स्वास्थ्य बीमा शब्दावली

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 29, 2011
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

एजेंट  :

वह व्यक्ति जो बीमा कंपनी द्वारा चयनित किया जाता है और जो बीमा धारक के पक्ष में काम करे । एक एजेंट की प्रामाणिकता आई आर डी ए द्वारा जाँची जाती है।

संपत्तिभ/ एसाइनी :

वो व्यक्ति जो बीमा योजना के लाभ उठा सकता है ।

दावा/ क्लेम :


यह वो प्रार्थना होती है जो कि बीमा धारक द्वारा बीमा कंपनी से की जाती है जिसमें की बीमा निर्माताओं को स्वास्य्ना  की सेवाओं की परिपूर्ति करनी होती है । आम तौर पर यह प्रक्रिया उन लोगों के लिए होती है जो कि स्वास्य् से बीमा कंपनी को सेवा उपलब्ध कराते हैं । इस सेवा प्रदाता को थर्ड पार्टी एडमिनिस्ट्रेटर कहते हैं ।

बीमा का प्रमाण पत्र :

यह वो प्रमाण पत्र होता है जो कि लाभ और कवरेज की प्रक्रियाओं का वर्णन करता है जो कि बीमा योजना के लिए दावा करता है । यह कवर राशि और सम्बन्धित नकदी सीमा को भी बताता है ।

संचयी बोनस/कम्यूलेटिव बोनस  :

यह दावे में किसी प्रकार की छूट के ना होने जैसा है । जिस राशि का बीमा होता है वो प्रति वर्ष 5 प्रतिशत बढ़ती जाती है । लेकिन संचयी बोनस खर्च का वह विषय है जो कि कैपिटल सम एश्योर्ड से 50 प्रतिशत के नीचे नहीं जा सकता और इस योजना का निरंतर नवीकरण होना चाहिए  ।

कैशलेस क्लेम /नगदहीन दावा :

जैसा कि इस शब्द से पता चलता है, यह वो सेवा है जो व्यक्ति को चिकित्सा बिना नगदी के दी जाती है । बीमा कंपनी चिकित्सा संगठनों के बड़े नेटवर्क से जुड़ी होती है जैसे नर्सिंग होम और दूसरे अस्पताल । बीमा धारक अपनी बीमा योजना के अनुसार एक पैसा खर्च किये बिना ही इन नेटवर्क अस्पतालों में चिकित्सकीय सुविधा पा सकता है । लेकिन यह ध्यान रखने योग्य बात है कि कैशलेस मेडिक्लेम सेटलमेंट एक ऐसा विषय है जिसकी बहुत सी सीमाएं हैं ।

कवरेज राशि:

यह वो अधिकतम राशि है जो कि दावे के समय दी जाती है । इस राशि को सम इन्योनेट र्ड या सम एश्योर्ड भी कह सकते हैं । आपके द्वारा जो राशि निश्चित की गयी और जो कवरेज आप देना चाहते हैं उसके अनुसार आप स्वास्य्रा  बीमा योजना का प्रीमियम तय कर सकते हैं ।

क्रिटीकल इलनेस पॉलिसी / गंभीर बीमारी की योजना :

यह वो गंभीर बीमारियां हैं जिनकी व्याख्या बीमा कंपनियों द्वारा की जाती है । मल्टिपल स्टेज आरोसिस, कैंसर, अंग प्रत्यारोपण और दूसरी बड़ी बीमारियां गंभीर बीमारियों की श्रेणी में आती हैं । अगर बीमा धारक को कोई गंभीर बीमारी हो जाती है तो ऐसे में बीमा कंपनी कुछ नियम व शर्तों को देखते हुए बीमारी का पूरा खर्च उठाने के लिए तैयार रहती हैं ।

विकलांगता बीमा :

यह बीमा का वह रूप है जो कि आंशिक विकलांगता या पूर्ण विकलांगता की स्थिति में बीमा धारक विकलांग व्यक्ति को हर महीने कुछ पैसे देते है । इस विकलांगता का कारण बीमारी या दुर्घटना हो सकती है लेकिन यह पैसे तभी दिये जाते हैं जब कि विकलांग उस व्यक्ति के व्यवसाय को प्रभावित कर दे ।

निवास का अस्पताल/ डोमिसिलियरी हास्पिटलाइजे़शन :

डोमिसिलियरी हास्पिजटलाइजे़शन वो स्थिति है जबकि मरीज़ की चिकित्सा घर पर ही की जाती है जबकि वह अस्पताल ले जाने की स्थिति में ना हो । यह उस स्थिति में भी हो सकता है जब मरीज़ को चिकित्सा के दौरान अस्पताल में वो सुविधाएं नहीं मिल सकतीं जो कि घर पर मिलती हैं ।

बहिष्करण:

यह वो बीमारियां या स्थितियां हैं जो कि बीमा योजना के अंतर्गत कवर नहीं होतीं । यह दो प्रकार की हो सकती...

Write a Review
Is it Helpful Article?YES2 Votes 11073 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर