार पाना है तो ज्यादा से ज्यादा ऐसे आहार का विकास करना होगा जो हमारे लिए उपयोगी है। यही नहीं तमाम आहार में मौजूद और हमसे छिपे तत्वों को जानने के लिए भी रिसर्च होना चाहिए।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Image Source- Shutterstock

Read More Diseases Related Articles In Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES586 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर