आहारीय मैग्नेशियम करे डाइबिटीज़ से बचाव

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 04, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

aahaariya magnesium kare diabetes se bachav

भोजन में मैग्नीशियम की पर्याप्त मात्रा आपको डायबिटिज के खतरे से बचाती है। हाल में हुए रिसर्च में भी यह बात साबित हुई है कि जिन लोगों के भोजन में मैग्नीशियम की मात्रा अधिक होती है, उनमें कम मैग्नीशियम लेने वालों की तुलना में डायबिटिज होने की आशंका आधी रह जाती है।

मैग्नीशियम युक्त आहार लेने से टाईप 2 डायबिटिज होने का खतरा 10 से 34 प्रतिशत तक कम हो जाता है। रिसर्च में शामिल किए गए लोगों ने पाया गया कि जिन लोगों ने मैग्नीशियम युक्त आहार लिए उनमें डायबिटीज के लक्षण नहीं पाए गए।


क्या है डायबिटिज

 

हमारे शरीर में हॉर्मोन्स या अन्तःस्त्रावी ग्रंथियों में बनने वाले स्त्राव की कमी या अधिकता से कई रोग उत्पन्नः होते हैं जैसे मधुमेह,थायरॉइड रोग, मोटापा आदि । इंसुलिन नामक हॉर्मोन की कमी या इसकी कार्यक्षमता में कमी आने से मधुमेह रोग या डायबिटिज रोग होता है।

 

क्या कहते हैं आंकड़ें

 

विश्व स्वास्थ्य संगठन के सर्वे के मुताबिक साल 2025 में भारत में दुनिया के सबसे अधिक पांच करोड़, सत्त‍र लाख मधुमेह रोगी होंगे। विकसित देशों में इस  संख्या को बढ़ने से रोका जा रहा है। लेकिन विकासशील देशों में खासकर भारत में ये एक महामारी की तरह फैलता जा रहा है। हर साल विश्व में लाखों डायबिटीज रोगियों की अकाल मृत्युय या आकस्मि‍क देहांत हो जाता है,  जबकि जरा सी सावधानी व खान पान पर नियत्रंण के जरिए इन जिंदगियों को बचाया जा सकता है।

 

डायबटीज के खतरे को कैसे कम करता है मैगनीशियम

मैगनीशियम कई तरह से डायबिटिजके खतरे को कम करता है। हमारे शरीर में मौजूद इंजाइम मैग्नीशियम  के साथ मिलकी शरीर में ग्लूकोज बनाते हैं,  जिससे डायबटीज का खतरा कम होता है। इसके अलावा शोधकर्ताओं ने पाया कि मैग्नीशियम का सेवन करने वालों में, शरीर में इंसुलिन बनने की प्रक्रिया में कोई समस्या नहीं होती। इसके अलावा आहारीय मैगनीशियम का ठीक प्रकार से प्रयोग करने वालों में ब्लड शुगर लेवल ठीक रहता है।

 

मैग्नीशियम की मात्रा जरुरी

 

आपके शरीर के लिए मैग्नीशियम की पर्याप्त मात्रा लेना बहुत जरुरी है।  मैग्नीशियम की कमी से आपको धमनी संबंधी रोग, डायबटीज, अर्थाराईटिस  जैसी समस्या हो सकती है। हमारे शरीर में होने वाली एंजाइम प्रतिक्रिया के लिए मैग्नीशियम जिम्मेदार है। इसकी कमी से शरीर की विभिन्न प्रक्रियाओं पर असर पड़ सकता है।


मैग्नीशियम के स्रोत

 

हरी पत्तेदार सब्जियां , साबुत अनाज, अखरोट, मूंगफली, बादाम, काजू, सोयाबीन, केले, खुबानी, कद्दू, दही, दूध, चॉकलेट और तुलसी में भी पाया जाता है।

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES28 Votes 14646 Views 2 Comments
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • Shyam Behari Mathur 02 Jul 2012

    kindly help that from where i can get the tree of steevia in Jaipur City or nearby. If possible also please give the detailed percentage like Vitamin A __%, c__%, calcium__%, magnasium__% in the above mentioned items. Many Many thanks for giving the above mentioned good article.

  • reeta07 May 2012

    nice article

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर