स्वच्छ और किटाणुरहित कार्यस्थल

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 28, 2011
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

office ki mool bateकार्यस्थल को सुरक्षित और स्वच्छ रखने के लिए कुछ सुझाव -

•    अपने हाथों को हमेशा साबून और पानी से करीब २० सेकड तक धोएं। ये कई तरह के सामान्य संक्रमणों को रोकने के लिए सबसे बढ़िया उपाय है। यदि ये उपलब्ध नहीं है, तो हाथों को धोने के लिए एक अल्कोहल युक्त सेनिटाइजर का प्रयोग किया जा सकता है।
•    खांसते या छींकते समय अपने मुंह और नाक को ढंकने के लिए रूमाल या टिश्यू पेपर का प्रयोग करना चाहिए। यदि टिश्यू पेपर नहीं है, तो अपनी कोहनी को मुंह के आगे रखकर खांसना या छींकना चाहिए ।
•    यदि संभव हो, तो अपने सह्कर्मी, ग्राहक से करीब ६ फीट की दूरी बनाए रखें।
•    अपने सह्कर्मी के साथ मेज या ऑफिस के सामान नहीं बांटना चाहिए।  
•    कर्मचारियों को बुखार ठीक होने के बाद कम से कम 24 घंटों के लिए घर पर ही रहना चाहिए, (इसका अर्थ यह है कि जब दवा के बगैर बुखार के कोई लक्षण नज़र नहीं आ रहे हों)

कार्यस्थल में एच-1-एन-1 संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए और कार्यस्थल को सुरक्षित बनाने के लिए उसमे ज़रूरी बदलाव करने चाहिए । कार्यस्थल खुला और हवादार बनाने के लिए कदम उठाने चाहिए क्योंकि यह ताज़ी हवा का स्त्रोत बनाए रखने में मदद करता है । इग्ज़ॉस्ट पंखे लगाने चाहिए, यह हवा मे स्थित संक्रमण फैलाने वाले अणुओं की मात्रा को हटाने और कम करने में मदद करते हैं ।

मेडिकल और निजी छुट्टी लेना -

यह सुनिश्चित करने के लिए कि बीमार कर्मचारी काम पर न आए, छुट्टी की पॉलिसी को लचीला और आम आदमी के स्वास्थ्य को ध्यान में रखकर बनाए । साथ ही अपने कर्मचारियों को इन पॉलिसी के बारे में अवगत कराएं। यदि कर्मचारी को फ्लु जैसी कोई बीमारी है, तो कर्मचारियों पर अनुशासनात्मक कार्यवाही नहीं होनी चाहिए ।

कार्यस्थल को स्वच्छ और किटाणुरहित रखना –

एच-1-एन-1 वायरस कठोर सतह पर 24 घंटे जीवित रह सकता है, इसीलिए दरवाजों के हैंडल, रिमोट कंट्रोल, हैण्ड रैल्स, कम्प्युटर का कीबोर्ड जैसी चीजों के बाह्य भागों को साफ रखना चाहिए। किसी किटाणुनाशक से सारी वस्तुएं साफ करें। 

कर्मचारियों में स्वाइन फ्लू के लक्षणों पर नजर रखें और पीड़ित लोगों को बाकी लोगों से अलग रखें, और उन्हें जल्दी घर जाने के लिये कहें । यदि उन्हें जल्दी अलग रखने की सुविधा न हो, तो पीडितों को घर जाने से पहले एक सर्जिकल मास्क पहनने को कहें।
 
इन सभी बातों के साथ साथ अपने कर्मचारियों को फ्लू के लक्षण, इस वायरस के फैलने का माध्यम और ऐसे हालात, जो कि संक्रमण के खतरे को बढाते हैं, के बारे मे जानकारी होनी चाहिए । संक्रमण के प्रसार के खतरे को कम करने के लिए कार्यालय में कर्मचारी गणों को घर में रहने की और अन्य लोगों के साथ संपर्क न करने की सलाह दें, यदि उन्हें सामान्य फ्लू जैसी बीमारी हो, जैसे (बुखार या बढा हुआ तापमान, अत्यधिक थकान, सिरदर्द, ठण्ड लगना या नाक निरंतर बहना, गले में खराश, कफ, सांस लेने में तकलीफ, भूख कम लगना, मांसपेशियों में बेहद दर्द, पेट खराब होना, जैसे कि उल्टी या दस्त होना), अधिकतर रोगी 3 से 5 दिनों में ठीक हो जाते हैं !


कार्यालय में स्वाइन फ्लू पर रोक लगाने के लिए


हर कर्मचारी में संक्रमण से बचाव के लिए सिर्फ टीकाकरण पर ही भरोसा नहीं करना चाहिए, क्योंकि यह शायद स्वाइन फ्लु के संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए पर्याप्त नहीं होंगे । मालिक को स्वाइन फ्लु के संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए कुछ अतिरिक्त कदम उठाने होंगे । मालिक को एक लिखित और स्थान के अनुसार संक्रमण नियंत्रण योजना को लागू करना होगा । इस कार्यक्रम के अंतर्गत निम्नलिखित बातों का समावेश होना चाहिए -


•    कर्मचारियों में स्वाइन फ्लु का खतरा
•    टीकाकरण और दवा आकलन
•    सुरक्षित और स्वच्छ कार्यस्थल
•    कार्यस्थल को और सुरक्षित बनाने के लिए बदलाव
•    मेडिकल लीव पॉलिसी
•    कार्यस्थल को स्वच्छ और किटाणुरहित रखना
•    संक्रमित कर्मचारी की पह्चान और उसको सबसे अलग रखना ।

टीका लगवाएं - स्वाइन फ्लू का टीका अवश्य लगवाए, जैसे ही टीका उपलब्ध हो, क्योंकि एच-1-एन-1 संक्रमण से बचाव के लिए यह सबसे बढ़िया रास्ता है ।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES10751 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर