तनाव रहित और खुशनुमा परिवार पाने के 7 तरीके

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jul 02, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • परिवार में किसी भी मोड़ पर संवाद बंद नहीं होना चाहिये।
  • दुख के समय अपने परिवार के सदस्‍यों से जरूर सलाह लें।
  • गलती होने पर परिवार वालों के सामने उसे स्‍वीकार करें।
  • जरूरी है कि आप अपने परिवार के साथ अच्‍छा समय बितायें।

अपने करीबियों के साथ खुश रहने से बड़ा सुख और क्‍या हो सकता है। लेकिन, जीवन में केवल सुख ही सुख रहे यह असंभव है। यहां दुख, चिंतायें और अन्‍य परेशानियां भी आएंगी।

परिवार में सुख और शांति बनाये रखना एक चुनौतीपूर्ण काम है। यह पूरे परिवार की सामूहिक जिम्‍मेदारी होती है। आपको अपनी ओर से अपने परिवार में सामंजस्‍य बैठाये रखने में सभी जरूरी प्रयास करने चाहिये। यदि परिवार में सभी सदस्‍य अपनी जिम्‍मेदारियों का निर्वहन करें, तो तभी परिवार में सुख और समृद्धि बनी रहती है।

टीमवर्क है जरूरी

परिवार को एक टीम की तरह काम करना चाहिये। परिवार के हर सदस्‍य को खुशनुमा माहौल बनाये रखने में अपना योगदान देना चाहिये। सभी को मिलकर काम करना चाहिये। अभिभावकों को यह जानना चाहिये कि अपने बच्‍चों के साथ प्रभावी तरीके से कैसे बात की जाए। वहीं दूसरी ओर बच्‍चों को भी अपने विचारों की अभ‍िव्‍यक्ति करते समय सम्‍मानीय तरीका ही अपनाना चाहिये।

happy family in hindi

बना रहे आनंद

परिवार को हमेशा आपस में खुश रहना चाहिये। आनंद वैसा ही होना चाहिये जैसा आप अपने परिवार के साथ करते हैं। बच्‍चों के लिए नियम, अनुशासन और सीमायें होना जरूरी है, लेकिन माता-पिता को चाहिये कि बच्‍चों को डराने या दबाने के बजाये माहौल को सहज बनाये रखने का प्रयास करें। अपने परिवार के साथ नियमित रूप से बाहर घूमने जाएं। परिवार के साथ अच्‍छा समय बिताने से आपस में प्‍यार और मजबूत होता है।

बात कुछ भी बात होती रहे

परिवार के सदस्‍यों के बीच बातचीत हमेशा खुली होनी चाहिये। अगर कभी परिवार के सदस्‍यों के बीच किसी प्रकार की बहस हो जाए, तो आपको इससे उबरने का तरीका मालूम होना चाहिये। जब आपस में बातचीत के दरवाजे खुले हों, तो झगड़े और असहमति की आशंकायें कम होती हैं।


मुश्किल में सबसे पहले परिवार

हर किसी के जीवन में चुनौत‍ियां और परेशानियां आती हैं। ऐसे मुश्किल समय में हमें ऐसे लोगों की जरूरत होती है, जो हमारा साथ दे सकें। परिवार से अच्‍छा ऐसे मौकों पर और भला कौन हो सकता है। जब भी आप किसी परेशानी में हों, तो सबसे पहले अपने परिजनों से ही सलाह लें। मुश्किल वक्‍त में उनसे मदद लें और अपने अच्‍छा समय उनके साथ बितायें।

व्‍यवहार हो कुछ ऐसा

आप जैसा व्‍यवहार अपने साथ चाहते हैं, वैसा ही व्‍यवहार अपने परिवार के सदस्‍यों के साथ ही करें। हमारा रोजमर्रा का व्‍यवहार मायने रखता है। अगर आपका कोई प्रियजन ने आपकी उम्‍मीदों पर खरा नहीं उतरा, तो उन पर चिल्‍लायें नहीं, और न ही उन पर आरोप ही लगायें, बल्कि उन्‍हें माफ कर दें। उन्‍हें अपनी गलती सुधारने का एक और मौका दें। उनके साथ हमेशा प्‍यार से बात करें। भले ही आप उनसे असहमत हों, लेकिन उनके साथ सम्‍मान से पेश आना आपका दायित्‍व है।

happy family in hindi

साथ करें काम

जब भी मौका मिले परिवार के साथ छुट्टियां बितायें, साथ खाना खायें। धार्मिक और पारिवारिक कार्यक्रमों में एक साथ शामिल हों। परिवार के साथ ऐसे समय बिताने से आपसी समझ मजबूत होती है। और परिवार मिलजुल कर साथ रहता है।

चीजों को सुलझाने के लिए रहें तैयार

अगर आपसे कोई गलती हो गयी है, या आपको किसी बात का दुख है, तो अपने परिजनों का सामना करें और अपनी गलती के लिए माफी मांगें। अपनी गलती म‍ानना उसे सुधारने का सबसे जरूरी कदम है। इससे आपको भी हल्‍का महसूस होगा। गलतफहमी किसी भी परिस्‍थ‍िति में पैदा हो सकती है और आपके परिवार के लोग समझ जाएंगे कि भीतर से आप कैसा महसूस कर रहे हैं। अगर आप परिवार वालों के सामने जाकर माफी नहीं मांग सकते, तो आप लिखकर भी अपनी गलती के लिए खेद जता सकते हैं।

सुखी और खुश परिवार के लिए आपको हमेशा अपने से आगे अपने परिवार को रखना चाहिये। जब कोई परिवार भावनात्‍मक रूप से अधिक मजबूती से जुड़ा होता है, तो आप अंदरूनी और बाहरी दोनों चुनौतियों का बेहतर तरीके से सामना कर सकते हैं।

 

Image Courtesy- getty imges

 

Read More Articles on Mental Health in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES7 Votes 1453 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर