रोड़ रेज के दौरान अपने गुस्से को नियंत्रित करने के लिये 5 टिप्स

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 21, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • राजधानी दिल्ली में पिछले दो माह में रोड रेज के मामले सुर्खियों में।
  • सदैव यातायात के नियमों का पालन करे और हमेशा सही इंडिकेटर दें।  
  • सड़कों पर जगह के अनुपात में गाड़ियों की संख्या कहीं ज्यादा है।  
  • दूसरा पक्ष उग्र होता जाये तो तुरंत पुलिस की सहायता लें।

राजधानी दिल्ली में पिछले दो माह में रोड रेज अखबारों की सुर्खी बने रहे। आज लोगों की व्यस्तता और तनाव इतना अधिक हो गया है कि छोटी सी बात पर गुस्सा आ जाता है. अपनी ही समस्याओं ने हमें संवेदनहीन बना दिया है और हम दूसरों की समस्याओं को गंभीरता से नहीं लेते. रोड रेज के बढ़ते मामलों का एक कारण यह भी है. इस रोड रेज ने कुछ लोगों की जान तक ले ली. आप रोड रेज की समस्याओं से कैसे बचे जानने के लिए पढ़े रोड रेज से बचने के 5 टिप्स-


यातायात नियमों का पालन करें- सदैव यातायात के नियमों का पालन करे और लेन को बदलते समय सही इंडिकेटर दे. जिससे दूसरों को परेशानी न हो और गाड़ियों  के टकराव की स्थिति न बने.

 

During Road Rage in Hindi

 

जाम होने पर न मचाएं हड़बड़ी

दिल्ली की सड़कों पर गाड़ियों की लगातार बढ़ रही संख्या का एक असर रोड रेज के तौर पर भी देखने को मिल रहा है. सड़कों पर जगह के अनुपात में गाड़ियों की संख्या कहीं ज्यादा है. ऐसे में यदि किसी की गाड़ी में दूसरे की गाड़ी जरा सी छू भर जाए, तो मारपीट की नौबत आ जाती है. आये दिन आप सड़क पर ऐसे  होते देखते होंगे. सड़क जाम से पैदा हुई झुंझलाहट में भी कई बार झगड़े-फसाद के हालात बन जाते हैं. जाम होने पर आप जल्दबाजी न मचाएं और किसी और की गाड़ी यदि आपकी गाड़ी से छू जाए तो उसे टालने की आदत डाले. क्योंकि कोई जान-बूझकर ऐसा नहीं करता.

मांफी मांगना सीखिए

यदि आपकी गाड़ी किसी से गलती से टकरा जाये तो दूसरे पक्ष से मांफी मांगने में तनिक भी न झिझके. यदि आप खुद मांफी मांग लेंगे तो दूसरा पक्ष भी शांत हो जायेगा. वैसे भी मांफी मांग लेने से कोई छोटा नहीं हो जाता पर समस्या अवश्य टल जाती है.

 

During Road Rage in Hindi

 

मांफ करना सीखे

यदि कोई आपकी गाड़ी को टक्कर मार दे और आपकी प्यारी गाड़ी को नुकसान पहुंच जाए तो आपना आपा न खोये और पहले मन को शांत करे. जब क्रोध नीचे पहुंच जाये तो दूसरी की गाड़ी के पास जाएं और उसको कोई चोट तो नहीं लगे अवश्य जाने और उसे ढंग से गाड़ी चलाने की सीख दें.

पुलिस की लें सहायता

दूसरा पक्ष उग्र होता जाये और शांत कराने पर भी शांत न हों, आपके मांफी का उस पर कोई असर न पड़े तो आप उससे कहे की हम पुलिस को बुला लेते हैं फिर जो उचित होगा वही किया जायेगा. पुलिस को तुरंत इन्फॉर्म करें.


अंत में सबसे खास बात यदि आप अपने गुस्से पर नियंत्रण नहीं कर पाते और छोटी -छोटी बातों पर अधिक क्रोधित हो जाते हैं तो मनोवैज्ञानिक डॉक्टर से अवश्य सलाह लें और गुस्से पर काबू पाने के लिए योग और मैडिटेशन का सहारा लें.

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES11 Votes 1347 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर