ऑयल मसाज और कॉफी से दूर भगाएं मांसपेशियों में सूजन और दर्द!

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 19, 2017
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • कई बार अचानक आ जाती है हाथ-पैर आदि की मांसपेशियों में सूजन।
  • इसके लिए हर बार डॉक्टर के पास जाना या दवाई लगाना जरूरी नहीं है।
  • ऑयल मसाज से ठीक होता है ब्लड सर्कुलेशन और सूजन भी होती है कम।

कई बार अचानक आपके हाथ या पैर आदि की मांसपेशियों में सूजन आ जाती है और दर्द होने लगता है। इसके पीछे कई कारण, जैसे मांसपेशियों में दर्द और सूजन किसी चोट, मांसपेशियों का लगातार बिना आराम अत्यधिक उपयोग, लगातार तनाव या कुछ चिकित्सकीय परिस्थितियां आदि हो सकते हैं। हालांकि ऐसी स्थिति में हर बार डॉक्टर के पास जाने या दवाई आदि लगाना जरूरी नहीं है। मांसपेशियों के दर्द को कई प्राकृतिक व पारंपरिक तरीके से भी प्रभावी रूप से दूर किया जा सकता है। तो चलिए जानें क्या हैं मांसपेशियों में सूजन और दर्द को दूर करने के अपारंपरिक व असरदार तरीके

कई बार बहुत ज्यादा एक्सरसाइज या अचानक खिंचाव पड़ने आदि से भी मांसपेशियों में दर्द और सूजन हो जाते हैं। लेकिन आपको घबराने या परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है। आप कॉफी या चेरी के जूस जैसे रसोईघर में मिलने वाली प्राकृतिक चीजों से भी अपनी मांशपेशियों के सूजन व दर्द को दूर कर सकते हैं।

ऑयल मसाज करें

क्रैंप वाली जगहों पर हल्के हाथ से ऑयल मसाज करें। ऐसा करने से मांसपेशियों में रक्त परिसंचरण बढ़ जाता है और मांसपेशियों को गर्मी मिलती है तथा ये दर्द पैदा करने वाले लैक्टिक एसिड को दूर करता है। इसके लिए विभिन्न प्रकार के तेल जैसे ऑलिव, पाइन, लैवेंडर, नारियल, अदरक या फिर पिपरमेंट के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: मसक्यूलोस्केलेटल पेन से हैं परेशान? यहां जानिए निदान

sore muscle

ऑयल मसाज से न सिर्फ ब्लड सर्कुलेशन ठीक होता है बल्कि सूजन भी कम होती है। यदि आप खुद ठीक से मसाज नहीं कर सकते हैं तो आपको किसी ऐसे व्यक्ति से मसाज करवानी चाहिए जो अच्छी मसाज कर सकें। मसाज करने के लिए तेल को हल्का सा गर्म कर लें और फिर हल्के दबाव के साथ मसाज शुरू करें। तकरीबन 10 मिनट मसाज के बाद गर्म तौलिये को दर्द वाली जगह लपेटें, इससे आपको जल्द राहत मिलेगी।

कॉफी का सेवन

अगर आप कॉफी के शॉकीन हैं तो ये आपके लिए एक अच्छी खबर हो सकती है। सुबह को पी गई एक कॉफी आपके लिए कई तरह से लाभदायक हो सकती है। यूनिवर्सिटी ऑफ जॉर्जिया के शोधकर्ताओं के अनुसार कड़ी कसरत के बाद महिलाओं में कैफीन (तकरीबन दो कप कॉफी) के सेवन से मासंपेशियों में दर्द और सूजन दूर होते हैं। लेकिन जरूरत से ज्यादा कैफीन लेने से मांसपेशियों की ऐंठन भी हो सकती है। तो कैफीन की मात्रा का खास खयाल रखें।

पाइनऐप्पल और चेरी का जूस

मांसपेशियों में दर्द होने पर आप दवाई लेने के बजाए एक गिलास चेरी या अनानास यानी कि पाइनऐप्पल का जूस ले सकते हैं। पाइनऐप्पल में "ब्रोमेलैन" नामक एंजाइम होता है, जिसमें सूजन व दर्द दूर करने वाली दवाओं जैसे गुण होते हैं। वहीं चेरी का रस भी दौड़ने या ज्यादा एक्सरसाइज करने के बाद मांसपेशियों में होने वाले दर्द को दूर करने में सहायक होता है। इसमें एंथोक्यनिंस नामक एंटीऑक्सीडेंट होता है जो जलन को कम करता है। दर्द और जलन को कम करने के लिए चेरी का खट्टा रस पीना लाभदायक साबित होता है। इससे पैरों और हाथ की मांसपेशियों में होने वाले दर्द से आराम मिलता है।

 

इसे भी पढ़ें: जानें कैसे बॉटल मसाज से दूर होता है तलवों दर्द

प्रोटीन युक्त भोजन करें

आप एक बार में अधिक खाने के बजाए दिनभर में थोड़ी-थोड़ी देर में 20 ग्राम अच्छे गुणवत्ता वाले प्रोटीन का सेवन करने का लक्ष्य बनाएं। वहीं फैटी एसिड्स नट्स, बीजों और मछलियों में पाए जाते हैं। अगर आपको अपने लिए फैटी एसिड लेने में समस्या हो रही है तो मछली के तेल वाली 2 गोलियां हर सुबह ले लें। फल, सब्जियां, समग्र अनाज और डेरी प्रोडक्ट को अपनी नियमित खुराक में शामिल करें। साथ ही आपको अधिक से अधिक हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक तथा साग आदि खाना चाहिए।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Reas More Aricles on Pain Management in Hindi


Write a Review
Is it Helpful Article?YES1166 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर