दिल्ली में डेंगू पहुंचा लगभग 500 के करीब, साथ में बढ़े चिकनगुनिया के भी मामले

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 30, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

राष्ट्रीय राजधानी में इस मौसम में मच्छर से होने वाली बीमारी डेंगू और चिकनगुनिया के मामले दिन दुनी रात चौगुनी बढ़ोतरी कर रहे हैं। हाल ही में आए विभिन्न अस्पतालों के आंकड़ों के अनुसार अब तक डेंगू के 487 मामले दर्ज किए गए हैं जिसमें से 368 मामले केवल अगस्त में दर्ज किए गए हैं। इसमें से भी डेंगू के 176 मामले पिछले सप्ताह में ही दर्ज किए गए हैं।

साउथ दिल्ली के नगर निगम द्वारा दिए गए आंकड़ों के अनुसार दिल्ली में 20 अगस्त तक डेंगू के 311 मामले दर्ज किए गए और पिछले हफ्ते में इसमें 176 मामलों की बढ़ोतरी होने से ये आंकड़े जल्द ही 500 तक पहुंचने वाले हैं। साउथ दिल्ली नगर निगम दिल्ली में सभी नगर निकायों की तरफ से डेंगू की रिपोर्ट तैयार करता है।

बीते सोमवार को साउथ दिल्ली में अपोलो अस्पताल में एक 18 वर्षीय लड़के की डेंगू के कारण मौत हो गई है। जिससे अब तक इस बीमारी से मरने वालों की संख्या पांच तक पहुंच गई है।

दिल्ली में चिकनगुनिया के मामले बढ़कर 423 हुए

डेंगू के बढ़ते मामलों के बीच में चिकनगुनिया का प्रकोप भी दिल्ली के लोगों में डर पैदा किए हुए है। दिन पर दिन बढ़ते मानसून के साथ दिल्ली में डेंगू के साथ चिकनगुनिया के मामलों में भी बढ़ोतरी हो रही है। हाल ही में दिल्ली के नगर निगम अधिकारियों की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार अब तक शहर में चिकनगुनिया के मामले बढ़कर 423 हो गए हैं।
सफदरजंग अस्पताल में 29 अगस्त तक करीब 250 मामले सामने आए हैं। दिल्ली और देश के अन्य हिस्सों से आए मरीजों के लिए गए खून के नमूनों द्वारा एम्स की प्रयोगशालाओं में जुलाई से लेकर 20 अगस्त तक 362 नमूने चिकनगुनिया के लिए पॉजिटिव पाए गए।

 

चिकनगुनिया और डेंगू के लक्षण एक जैसे

चिकनगुनिया एक वायरल बुखार जिसके लक्षण डेंगू जैसे ही हैं। यह दोनों बीमारी मच्छरों के काटने से होती है और इनका प्रकोप मानसून में अधिक बढ़ जाता है। दोनों बीमारी में तेज बुखार, जोड़ों में भयंकर दर्द, मांसपेशियों में दर्द, सिर में दर्द और जोड़ों में सूजन जैसे लक्षण नजर आते हैं। चिकनगुनिया में मरीजों के शरीर में चकत्ते आते हैं। लेकिन चिकनगुनिया डेंगू जैसा खतरनाक नहीं है। डेंगू में प्लेटलेट में अचानक कमी आ जाती है जिससे रक्तस्राव का खतरा बने रहता है।

 

Read more Health news in Hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES7 Votes 2524 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर